Tuesday, April 28

इंतेहा हो गई ब्लॉग आतंकवाद की (टिप्पणियों पर पूरा नियंत्रण रखिए)

क्या बेनामी टिप्पणियों ने इन दिनों ब्लॉग जगत में हलचल मचाई हुई है? डॉ. रूपचंद्र शास्त्री मयंक जी की इस पोस्ट और मुंबई टाइगर ब्लॉग पर इस पोस्ट को पढ़ने से तो कुछ ऐसा ही लगता है। कोई बेनामी टिप्पणी कर शांत पानी में कंकड़ उछालता है और उसके बाद जैसे प्याले में तूफान आ जाता है। मुंबई टाइगर जी ने तो इस तरह की बेनामी टिप्पणियों के लेखक का पता लगाने की मुझसे अपील तक की है-


यहां मेरा जवाब है कि ब्लॉगर पर यह एक लाइलाज बीमारी है और इसका बचाव ही उपचार है।

मैं अनुरोध करना चाहूंगा कि अगर ब्लॉगर पर बेनामी टिप्पणी के लेखक का आप पता लगाना चाहते हैं, तो यह न तो फिलहाल संभव है और न ही नैतिक रूप से प्रशंसनीय। टिप्पणी की यह सुविधा है ही इसलिए, ताकि कोई अपनी गोपनीयता बरकरार रखते हुए अपनी बात कह सके। आपको यह मंजूर नहीं है तो या तो आप केवल पंजीकृत पाठकों को ही टिप्पणी का अवसर दें या फिर टिप्पणियों की प्रकाशन पूर्व स्वीकृति वाला विकल्प चालू रखें।

पुराने साथी बचाव की ये सभी तकनीकें अच्छे तरीके से जानते हैं। लेकिन नए साथियों के लिए यह जानना जरूरी है कि वे बचाव किस तरह कर सकते हैं। उनके लिए मैं तीन तरह के हथियारों की जानकारी दे रहा हूं-

हथियार-1

केवल पंजीकृत पाठकों को ही टिप्पणी का मौका दें-

इसके लिए ब्लॉगर पर साइन इन कीजिए। सैटिंग्स में जाइए। कमेंट्स में जाइए और नीचे चित्र में दिखाए अनुसार Registered Users - includes OpenID विकल्प को ऑन कर दीजिए। सबसे आखिर में सैटिंग्स को सेव करना मत भूलिए।



हथियार- 2

टिप्पणियों को प्रकाशन से पूर्व जांचिए और उसके बाद प्रकाशित कीजिए- कमेंट मोडरेशन

इसके लिए ब्लॉगर पर साइन इन कीजिए। सैटिंग्स में जाइए। कमेंट्स में जाइए और नीचे चित्र में दिखाए अनुसार Comment moderation को Always पर सैट कर दीजिए। अगर आप सभी कमेंट की सूचना अपनी ई-मेल में मंगाना चाहते हैं तो यहां अपना ई-मेल पता भी भर दीजिए। सबसे आखिर में सैटिंग्स को सेव करना मत भूलिए।




हथियार- 3

अवांछित टिप्पणी को डिलीट कीजिए-


मान लीजिए आपके ब्लॉग पर तमाम सावधानी के बावजूद कोई अवांछित टिप्पणी प्रकाशित हो चुकी है और इसे हटाना चाहते हैं तो इस पोस्ट में बताए गए तरीके से आप टिप्पणी को डिलीट कर दीजिए।

ब्लॉग पर टिप्पणी का विकल्प बंद कीजिए (मेरी तरफ से अनुशंसित नहीं)- अगर आप अपने ब्लॉग पर किसी भी पोस्ट पर टिप्पणियों का विकल्प रखना ही नहीं चाहते तो नीचे दिया गया तरीका अपनाइए-

इसके लिए ब्लॉगर पर साइन इन कीजिए। सैटिंग्स में जाइए। कमेंट्स में जाइए और नीचे चित्र में दिखाए अनुसार Comments विकल्प को Hide पर सैट कर दीजिए। सबसे आखिर में सैटिंग्स को सेव करना मत भूलिए।



किसी खास पोस्ट पर टिप्पणी का विकल्प बंद कीजिए

अगर आप किसी खास पोस्ट पर टिप्पणी सुविधा को बंद करना चाहते हैं तो संबंधित पोस्ट के एडिटर में जाइए और नीचे दिए गए विकल्प को चुनिए।



