Monday, March 30

Monetise आया तो क्या, हिन्दी ब्लॉगर एडसेंस से उम्मीद न पालें


दो दिन पहले से ब्लॉगर पर एक नया टैब Monetise दिख रहा है। यह साइडबार में और पोस्ट के बीच में एडसेंस के विज्ञापन लगाकर कमाई की पेशकश कर रहा है। पोस्ट आ गया, आ गया, आ गया! गूगल एडसेंस आ गया!!(लेखक की आपत्ति पर पोस्ट को अपडेट करते हुए चित्र और लिंक हटा लिया गया है) और आरसी मिश्रा जी की पोस्ट एड्सेन्स Today’s Earning – आपके हिन्दी ब्लॉग्स पर आज की कमाई पढ़कर कोई भी हिन्दी ब्लॉगर सुनहरी कमाई के सपने देख सकता है। लेकिन यहां मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि अभी तक हिन्दी ब्लॉगर्स के लिए एडसेंस के कमाई दूर की कौड़ी ही है, क्योंकि गूगल की एडसेंस के लिए समर्थित भाषाओं में हिन्दी का नाम शुमार नहीं है।




गूगल एडसेंस के इस पेज पर जाकर देखिए कि एडसेंस किन भाषाओं को समर्थन देता है। इस सूची में हिन्दी भाषा का नाम नहीं है।



इसके अलावा गूगल एडसेंस के नियम व शर्तों के मुताबिक गैर-समर्थित भाषाओं वाले ब्लॉग पर एडसेंस के विज्ञापन लगाने की अनुमति नहीं है।



इसलिए अगर आप हिन्दी ब्लॉग पर गूगल के विज्ञापन (एडसेंस कार्यक्रम)लगा रहे हैं, तो गूगल इसे शर्तों का उल्लंघन मान सकता है और आपका खाता भी बंद कर सकता है (फिलहाल वह ऐसे ब्लॉग्स पर सार्वजनिक सेवा के विज्ञापन दिखा रहा है, जिनसे कमाई नहीं होती)।

चलते-चलते यह भी स्पष्ट कर देना चाहूंगा कि अगर आप एडसेंस से पैसा कमा रहे हैं तो कृपया अपनी प्रति क्लिक कमाई को सार्वजनिक नहीं करें। आरसी मिश्रा जी की पोस्ट एड्सेन्स Today’s Earning – आपके हिन्दी ब्लॉग्स पर आज की कमाई में ऐसा चित्र दिखाया गया है।



शायद यह भी एडसेंस कार्यक्रम की शर्तों का उल्लंघन हो सकता है।



पूरी चर्चा का निष्कर्ष यही है कि हिन्दी ब्लॉगर्स एडसेंस से कमाई की तभी सोचें, जब गूगल हिन्दी भाषा को एडसेंस समर्थित भाषाओं की सूची में जगह दे। उम्मीद है गूगल जल्द ही इस सूची में हमारी हिन्दी को भी शामिल करेगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

31 comments:

  1. आपने हमेशा की तरह बहुत ही उपयोगी जानकारी दी.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. हकीकत की कठोर जमीन पर ला पटका आपने तो… :) हम तो नौकरी छोड़ने ही वाले थे…

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया जानकारी...
    मैं इसे देखकर चौंका ही था फिर मैंने सोचा की आपने इस के बारे में ज़रूर लिखा होगा और देखा तो आपने लिख दिया था...
    मीत

    ReplyDelete
  4. मैं आज आपसे इसके बारे में पूछने ही वाला था, धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी जानकारी .
    हिंदी ब्लॉग से कमाई करना अभी दूर है .

    ReplyDelete
  6. आशीष जी आपने सही हकीकत बताई है मैंने कुछ दिन पहले टेम्पलेट वगैरह टेस्ट करने के लिए एक नया ब्लॉग बनाया था उस ब्लॉग में बनाते ही ये Monetise वाला टैब दिखाई देने लगा जबकि पुराने ब्लोग्स पर यह टैब अभी तक दिखाई नहीं देता |

    ReplyDelete
  7. मै दो तीन दिन से यही सोच रहा था की हिन्दी ब्लॉग जगत में काफी हल्ला मचा हुआ है एड सेंस का और आपने अभी तक कोई पोस्ट इस बारे में पब्लिश ही नहीं की क्या बात है | क्यों की आपकी रिपोर्ट ही आखरी रिपोर्ट होती है | आपकी दी गयी जानकारी पर्याप्त है आँखें खोलने के लिए |

    ReplyDelete
  8. Achha hua ki aapne samay pe aanke khol di warna mai to sapne bhi dekhne lagi thi...

