Posts

Showing posts from January, 2010

पहली महिला ब्लॉगर कौन हैं ?

Image
नई दिल्ली स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्यूनिकेशन में हिन्दी पत्रकारिता का कोर्स कर रहे विकास ज़ुत्शी जी ने मेल भेजी और चिट्ठाकारी में महिलाओं की भूमिका से जुड़े कुछ सवालों के जवाब जानने चाहे। मैंने सोचा कि इन सवालों के जवाबों के लिए आप सुधि ब्लॉगर साथियों की मदद ली जाए।

आशीष सर, आपसे कुछ सवाल पूछने थे,

1 ) पहली महिला ब्लॉग पोस्ट / ब्लॉगर होने की सूचना क्या आप मुझे बता सकते हैं ?


2 ) ब्लॉगिंग के क्षेत्र में महिलाओं कि क्या स्थिति है ?


3 ) महिला ब्लॉगर इस समय किस क्षेत्र पर अधिक लिख रहीं हैं ?


4 ) कुछ प्रमुख महिला ब्लोगेर्स / ब्लॉग्स के बारे में भी सूचना देने की कृपा करें

इसके साथ अगर आप कोई और सूचना इस विषय पर दे सकें तो आभार होगा,
जवाब का इंतज़ार है




आपकी ओर से दी जानी वाली बहुमूल्य जानकारी का विकास जी को इंतजार है।

हैपी ब्लॉगिंग








क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

पिछली पोस्ट के हमसफरःRicha जी, Dr. Amar Jyoti जी, महफूज़ अली जी, मनोज कुमार जी, hiral जी, रावेंद्रकुमार रवि जी, K…

लगाइए सर्च को धार - रिफाइन सर्च के चंद फॉर्मूले

Image
सर्च इंजन में सामग्री ढूंढ़ते समय कुछ छोटी-छोटी टिप्स वक्त भी बचा सकती हैं और मेहनत भी

इंटरनेट पर मनचाही सामग्री की तलाश के लिए मदद ली जाती है सर्च इंजन की। सामग्री से जुड़े की-वर्ड को जैसे ही सर्च इंजन में डाला जाता है, हजारों रिजल्ट मिलते हैं। अब समस्या शुरू होती है कि इनमें से कौनसे पेज को खोलकर देखा जाए, जिसमें जरूरत के मुताबिक सामग्री मिल सके। एक-एक कर पेज खोले जाते हैं और उसी रफ्तार से बंद भी कर दिए जाते हैं। अगर किस्मत अच्छी है तो जल्द ही सामग्री मिल जाती है और अगर आप किसी खास चीज को तलाश कर रहे हैं, तो हो सकता है कि इसके लिए कई घंटे लग जाएं। गहन और सटीक सर्च के लिए सर्च इंजन की भाषा समझना जरूरी है। इसके कुछ छोटे-छोटे नियम हैं, जो आमतौर पर काम में नहीं लिए जाते। अगर इन नियमों का ध्यान रखा जाए तो न केवल सर्च काफी धारदार हो जाएगी, बल्कि वक्त और मेहनत की भी बचत होगी। सर्च को धारदार बनाने के लिए जानिए कुछ टिप्स-

की-वर्ड्स का चयन

सर्च के लिए आपको सही की-वर्ड का निर्धारण करना होता है और दूसरे नतीजों के लिए विकल्प भी तैयार रखना होता है। जैसे अगर आप ब्लॉग के लिए टेम्पलेट ढूंढ रहे हैं और

Followers