उम्मीद है आपको टिप्पणियों पर पूरी तरह नियंत्रण रखने की जानकारी हो गई होगी।





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

36 comments:

  1. आशीष जी,

    कई बार आपके बारे में चर्चा देखा और आज आपको पढ़ रहा हूँ। बहुत अच्छा लगा की आप कम्प्यूटर के जानकार होने के साथ साथ बहुत अच्छा लिखते भी हैं। कभी कभी मदद के लिए गुहार लगाऊँगा।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  2. प्रियवर आशीष जी!
    आपने बेनामी टिप्पणीकारों की रोक-थाम के उपाय सुझाये हैं। जो बहुत अच्छे हैं।
    "या तो आप केवल पंजीकृत पाठकों को ही टिप्पणी का अवसर दें या फिर टिप्पणियों की प्रकाशन पूर्व स्वीकृति वाला विकल्प चालू रखें।"

    आपकी इस बात से मैं सोलहों आने सहमत हूँ।
    आपने अच्छे सुझाव दिये हैं।
    आप इन्हें हथियार कह सकते हैं
    परन्तु मैं तो इन्हें नुस्खे ही कहूँगा।
    ये रामबाण हैं।
    भैया जी!
    अब इन्हीं से उपचार करूँगा।
    तभी विवादों से बचा जा सकता है।

    ReplyDelete
  3. इसे कहते है कम्प्यूटरी - आतंकवाद!!!

    ReplyDelete
  4. आशीष जी
    मैं नहीं मानता कि हमें बेनामी टिप्पणियों के लेखकों से सावधान रहने की जरुरत हैं। अगर हम या आप लिखने के लिये स्वतंत्र हैं तो टिप्पणिकार टिप्पणी देने के लिये। हम में से भी बहूत छदम नाम से लिखते हैं, तो फ़िर हम बेनामी टिप्पणिकार को क्यों रोके। यह मेरी व्यक्तिगत राय हैं,और ऐसा नहीं हैं कि हर कोई इस से इत्तेफ़ाक रखे। लेकिन अगर हम में सच लिखने की हिम्मत हैं, तो बेनामी टिप्पणी भी बर्दाश्त करनी पड़ेगी।

    ReplyDelete
  5. बहुत सामयिक पोस्ट है. सभी इसको आजमाएं. यह काफ़ी आरामदायक है और सभी से इस बात का पल्ला कभी ना कभी पड चुका होगा. ऐसा मेरा मानना है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. bahut hi achhi jankari di hai.

    ReplyDelete
  7. अच्छी जानकारी दी है आपने आशीष जी ...

    ReplyDelete
  8. हथियार - 2 ही सर्वोत्तम है!

    ReplyDelete
  9. इधर समस्या उधर समाधान!
    वाह आशीष जी बहुत खूब विधिवत जानकारी दी है .
    आखिरी वाले आप्शन की बहुतों को जानकारी नहीं होगी शायद..जैसे पोस्ट में समय तारिख के विकल्प वाला
    आप्शन बहुतों को नहीं पता था.अनाम टिप्पणीकर्ता की वजह से यह जानकारी भी मिल गयी.

    ReplyDelete
  10. टिप्पणी-रूपी आतंकवाद से निपटने के लिये इस तकनीकी AK-47 को हमारे हाथों में देने के लिये धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. aashish bhai, bahut hee kaargar hathiyaar diye visheshkar unke liye jo benamee tippnniyon se aahat hokar kai baar blog likhna chhodne kaa man bana chuke the, vaise kai mujhe jaise bhee hain jinpar chikne ghade kee tarah koi fark hee nahin padtaa.. badhiyaa jaankaaree sir jee...

    ReplyDelete
  12. आपका द्वारा बताए गए सारे उपायों को अमल में लाने के बाद भी कह रही हूं .. कि कितना भी उपाय किया जाए .. तंग करनेवाले अपना गलत आई डी बनाकर भी कमेंट कर ही देंगे .. क्‍यों न सहने की शक्ति ही विकसित की जाए।

