Posts

Showing posts from 2010

pdf, word, excel, power point, pagemaker जैसी फाइलों को पोस्ट में दिखाइए (digital publication)

Image
कई बार ज़रूरत होती है कि कंप्यूटर की किसी ड्राइव में मौजूद pdf, word, excel, power point, pagemaker या ऐसे ही किसी दूसरे फॉर्मेट की फाइल को ज्यों की त्यों पोस्ट के साथ दिखाया जाए। कई बार कुछ पुस्तकें (स्वलिखित या अन्य) सॉफ्ट कॉपी के रूप में हमारे पास होती तो है, लेकिन उन्हें पोस्ट के रूप में पब्लिश करना लगभग नामुमकिन होता है। टेक्स्ट को पब्लिश भी किया जाए, तो भी उन्हें पुस्तक के रूप में दिखाना संभव नहीं होता। ऐसी स्थिति में यह वेबसाइट कमाल की साबित हो सकती है, जो digital publication की सुविधा मुफ्त में उपलब्ध कराती है।

सबसे पहले आप यह नमूना देखिए।
(ई-मेल या फीड रीडर से पढ़ने वाले पाठक कृपया मूल पोस्ट पर आएं)



अंक पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें

 असिक्नी नाम की यह पत्रिका करीब 174 पृष्ठ की है और पेजमेकर फॉर्मेट में प्रकाश बादल जी के पास उपलब्ध थी। उन्होंने YUDU नाम की इस वेबसाइट की मदद लेकर इसे डिजिटल फॉर्मेट में प्रकाशित किया और नतीजा आपके सामने है। पोस्ट में इसकी झलक दिख रही है और पूरा पढ़ने के लिए लिंक उपलब्ध है। इस पर क्लिक कर असिक्नी को मूल पुस्तक के रूप में पढ़ा जा सकता है।

pdf फ…

100 से ज़्यादा फॉलोवर वाले हिन्दी चिट्ठों का शतक

Image
हिन्दी चिट्ठाकारी तेजी से अपने पैर पसार रही है। चिट्ठाजगत संकलक पर 15000 से भी ज़्यादा पंजीकृत हिन्दी चिट्ठे इसकी जीती-जागती मिसाल है। अब एक गहन रिसर्च के बाद मैं आपके सामने एक और पुख़्ता सबूत पेश कर रहा हूं, जो यह साबित करेगा कि जो लोग हिन्दी ब्लॉगिंग को शैशवास्था में ही मानते हैं, वे गलत हो सकते हैं। मेरी रिसर्च का नतीजा है कि अब ऐसे हिन्दी चिट्ठों की संख्या 100 को पार कर चुकी है, जिनके 100 या उससे ज़्यादा फॉलोवर हैं।

किसी ब्लॉग के अधिक फॉलोवर बनने का सीधा सा अर्थ है कि वह ब्लॉग व्यापक जनसमुदाय में पढ़ा जाता है। उसकी सामग्री दूसरे पाठकों को पसंद आती है। ब्लॉग को फॉलो करने का अर्थ यह भी हुआ कि पाठक उसे अपने फ़ीड रीडर में सीधे ही पढ़ना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि जैसे ही उस ब्लॉग पर कोई पोस्ट आए, उसकी सूचना उन्हें फीड के जरिए मिल जाए।

शनिवार (18 सितम्बर 2010) को रात 8 बजे हिन्दी चिट्ठों पर रिसर्च के दौरान पता चला कि ऐसे चिट्ठों की संख्या 100 को पार कर चुकी है। सोचा कि इस खुशखबरी को सभी साथियों के साथ बांटा जाए। साथ ही उन चिट्ठों की सूची (लिंक के साथ) प्रकाशित की जाए, जिससे उन चिट्ठों को …

क्या आपके ब्राउज़र के रिटायर होने का वक्त आ गया है?

