Posts

Showing posts from 2011

ब्लॉगर अब बिल्कुल ठीक काम कर रहा है

Image
अगर आप ब्लॉगर (ब्लॉगस्पॉट) प्लेटफॉर्म पर ब्लॉगिंग करते हैं, तो इस संदेश से आप भी रूबरू हुए होंगे।

Blogger is currently unavailable.
Blogger is unavailable right now. We apologize for this interruption in service

36 घंटे से भी ज़्यादा समय तक बंद रहने के बाद आख़िरकार ब्लॉगर इंजीनियरों ने इसे दुरुस्त कर दिया है। अब आप इसके जरिए पोस्ट पब्लिश कर सकते हैं और कमेंट्स भी कर सकते हैं।

शायद 'फ्राइडे द थर्टीन के अपशकुन ने ब्लॉगर को भी अपनी चपेट में ले लिया। इस परेशानी की वजह क्या रही, यह ब्लॉगर ने स्पष्ट नहीं किया है, लेकिन यह संकेत ज़रूर दिए हैं कि इस दरम्यान अगर कोई पोस्ट या कमेंट डिलीट हुआ है तो ब्लॉगर उसे वापस ले आएगा। इस दौरान दर्जनों साथियों ने मुझे मेल व दूसरे संदेशों से बताया कि इस असुविधा की वजह से वे कितने परेशान हो रहे हैं।

दरअसल ब्लॉगर को पीएसटी समय के अनुसार 11 मई को रात दस बजे (भारतीय समयानुसार 12 मई को सुबह साढ़े दस बजे) कुछ मेंटेनेंस करना था। यह मेंटेनेंस करीब एक घंटे तक चलने वाला था, लेकिन शायद इस दौरान कुछ गड़बड़ हुई और ब्लॉगर की सेवाएं 36 घंटे से ज़्यादा समय के लिए बाध…

ब्लॉग पर संचालित चित्र पहेलियों का जवाब देना कितना आसान!

Image
टिनआई ऐसी रिवर्स इमेज सर्च वेबसाइट है, जो किसी तस्वीर से समानता रखने वाली दूसरी तस्वीरों के लिंक्स को इंटरनेट पर खोजने का काम करती है। हिन्दी ब्लॉग जगत में पहेलियों का बड़ा योगदान रहा है। कुछ ने इन्हें मनोरंजन का साधन माना है, तो कुछ ने जानकारी बढ़ाने का। कुछ लोगों का मानना है कि पहेलियां ही हैं, जिनके माध्यम से ब्लॉग जगत के साथियों के बीच नियमित वार्तालाप का सिलसिला चलता है। ताऊ डॉट इन पर हर शनिवार को संचालित पहेली को ही लीजिए। किस तरह से दर्जनों ब्लॉगर साथी नियमित जुटते हैं और एक संवाद का सिलसिला चल पड़ता है। अन्य चिट्ठों पर संचालित पहेलियों पर भी ऐसी ही स्थिति देखी जा सकती है।

इन पहेलियों की सफ़लता से विचलित होकर चँद लोग इन दिनों अनैतिक आचरण कर रहे हैं। वे पहेलियों के प्रकाशित होते ही इनके हल अपने ब्लॉग पर प्रकाशित करने लगे हैं, जिससे प्रतिभागियों का मज़ा कम हो रहा है। कई बार संचालकों को ताज्जुब होता है कि किस तरह पहेली के प्रकाशन के चंद मिनट बाद ही इनके जवाब लीक हो जाते हैं। मैं आपको बताना चाहूंगा कि इसकी वजह विषय ज्ञान नहीं, बल्कि तकनीकी चालाकी है।

यह तकनीकी चालाकी बहुत आसान है और…

Followers