    ReplyDelete
  13. @इंतेहा हो गई ब्लॉग आतंकवाद की (टिप्पणियों पर पूरा नियंत्रण रखिए)
    यहां मेरा जवाब है कि ब्लॉगर पर यह एक लाइलाज बीमारी है और इसका बचाव ही उपचार है।
    ....
    हथियार-1
    केवल पाठकों को ही टिप्पणी का मौका दें-
    ....
    हथियार- 2
    टिप्पणियों को प्रकाशन से पूर्व जांचिए और उसके बाद प्रकाशित कीजिए- कमेंट मोडरेशन
    ....
    हथियार- 3
    अवांछित टिप्पणी को डिलीट कीजिए-
    ....................................................
    सेवा मे श्रीमान आशिषजी
    आपने मेरे ब्लोग "मुम्बई-टाईगर" पर आपके नाम कि गई अपील की तुरत फुरत मे जो सज्ञान ली उस बात से अब मेरा भरोसा यकिन मे बदल गया है कि हमारे ब्लोग जगत के टेक्निकल टीम एक ना एक दिन इस बेनामी शब्द को नामी बनाने मे सफल होगा।
    आपकी इस विशेष ब्लोग -आतंकवाद पर जारी पोस्ट का तेह दिल से स्वागत करता हू। कमेंट मोडरेशन सिस्टम ही ठीक उपाय है।
    ..............
    क्षमा करे, मेरे मन शिष्य कि भॉति कुछ सवाल भी खडे हुऐ है आपके विशेष सलाह के बाद। अब आप डाक्टर है हम मरीज।
    "बेनामी-टीपणी" को आपने लाईलाज बिमारी है और इसका बचाव ही उपचार है बताया। और तीन दर्दनिवारक गोलिया लिख दी कि बेटा लिए जा... लिऐ जा....जब तक असर रहेगा दर्द नही होगा ।
    आशिषजी,
    कुछ practical हुआ जाऐ- जैसे कोई नया नया ब्लोग बनाता है अक्सर पहली टीपणी करने वाला, ब्लोगर को सलाह देता है कि-
    "वर्ड वेरिफेकेशन वाला ऑपशन बन्द कर दे", ताकि टिपणीकार अधिक से अधिक एवम जल्दी से जल्दी ढेर सारी टिपणीया कर सके। अर्थ हुआ पाठक के पास टाईम नही है कि वो सुरक्षा के ताम झाम मे चार वर्ड लिखना नही चाहता है।
    तब यह सवाल उठता है कि पंजीकृत होने के लिऐ किसके पास वक्त है। शायद हिन्दी ब्लोग जगत मे पंजीकृत पाठकों वाले ब्लोग गिनती के ही होगे, और होगे, तो उसके पाठक ना के बराबर होगे। अगर पुरा हिन्दी ब्लोग जगत पंजीकृत सदस्ययो का रिवाज शुरु करे तो कही बात बने। अन्यथा जिस ब्लोग ने बचाव के कारण पंजीकृत सिस्टम लागु किया तो बेचारा "बेनामी टिपणीकार' कि टीपणीयो से ज्यादा अपने अकेले रहने से दुखी हो जाऐगा। अर्थ है इस तरह के ईलाज से साईड इफेक्ट कि सम्भावना है। यह उपाय लघु समय तक ठीक है दिर्धकालिन समय के लिऐ हिन्दी ब्लोग के विकास मे अडसन है।

    मेरे हीसाब से इस बेनामी-टीपणी आतकवाद को छुपाकर रखने से, डिलिट करने से, मोडरेट करने से, पीडित ब्लोगर अकेला व्यथित-दुखी रहता है- क्यो कि वो ईमेल बोक्स मे पढ ही लेता है कि बेनामी ने क्या ब़का है। आखिर मे एक दो घन्टे के मानसिक सघर्ष के बाद पिडीत ब्लोगर आपकी यानी जनता कि अदलात मे पहुचता है और कुछ घन्टो बाद मामला शान्त हो जाता है।

    मेरे हीसाब से दो उपाऐ है इसके प्रथम तो -
    (A) नो मोडरेशन, नो पंजीकृत, नो डिलीट, नो नैतिकता, सिद्धा छाप डालो और जनता दरबार मे उस बेनामी कि धजिया उडा दो।
    ....
    (B) दुसरा हमे चोर को प़कड कर उसे दण्डीत करने के लिऐ हमे इस ओर वैज्ञानिक अविष्कार करना चाहीऐ भले समय लगे । विदेशी सॉफ्टवेयर कम्पनियो से मदद ली जानी चाहिऐ। एवम एक अखिल भारतीय हिन्दी ब्लोग जगत मे एक ऐसा सगठन होना चाहीऐ जो सिर्फ ब्लोगरो के हीतो कि रक्षा करे, सही का पक्ष सुने, गलत को दण्डित करे, और नई नई सुरक्षा प्रणालियो को देश मे लाकर हिन्दी ब्लोग को भविष्य मे आने वाले विदेशी खतरो, चोरे से भी बचना पडेगा, अगर हम तैयार है तो मुकाबला कर पाऐगे नही तो एक एक व्यक्ती हारकर ब्लोग कि दुकाने बन्द कर देगा फिर सारथी वाले शास्त्रीजी का २०१० तक वाला सपना सपना ही रह जाऐगा।
    भाई आशिषजी।
    मै यह बाते आपसे इस लिऐ कह रहा हू क्यो कि मै छोटा हू और मेरा अधिकार बनता है आपको कहने के लिऐ क्यो कि मेरी जानकारी मे आप अकेले ही दिख रहे सर्जन, डॉक्टर मे, जो इसका सटिक, लाजवाब, ओर असरदार इलाज ढुढे सके। कोई भी इस बातको अन्यथा ना ले।