Image
एक वक्त था, जब अधिकतर कंप्यूटरों में वेब ब्राउज़िंग के लिए इंटरनेट एक्सप्लोरर के 5.5 या 6.0 वर्ज़न का प्रयोग होता था। उस वक्त ब्राउज़र्स के मामले में ज़्यादा विकल्प उपलब्ध नहीं थे। उसके बाद मोज़िला फायरफॉक्स आया और उसने ब्राउज़िंग का नया अनुभव दिया। गूगल क्रोम ने ब्राउज़िंग को और भी मज़ेदार बनाया और इसी बीच ओपेरा, सफारी और नेटस्केप जैसे ब्रॉउज़र भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे।

आज भी भले ही लैपटॉप्स पर आधुनिक ब्राउज़र्स देखने को मिल जाएं, लेकिन ज़्यादातर डेस्कटॉप पर इंटरनेट एक्सप्लोरर (IE) का 6.0 वर्ज़न ही देखने को मिलता है। कुछ साथियों ने ई-मेल भेज कर जानकारी दी है कि उनके जीमेल पर इन दिनों ब्राउज़र को लेकर एक खास मैसेज आ रहा है।
You're using an old version of Gmail which will be retired in September. At that point, you'll be redirected to a basic HTML view. To get faster Gmail and the newest features, please upgrade to a modern browser.
अगर आपके जीमेल खाते में भी सबसे ऊपर इस तरह का मैसेज दिखाई दे रहा है, तो आपको अपने वर्तमान ब्राउज़र को रिटायर कर देना चाहिए। जीमेल के सभी …

ब्लॉगर पर कमेंट्स से जुड़ीं दो नई सुविधाएं

Image
पिछले एक-दो दिन से आप अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड पर कमेंट का नया विकल्प देख रहे होंगे। ब्लॉगर ने अपने कमेंटिंग सिस्टम में बदलाव किया है और इसमें दो नए विकल्प जोड़े हैं। पहला विकल्प है- कमेंट स्पैम फिल्टरिंग यानी अवांछित टिप्पणियों की स्वचलित छंटनी और दूसरा विकल्प है- ब्लॉग की सभी टिप्पणियों को एक ही जगह पर देखने की सुविधा (ई-मेल इनबॉक्स की तरह)।

अब आसान शब्दों में इन सुविधाओं को विस्तार से जानते हैं।

अवांछित टिप्पणियों की स्वचलित छंटनी (Comment Spam Filtering)

ब्लॉग पर टिप्पणियों का बड़ा महत्व है। दुर्भाग्य से कुछ ब्लॉगकंटक प्रविष्ठियों पर इस तरह की टिप्पणियां करते हैं, जिन्हें आप अपने ब्लॉग पर नहीं रख सकते। इस तरह के अनचाही (स्पैम) टिप्पणियों से बचने के लिए अभी तक कमेंट मॉडरेशन, वर्ड वेरिफिकेशन या पंजीकृत पाठकों को ही कमेंट की अनुमति जैसी सुविधाएं थीं। लेकिन ये सभी सुविधाएं टिप्पणियों के निर्बाध यातायात में बाधक हैं।

अब ब्लॉगर ने इन कमेंट्स से पीछा छुड़ाने के लिए स्पैम फिल्टरिंग तकनीक का इस्तेमाल किया है। जिस तरह से आप अपने जीमेल अकाउंट में किसी मेल को स्पैम या नॉट स्पैम के रूप में चिन्हित कर…

New Blogger Features: ब्लॉगर पर ट्विटर और फेसबुक शेयर बटन

Image
ट्विटर औऱ फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइट्स की पहुंच से पूरी दुनिया चकित है। इन साइट्स के इसी असर को देखते हुए ब्लॉगर ने ब्लॉग पोस्ट को ट्विटर और फेसबुक व अन्य नेटवर्क्स पर शेयर करने की सुविधा दी है। आज ज्यादातर साथी ट्विटर और फेसबुक साइट्स पर मौजूद हैं और उनके साथ पोस्ट को शेयर कर ब्लॉग के ट्रेफिक को बढ़ाया जा सकता है। इस बटन के उपयोग से पाठक को हर पोस्ट के नीचे इसे ट्विटर या फेसबुक पर शेयर करने का विकल्प दिया जा सकता है।


