Thursday, June 24

ब्लॉगर्स में डिप्रेशन मापने वाले इस सॉफ्टवेयर को तो आना ही था

आप ब्लॉगिंग खुशी-खुशी करते हैं या आप पोस्ट लिखते समय डिप्रेशन या अवसाद में रहते हैं? इजराइल के शोधकर्ताओं ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर ईजाद कर लिया है, जो आपकी पोस्ट को देखते ही बता देगा कि इसे लिखने वाले व्यक्ति की मानसिक स्थिति कैसी है? डरिए मत... आपकी पोल फिलहाल नहीं खुलने जा रही है, क्योंकि यह सॉफ्टवेयर अभी केवल अंग्रेज़ी भाषा तक ही सीमित है।

इजराइल की बेन गुरियॉन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने इस सॉफ्टवेयर को बनाया है और इसे तीन लाख से ज्यादा ब्लॉग्स पर आजमाया जा चुका है। 78 फीसदी मामलों में इसके नतीजे पुख़्ता साबित हुए हैं। कमाल की बात यह कि अगर इसे पता चला कि ब्लॉगर की मानसिक स्थिति सही नहीं है तो यह उसे उचित परामर्श भी देगा।

इसकी विस्तृत जानकारी इस लिंक पर है...

आपको क्या लगता है? हम हिन्दी ब्लॉगर्स को इस तरह के सॉफ्टवेयर की जरूरत है या नहीं :)

हैपी ब्लॉगिंग



क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए!!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

28 comments:

  1. हिन्दी ब्लागर के लिये तो फ़्रस्टेसन नापने वाला यन्त्र चाहिये

    ReplyDelete
  2. are vaah!
    Jankari ke liye aabhaar.

    Vaise hindi me aakar yah fail bhi ho sakta hai.
    :-)

    ReplyDelete
  3. bahut acchi jaankaari di hai aapne, lekin ye kaam karega ya nahi pata nahi .
    हिन्दीकुंज

    ReplyDelete
  4. अभी यह अंग्रेजी में है, हिन्दी में आने दो। असली पता तब चलेगा।

    ReplyDelete
  5. जहाँ तक हमें लगता है यहाँ हिंदी ब्लॉगिंग में लोग लिख के डिप्रेशन कम फ्रस्ट्रेशन ज़्यादा निकलते हैं :) और यहाँ लोग जब लाई डिटेक्टर को चीट कर सकते हैं तो ये सॉफ्टवेयर कौन सी बड़ी बात है... फिर भी जानकारी रोचक है... :)

    ReplyDelete
  6. Intezaar rahega! Angrezi me likh ke dekh sakte hain!

    ReplyDelete
  7. अच्छी जानकारी. अंग्रेजी का ही मिल जाए. प्रयोग कर देखा तो जा ही सकता है. आभार.

    ReplyDelete
  8. वाकई ऎसा तो होना ही था...

    ReplyDelete
  9. मेरे विचार में ब्लॉग लिखते समय कौन किस मूड में है यह जानकार कोई लाभ नहीं .महत्वपूर्ण यह है कि वह क्या लिख रहा है.

    ReplyDelete
  10. बहुत अच्छी जानकारी दी,डिपरेशन नाप कर प्रामर्श

    ReplyDelete
  11. हम तो गमों को पचाने वालों में से हैं । इसे भी देखा जाये ।

    ReplyDelete
  12. यंहा तो ना फ्रस्ट्रेशन है ना डिपरेशन है और जब कभी होगा तब देखा जाएगा | जानकारी का आभार ,हमारे लिए समय निकालने के लिए धन्यवाद |

    ReplyDelete
  13. मुझे तो लगता है कि हिंदी ब्लोगर्स लिखते समय तो अच्छे मूढ़ में ही होते हैं , लेकिन टिप्पणी न मिलने से ज़रूर डिप्रेशन में चले जाते हैं । बाहर के लोगों की बात और है , वे तो वैसे भी अकेले रहकर डिप्रेशन के शिकार हो ही जाते हैं । यहाँ ये सोफ्टवेयर निश्चित रूप से फेल हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  14. नाइस इन्फो।
    ---------
    क्या आप बता सकते हैं कि इंसान और साँप में कौन ज़्यादा ज़हरीला होता है?
    अगर हाँ, तो फिर चले आइए रहस्य और रोमाँच से भरी एक नवीन दुनिया में आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  15. इंतज़ार करते है...

    ReplyDelete
  16. arrey, isko padhkar hum to depression mein chale gaye..lol

    ReplyDelete
  17. वैसे धीरू भाई जी ने सही कहा है। अच्छी जानकारी है अगर ये बता दें कि बलाग वाणी कब शुरू हो रही है तब मुझे उस साफ्ट्वेयर की जरूरत नही रहेगी ब्लागवाणी के बिना डिप्रेशन हो रहा है। धन्यवाद शुभकामनायें

    ReplyDelete
  18. हमें तो शायद ही इसकी जरुरत पड़े | फिर सोफ्टवेयर काम का है किसी के तो काम आएगा

    ReplyDelete
  19. अच्छी खबर आगे देखिये गा क्या क्या होता है . . .
    हमारे सब्द ही मन के बारे में बताते है मतलब कि आप पेसे होंगे तो पानी पानी और पानी था तोकाय था ये सब लिखेंगे पर अगर खोज करता है तो पानी पर पानी ही लिखेगे तो सफोतवारे आप को पकड़ लेगा तो 78 % रीसर्च करने वाले नहीं होते है ये तो सभी जानते है
    एक कहावत है ......
    तेल देखो तेल की धार देखो ............

    ReplyDelete
  20. i dont think , any software can analyze the human mind w/out any physical contact. the software must not be authentic

    ReplyDelete
  21. बढिया यंत्र है, सच्‍चाई मापक।

    ReplyDelete
  22. बहुत काम की जानकारी ....
    मगर डिप्रेशन नाप के हो क्या जाएगा ...:):)

    ReplyDelete
  23. डिप्रेशन नापने के लिये अभी तो अंग्रेजी में लिखना पड़ेगा, इसलिये इसके हिन्दी भाषा में आने का इंतजार कर लेते हैं।

    वित्तीय स्वतंत्रता पाने के लिये ७ महत्वपूर्ण विशेष बातें [Important things to get financial freedom…]

    ReplyDelete
  24. मुझे नहीं लगता कि इस यंत्र से कुछ लाभ होगा ....

    ReplyDelete
  25. Ashish, Ham to blogging to bahut hi positive lete hai....kiske pass waqt hai aaj ke zamane mein kisi ko sunney ke .....aap apne andar ki halchal apne vichar express kar sakte hai...Han less expectation ka hona zaroori hai....But technology ka aisa advancement bhi pasand aaya.

    ReplyDelete
  26. आशीष जी
    अगर मालूम हो की कोई अपना साथी अवसाद से पीड़ित है,यंत्र से जांचने परखने के उपरांत उन्हें उचित परामर्श की जरुरत होगी जो उन्हें यहाँ से मिल सकता है |
    एलोवेरा ( हर्बल औषधियां ) सौन्दर्यशक्ति व तनावमुक्ति के लिए
    http://www.aloe-veragel.com/2010/04/blog-post_21.html
    भविष्य के लिए बहुत अच्छी जानकारी है |
    धन्यबाद

    ReplyDelete
  27. अच्छी जानकारी....ऎसा तो होना ही था...
    http://sunilkefande.blogspot.com

    ReplyDelete
  28. व्यक्ति के मानसिक संतुलन से ज्यादा उसके शव्दों संयोजन पर हमे दृष्टि रखनी चाहिए

    ReplyDelete