    क्षमा करे लिखने मे शब्दो मे, भावनाओ मे, सम्बोधन मे कही आपकी भावनाओ को आहत किया हो तो सविनय क्षमा चाहता हु छोटा समझके माफ कर देना।-आभार

    आपका अपना
    महावीर बी सेमलानी "भारती"
    हे प्रभु यह तेरापन्थ
    मुम्बई टाईगर

    ReplyDelete
  14. टिप्प्णियों के यह उपाय पहले से ही उपयोग में लाये जा रहे हैं । और कुछ नया भी किसी की मनोदशा को तो बदल नहीं सकता ।

    सभी नुस्खों के सम्यक परिचय के लिये धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  15. माडरेशन सबसे अच्छा उपाय है।

    ReplyDelete
  16. Respected Shastri ji,why are you so annoyed by the views of yr readers?You are an experienced fellow and know well haow one should react in a given siyuation.
    No need to make a hue and cry on such issues.You will accept that blogging is not literature.It is a technical thing involved in different contents ie socio economic approach,literature .
    arts etc.If you are not ready for comments then why on internet?
    No moderation should be forced on bloggers, yes if one dont like comments ,he reserves the right to stop the flow.
    With regards for you and all the winners concerned,I must say in beggining you said These bloggers have given right answers and then you are giving sahitya shree,why and for what?Computer Science is not literature,who says like this?This is a wrong impression provided.
    I respect all the bloggers and have no objection for their awards but my humble request is that give right honour for right work or contribution,not Sahitya shree for a puzzle contest.It is not advisable.In short you are the chairperson and reserve the right for giving honour to anybody you wish but kindly dont try to comment on others that they dont write correct spellingof words.One cant right but can comment.You dont need to be a master in Literature to make a comment on poems of a master poet.
    I have great respect for you ,bhai Ashidh ji ,Vandana Dubey ji and Udantashtari ji.But please ,dont try to be rigid,there is no threats to you all from blogger friends,no Literary Talibans have emerged and who is not happy with the comments can stop the inflow.Dont be individualistic and dont issue fatwas.With regards to everybody
    sincerely
    Dr.Bhoopendra

    ReplyDelete
  17. डा0 भूपेन्द्र कुमार सिंह जी!
    आपको मुझसे शिकायत थी तो मेरे ही ब्लाग पर टिप्पणी करते।
    आशीष जी के ब्लाग पर इस टिप्पणी का औचित्य क्या है? मेरी छोटी सी बुद्धि इसे समझने में सर्वथा असमर्थ है।
    आप विद्वान ब्लागर हैं। अच्छा स्रजन करते हैं।
    आपकी इस टिप्पणी का अंकन तो मेरे ब्लाग पर ही परिहार्य था।
    आप यकीन माने मैं आपकी टिप्पणी को पूरा आदर सम्मान देता। लेकिन.......।
    आपकी बात मुझ तक पहुँच गयी है। आपकी किसी रचना पर टिप्पणी में आपको इसका उत्तर अवश्य मिल जायेगा। लेकिन वो असंगत नही होगा। सदभावी, आपका-

    ReplyDelete
  18. अच्छी जानकारी,हमेशा की तरह। भुक्तभोगी तो बचाव मे लग गये हैं हां नये लोगों को ज़रूर मदद मिलेगी। वैसे आप लोगो पर मेरा भी भरोसा है कि एक न एक दिन आप लोग इस बीमारी का ईलाज ज़रूर ढूंढ लेंगे।

    ReplyDelete
  19. जानकारी पुरानी जरूर है लेकिन बहुत काम की है । वैसे टिप्पणी कर्ता के कुछ गलत लिख देने के बाद उसे डीलीट कर देना ही अच्छा उपाय है ।