ब्लॉगर अब नया शेयर बटन लेकर आया है। इस बटन को अब हर पोस्ट के नीचे लगाया जा सकता है और आपके ब्लॉग पाठकों को अगर पोस्ट पसंद आती है तो वे इसे आसानी से ई-मेल, ब्लॉगर, गूगल बज, टि्वटर और फेसबुक पर शेयर कर सकते हैं।

वैसे ब्लॉगर की नेवबार पर पहले ही शेयर बटन है। लेकिन अगर इस बटन को पोस्ट के नीचे लगाया जाए तो निश्चित तौर पर यह उपयोगी साबित हो सकता है।

इसे लगाने के लिए अपने ब्लॉग के (डिजाइन) लेआउट में जाइए। पोस्ट के एडिट पर क्लिक कीजिए और शेयरिंग बटन के विकल्प पर टिक कर दीजिए। नीचे दिए गए चित्र की तरह-



ज़्यादा जानकारी इस पोस्ट पर मौजूद है।


नोटः ब्लॉगर ने हाल ही दो नई सुविधाएं औ…

ब्लॉगर्स में डिप्रेशन मापने वाले इस सॉफ्टवेयर को तो आना ही था

Image
आप ब्लॉगिंग खुशी-खुशी करते हैं या आप पोस्ट लिखते समय डिप्रेशन या अवसाद में रहते हैं? इजराइल के शोधकर्ताओं ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर ईजाद कर लिया है, जो आपकी पोस्ट को देखते ही बता देगा कि इसे लिखने वाले व्यक्ति की मानसिक स्थिति कैसी है? डरिए मत... आपकी पोल फिलहाल नहीं खुलने जा रही है, क्योंकि यह सॉफ्टवेयर अभी केवल अंग्रेज़ी भाषा तक ही सीमित है।

इजराइल की बेन गुरियॉन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस सॉफ्टवेयर को बनाया है और इसे तीन लाख से ज्यादा ब्लॉग्स पर आजमाया जा चुका है। 78 फीसदी मामलों में इसके नतीजे पुख़्ता साबित हुए हैं। कमाल की बात यह कि अगर इसे पता चला कि ब्लॉगर की मानसिक स्थिति सही नहीं है तो यह उसे उचित परामर्श भी देगा।

इसकी विस्तृत जानकारी इस लिंक पर है...

आपको क्या लगता है? हम हिन्दी ब्लॉगर्स को इस तरह के सॉफ्टवेयर की जरूरत है या नहीं :)

हैपी ब्लॉगिंग



क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए!!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

एक घंटे में गूगल से 3497.62 रुपए पाने का मौका

Image
नहीं, कोई मज़ाक नहीं। यकीन मानिए। गूगल ब्लॉगर साथियों को एक घंटे में 3497.62 रुपए पाने का मौका दे रहा है। इसके लिए न तो कोई विज्ञापन को लगाने या उस पर क्लिक करने का झमेला है और न ही कोई दूसरा मशक्कत वाला काम करने की ज़रूरत है। इसके लिए आपको केवल उसकी Blogger usability study में भाग लेने की जरूरत है। गूगल 17-23 जून के बीच यह स्टडी आपके घर पर ही आपके बताए दिन व समय पर ऑनलाइन करेगा।

गूगल 17-23 जून के बीच यह Blogger usability study करने जा रहा है। इसमें वह आपसे यह पूछेगा कि आप ब्लॉगर के बारे में क्या सोचते हैं। वह आपको ऐसे फीचर भी दिखा सकता है, जो अभी वह तैयार कर सकता है और उन पर आपकी महत्वपूर्ण राय जान सकता है। इस तरह स्टडी के नतीजों से वह ब्लॉगर साथियों की ज़रूरत को बेहतर तरीके से समझने का काम करेगा।

अगर आप इस स्टडी के लिए अपना एक घंटा देना चाहते हैं और इसके बदले 75 डॉलर का गिफ्ट चैक पाना चाहते हैं तो चैक कर लीजिए कि आपके पास यह सब है या नहीं?