    ReplyDelete
  9. सही कहा आपने ... हिन्‍दी ब्‍लागिंग से कमाई ... कुछ वर्षों तक तो मुमकिन नहीं।

    ReplyDelete
  10. अरे ये आज थोड़े ही आया है.. ये तो कई दिन पहले आ गया था.. पर हमने इसपर अभी तक एक बार भी क्लिक नही किया है.. जानते है हिन्दी के लिए सेवा है नही गूगले क़ी.. हालाँकि जोश 18 जैसी साइट्स पर ज़रूर होते है गूगल के एड्स.. पर शायद वो लोग किसी दूसरी साइट्स के वाहा लगा देते होंगे..

    ReplyDelete
  11. उपयोगी जानकारी देने के लिए आभार।

    ReplyDelete
  12. आशीष जी, मेरी पोस्ट का उल्लेख करने के लिए धन्यवाद.
    अपनी पोस्ट पर एक टिप्पणी के द्वारा वस्तुस्थिति बता चुका हौं. आप भी देख सकते हैं.

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी जानकारी...

    ReplyDelete
  14. अच्छाकिया आपने बता दिया सपने देखने लगे थे :) अच्छी जानकारी दी है आपने शुक्रिया

    ReplyDelete
  15. अच्छी जानकारी प्रदान कर रहे हैं आप.......

    ReplyDelete
  16. आशीष जी आपने अपनी इस पोस्ट में जो इमेज लगा रखी है वह मेरी पोस्ट से उठाई गयी है, कृपया यहाँ से हटा लें और मुझे सूचित करें। क्योंकि इंटरनेट पर मेरे द्वारा डाली गयी हर इमेज इम्बेडेड cryptography के द्वारा कोडेड है और इमेज का आकार बद्लने या एडिट किये जाने पर भी यह कोड मौज़ूद रहता है।

    मैं देख चुका हूँ कि यह मेरी बनाई हुयी है इसलिये यह निवेदन कर रहा हूँ।

    ReplyDelete
  17. इस जानकारी के लिये आपका आभार । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  18. कई दिनों से अपने ब्लॉग पे देख रहा था .पर आज सारा राज समझ आया .

    ReplyDelete
  19. hausala afjai ke liye shukriya dost.mere baki aalekh par bhi apki tippani pratikshit hai.
    ajay

    ReplyDelete
  20. इस जानकारी के लिये आपका आभार । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  21. जी आपने बिल्‍कुल सटीक लिखा है। मैने कल एडसेंस लगाया था लेकिन कुछ ही देर बाद गूगल ने उसे डिएक्‍टीवेट कर दिया। मुझे गूगल से मेल मिला-
    Thank you for your interest in Google AdSense. Unfortunately, after
    reviewing your application, we're unable to accept you into Google
    AdSense at this time.

    We did not approve your application for the reasons listed below.

    Issues:

    - Unsupported language

    ReplyDelete
  22. अच्छी जानकारी आशीष जी..

    एक समस्या है ,,,, मेरे ब्लॉग का फीड काम नहीं कर रहा है... मतलब जब मैं नया पोस्ट करता हूँ तो ये रीडर वगैरह में विजिबल नहीं हो रहा है ना ही किसी और लिंक में...... क्या कारण हो सकता है.