    ReplyDelete
  20. नाम छुपाकर टिपण्णी करना पाठक का अधिकार है.. जो गूगल ने खुद दिया है ऑर जैसा आशीष जी ने कहा भी है कि ये सही है.. आखिर हम वोट भी तो अनोनम्स्ली करते है.. जो अपने ब्लॉग पर बेनामी टिपण्णी नहीं चाहते वो इस ऑप्शन को हटा दे अपने ब्लॉग से जैसा मैंने कर रखा है.. आशीष को बधाई इस विषय पर लिखने केलिए

    ReplyDelete
  21. आपके सारे टिप्स बहुत ही अच्छे होते हैं...
    मैंने अपने एक ब्लॉग को दुसरे ब्लॉग पर इंपोर्ट कर लिया है। लेकिन अब मुझे लगता है की यह ठीक नही लग रहा। क्या मैं इसे हटा सकता हूं...
    दूसरी बात की मैं चाहता हूँ की एक ब्लॉग का फीड दुसरे में लगा दूं क्या यह हो सकता है...

    ReplyDelete
  22. bhut kam ki baat batai sukriya

    please visit my blog and give ur valuable commets.

    Kasim

    ReplyDelete
  23. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  24. we are ready..
    with ashish's weapon
    meet

    ReplyDelete
  25. आशीष जी ,

    किसी ने मेरे ब्लॉग पे टिप्पणी की है -

    youmania said...
    aapka blog bahut popular hai
    aap is par google ki ads kyon nahin activate karti
    paisa bhi kamaiye or naam to hai hi.

    April 28, 2009 11:07 PM

    मैंने जानना चाहती हूँ क्या ये संभव है ....??

    ReplyDelete
  26. Harkirat Haqeer जी,
    आपने गूगल की एडसेंस सेवा और हिन्दी ब्लॉग को लेकर इसकी स्थिति के बारे मे जानना चाहा है। स्पष्ट कर देना चाहूंगा कि गूगल की एडसेंस सेवा हिन्दी भाषा पर समर्थित नहीं है। ज्यादा जानकारी आपको इस पोस्ट से मिल सकती है- Monetise आया तो क्या, हिन्दी ब्लॉगर एडसेंस से उम्मीद न पालें

    ReplyDelete
  27. नमस्ते आशीष जी,

    मेरे दोस्त की परेशानी यह है की उसकी ऑरकुट id के पासवर्ड को किसी ने हैक कर लिया है. तो हमें जिसने पासवर्ड हैक किया है उसका आईपी एड्रेस और लोकेशन पता करनी है. आपको पता है की साइबर crime एक बहुत बड़ा जुर्म है. अगर आप मेरी इस मामले में सहायता कर सकते है तो मैं आपका तहे दिल से सुकर्गुजार होऊंगा.

    आपका अपना ब्लोगी भाई

    अजय कुमार बैरी
    परलीका (राजस्थान)
    09460102521

    ReplyDelete
  28. नमस्ते सर,
    aapse एक बात puchna चाहता हूँ की ब्लॉगर के द्वारा ब्लॉग पर ऑडियो गाने किस प्रकार लगा सकते हैं...
    बताये सर,
    अजय कुमार बैरी
    परलीका (राजस्थान)
    09460102521

    ReplyDelete
  29. yah ip adress kaise apne blog par lagaya ja skta hai bataaye

    ReplyDelete
  30. अच्छी जानकारी व उपाय ..!!

    ReplyDelete
  31. आशीष जी , हर बार की तरह इस बार भी अच्छी जानकारी दी है | लेकिन मेरी समझ से ब्लोगिंग करने वाले को ही अच्छी और बेतुकी टिप्पणी पढने के लिए खुद तैयार रहना चाहिए | अरे टिप्पणीकार तो अपनी टिप्पणी के द्वारा अपनी बात कहने के लिए स्वतंत्र है | इसलिए ब्लोगर को टिपियाते रहना चाहिए और लोगो को टिप्पणी करते रहना चाहिए |
    shashi singhal

    ReplyDelete
  32. bahut hi achhi jankari di hai.

    ReplyDelete
  33. जानकारी पुरानी जरूर है लेकिन बहुत काम की है । वैसे टिप्पणी कर्ता के कुछ गलत लिख देने के बाद उसे डीलीट कर देना ही अच्छा उपाय है ।

    ReplyDelete