- आपकी उम्र 18 साल या उससे ज्यादा होनी चाहिए।

- आपके पास एक कंप्यूटर हो, जो Windows 7/Vista/XP/2000 प्लेटफॉर्म पर चलता हो।

- आपके पास अच्छी स्पीड …

Better Post Preview : पब्लिश करने से पहले देखिए पोस्ट कैसी दिखेगी?

Image
ब्लॉग पर पोस्ट पब्लिश करने से पहले हम अक्सर यह सुनिश्चित कर लेना चाहते हैं कि हमने जो लिखा है, जो तस्वीरें लगाई हैं, वे सब ठीक से दिखेंगी भी या नहीं। ब्लॉगर पर फिलहाल एक 'प्रिव्यू' ऑप्शन है, जो पोस्ट एडिटर कम्पोज बॉक्स पर सबसे दाहिने कोने पर दिखता है। इसके जरिए पोस्ट देखने पर एक सफेद बैकग्राउंड में पोस्ट दिखती है। कई बार यहां सही दिखने वाली पोस्ट हमारे ब्लॉग पर ठीक से नहीं दिखती, क्योंकि ब्लॉग की टेम्पलेट का कलर और डिजाइन कुछ और ही होता है। ऐसे में कई ब्लॉगर साथी अपने ब्लॉग के जैसी ही टेम्पलेट का दूसरा प्राइवेट ब्लॉग बनाते हैं, पोस्ट को वहां पब्लिश कर आश्वस्त होते हैं कि पोस्ट ठीक दिख रही है और उसके बाद ही पोस्ट को अपने ब्लॉग पर पब्लिश करते हैं।

इसी परेशानी को ध्यान में रखते हुए अब ब्लॉगर एक नई सुविधा का परीक्षण कर रहा है। Better Post Preview देने वाली इस सुविधा के तहत आप पोस्ट को पब्लिश करने से पहले ही देख कर अनुमान लगा सकते हैं कि यह पोस्ट आपके ब्लॉग की टेम्पलेट के साथ कैसी दिखेगी। इस सुविधा का इस्तेमाल फिलहाल केवल ब्लॉगर इन ड्राफ्ट की मदद से ही किया जा सकता है। जानकारी के लि…

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की दूसरी सालगिरह है आज

Image
आज का दिन (6 अप्रैल) हिन्दी ब्लॉग टिप्स के लिए काफी ख़ास है। अतीत को देखें तो दो साल पहले इसी दिन इस छोटे से मंच के जरिए देश-दुनिया में फ़ैले आप जैसे सम्माननीय व सुधि साथियों के साथ जीवंत संपर्क का सिलसिला शुरू हुआ था। सिलसिला अनवरत जारी है और आप लोगों से मिला प्यार, सराहना और अपनापन ही इस ब्लॉग की सबसे बड़ी पूंजी है। आप लोगों के साथ बीता एक-एक लम्हा मेरी ज़िंदगी के सबसे ख़ूबसूरत लम्हों में शुमार रहा है। मैं आप सभी का (व्यक्तिगत नाम इसलिए नहीं ले पा रहा हूं, क्योंकि फ़ेहरिस्त बहुत बड़ी है) आभार जताता हूं कि आपने हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर अपना भरोसा जताया और इसे इतना अपनापन दिया।

सालगिरह के मौक़े पर आपके साथ चंद 'गुड न्यूज़' बांटना चाहता हूं। पहली ख़बर यह कि जिस छोटे से पौधे हिन्दी ब्लॉग टिप्स को आपने अपनेपन और सहयोग के नीर से निरंतर सींचा है, वह अब विशाल वृक्ष का स्वरूप लेने की तैयारी में है। इसे एक विस्तृत पेशेवर वेबलॉग के रूप में लॉन्च किए जाने की तैयारियां चल रही हैं। यह परिवर्तन कब और कैसे होना है, इसकी जानकारी जल्द ही सार्वजनिक की जाएगी।

दूसरी ख़बर यह है कि साथियों की तकनीकी …

क्या ब्लॉगर हिन्दी चिट्ठों को मिटा रहा है?

Image
पिछले कुछ दिन से कई साथी यह सवाल मुझसे फ़ोन पर व ई-मेल के जरिए पूछ चुके हैं। उनका कहना है कि उन्हें कुछ साथियों की यह मेल मिली है कि जल्द से जल्द अपने चिट्ठों बैकअप ले लीजिए, क्योंकि ब्लॉगर अपनी सेवाएं समेटने की तैयारी में है। मैं ऐसे साथियों को यही कहना चाहता हूं कि ब्लॉगर का ऐसा इरादा कतई नहीं है। वह तो दिन-ब-दिन अपनी सेवाओं में विस्तार कर रहा है।

अपने ब्लॉग का नियमित रूप से बैकअप लेना समझदारी भरा कदम है, लेकिन ऐसा इस आशंका के साथ नहीं किया जाना चाहिए कि ब्लॉगर आपके ब्लॉग को मिटा सकता है। ब्लॉगर स्वचलित तौर पर उन्हीं चिट्ठों को मिटाता है, जो उसकी सेवा शर्तों का उल्लंघन करते हैं। ब्लॉगर समय-समय पर अपनी सेवा शर्तों में बदलाव करता है और ताजा नियम-शर्तें यहां पढ़ी जा सकती हैं। साथ ही ब्लॉगर के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट (DMCA) की जानकारी यहां से ली जा सकती है।

करीब डेढ़ महीने पहले ब्लॉगर ने अपने आधिकारिक ब्लॉग पर एक पोस्ट लिखी थी, जिसमें उसने इसी तरह की आशंका का समाधान किया था। इस पोस्ट में नियम व शर्तों के उल्लंघन की ही बात की गई थी।

इसलिए मेरा सुझाव है कि आप इस आशंका को पूरी तरह दूर …

फ़ोकट में बनाइए अपना ब्लॉग एग्रीगेटर

Image
ब्लॉगवाणी, चिट्ठाजगत जैसे एग्रीगेटर्स या चिट्ठा संकलकों का काम है इनसे जुड़े चिट्ठों पर नई पोस्ट के प्रकाशित होते ही उन्हें अपने व्यापक मंच पर दिखाना। ऐसे में यह जिज्ञासा स्वाभाविक है कि आखिर आपके ब्लॉग की जानकारी व सामग्री इन एग्रीगेटर्स तक कैसे पहुंच जाती है। यह कमाल फ़ीड (आरएसएस या एटम) का है। ब्लॉग फ़ीड वह चीज है, जो सिंडिकेशन के जरिए आपके ब्लॉग की सामग्री को सार्वजनिक रूप से साझा करने की सुविधा देती है। जैसे ही ब्लॉग अपडेट होता है, उसकी फ़ीड भी स्वतः ही अपडेट हो जाती है।

अब अगर यह तकनीकी बात आपको उलझाने वाली लग रही है, तो इसे यहीं छोड़ देते हैं। साधारण सी बात करते हैं। क्या आप चाहते हैं कि आप मुफ़्त में अपना ब्लॉग एग्रीगेटर तैयार करें। न तो इसके लिए किसी भी तरह की तकनीकी कुशलता चाहिए और न ही बहुत ज़्यादा वक़्त। इंटरनेट पर कुछ ऐसी वेबसाइट्स मौजूद हैं, जो 10-15 मिनट के समय में आपके मनपसंद ब्लॉग्स का एग्रीगेटर तैयार करने की सुविधा देती हैं। क्या आप अपना ऐसा ही ब्लॉग एग्रीगेटर बनाना चाहेंगे?

विकल्प 1

डेमो के लिए यहां क्लिक करें

विकल्प 2


डेमो के लिए यहां क्लिक करें

विकल्प 1planetaki.com

यह …

पहली महिला ब्लॉगर कौन हैं ?

Image
नई दिल्ली स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन में हिन्दी पत्रकारिता का कोर्स कर रहे विकास ज़ुत्शी जी ने मेल भेजी और चिट्ठाकारी में महिलाओं की भूमिका से जुड़े कुछ सवालों के जवाब जानने चाहे। मैंने सोचा कि इन सवालों के जवाबों के लिए आप सुधि ब्लॉगर साथियों की मदद ली जाए।

आशीष सर, आपसे कुछ सवाल पूछने थे,

1 ) पहली महिला ब्लॉग पोस्ट / ब्लॉगर होने की सूचना क्या आप मुझे बता सकते हैं ?


2 ) ब्लॉगिंग के क्षेत्र में महिलाओं कि क्या स्थिति है ?


3 ) महिला ब्लॉगर इस समय किस क्षेत्र पर अधिक लिख रहीं हैं ?


4 ) कुछ प्रमुख महिला ब्लोगेर्स / ब्लॉग्स के बारे में भी सूचना देने की कृपा करें

इसके साथ अगर आप कोई और सूचना इस विषय पर दे सकें तो आभार होगा,
जवाब का इंतज़ार है




आपकी ओर से दी जानी वाली बहुमूल्य जानकारी का विकास जी को इंतजार है।

हैपी ब्लॉगिंग








क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

पिछली पोस्ट के हमसफरःRicha जी, Dr. Amar Jyoti जी, महफूज़ अली जी, मनोज कुमार जी, hiral जी, रावेंद्रकुमार रवि जी, K…

लगाइए सर्च को धार - रिफाइन सर्च के चंद फॉर्मूले

Image
सर्च इंजन में सामग्री ढूंढ़ते समय कुछ छोटी-छोटी टिप्स वक्त भी बचा सकती हैं और मेहनत भी

इंटरनेट पर मनचाही सामग्री की तलाश के लिए मदद ली जाती है सर्च इंजन की। सामग्री से जुड़े की-वर्ड को जैसे ही सर्च इंजन में डाला जाता है, हजारों रिजल्ट मिलते हैं। अब समस्या शुरू होती है कि इनमें से कौनसे पेज को खोलकर देखा जाए, जिसमें जरूरत के मुताबिक सामग्री मिल सके। एक-एक कर पेज खोले जाते हैं और उसी रफ्तार से बंद भी कर दिए जाते हैं। अगर किस्मत अच्छी है तो जल्द ही सामग्री मिल जाती है और अगर आप किसी खास चीज को तलाश कर रहे हैं, तो हो सकता है कि इसके लिए कई घंटे लग जाएं। गहन और सटीक सर्च के लिए सर्च इंजन की भाषा समझना जरूरी है। इसके कुछ छोटे-छोटे नियम हैं, जो आमतौर पर काम में नहीं लिए जाते। अगर इन नियमों का ध्यान रखा जाए तो न केवल सर्च काफी धारदार हो जाएगी, बल्कि वक्त और मेहनत की भी बचत होगी। सर्च को धारदार बनाने के लिए जानिए कुछ टिप्स-

की-वर्ड्स का चयन

सर्च के लिए आपको सही की-वर्ड का निर्धारण करना होता है और दूसरे नतीजों के लिए विकल्प भी तैयार रखना होता है। जैसे अगर आप ब्लॉग के लिए टेम्पलेट ढूंढ रहे हैं और

Followers