    ReplyDelete
  23. महोदय क्या आप मेरी मदद करेंगे
    जब से मैंने अपने ब्लॉग का टेम्पलेट बदला है मुझे कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है
    १-------
    मेरे सरे लिंक गायब हो गए जैसे व्लोग्वानी के लिंक, चिटठा चर्चा का लिंक, मेरे प्रिय ब्लॉग के सारे लिंक, और भी बहुत कुछ चला गया मैंने जब वापस अपना टेम्पलेट डाला जिसे मैंने सेव किया था तो समर्थको की लिंक का अलावा कोई लिंक वापस नहीं मिला मगर सबकी हेडिंग दिखने लगी इस लिए मैंने फिर से टेम्पलेट बदल दिया अब समर्थक की लिस्ट भी गायब हो गई है

    2------

    मेरी सभी पोस्ट के पहले ((undefined)) लिख कर आ रहा है और पोस्ट की डेट नहीं दिख रही है जबकी मैंने डेट के लिए क्लीक भी किया हुआ है
    3-------
    अपने ब्लॉग का नाम बड़ा नहीं कर प् रहा हूँ न ही रंग बदल पा रहा हूँ

    इन परेशानियों का कोई उपाय बताने की महती कृपा करैं

    ReplyDelete
  24. kamal hai ji
    welcome
    www.maharansaheb.tk

    ReplyDelete
  25. यहां आकर तो मेरा मन आंखे बंद कर सपने देखने को कर रहा है। जो भविष्यवक्ता कई वर्षों तक हिंदी ब्लॉगिंग को नामुमकिन बता रहे हैं उन्होंने ही बड़ा सा एडसेंस लगा रहा है अपने ब्लॉग पर ऊपर। ताऊ और चिपलूनकर जी भी दीवाने हैं एडसेंस के।

    और जो निष्कर्ष निकाल रहे हैं कि हिन्दी ब्लॉगर्स एडसेंस से कमाई की तभी सोचें, जब गूगल हिन्दी भाषा को एडसेंस समर्थित भाषाओं की सूची में जगह दे, वे भी उम्मीद लगाये बैठें हैं कि जल्द ही इस सूची में हिन्दी को भी शामिल किया जायेगा।

    यह सब देख्कर मेरा मन, आंखे बंद कर सपने देखने को कर रहा है।

    ReplyDelete
  26. बी एस पाबला जी,

    मैंने इस आलेख में जो इमेज प्रयोग में ली है, वह आपकी पोस्ट की मूल इमेज न होकर आपके पेज से लिए गए स्क्रीनशॉट का हिस्सा है, जिसे मैंने एडिट किया है। अब चूंकि मैंने आपकी पोस्ट को उद्धृत किया है इसलिए इमेज भी वहीं से प्रयोग की गई है। इसी तरह आर सी मिश्रा जी की भी पोस्ट का उद्धरण और चित्र मेरी पोस्ट में मौजूद है। मैंने इसमें किसी तथ्य को नहीं छिपाया है और जो भी जानकारी दी है वह तथ्यपरक दी है। अगर मेरी पोस्ट में दिए गए किसी भी तथ्य से आप असहमत हों तो कृपया मुझे बताएं। मेरी मंशा न तो किसी आलेख की आलोचना करना है और न ही ऐसा करना मैं नैतिक मानता हूं। अगर आपको ऐसा लग रहा है तो इसका मुझे खेद है।

    हिन्दी ब्लॉग टिप्स गैर-व्यावसायिक उद्देश्य के साथ चलाया जा रहा है। मेरी जानकारी के अनुसार लगभग सभी ब्लॉग क्रिएटिव कॉमन्स लाइसेंस के अधीन खुद को रखना पसंद करते हैं, जिसके तहत ब्लॉग की सामग्री को लिंक के साथ अन्यत्र प्रकाशित किया जा सकता है। अगर आपका ब्लॉग किसी और नीति का अनुसरण करता है, तो कृपया उसका उल्लेख ब्लॉग पर स्पष्ट करें, जिससे सामग्री प्रयोग करने वाले को उसकी जानकारी हो सके।

    ब्लॉग संसार में एक-दूसरे की सामग्री के उद्धरण कीयत्र-तत्र जरूरत पड़ती रहती है। आप भी जानते हैं कि इस इमेज का दूसरे ब्लॉग के जरिए निर्माण महज तीन मिनट का काम है। साथ ही मैं आपका ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा कि आपके ब्लॉग की साइडबार में सनद रहे में जो स्क्रिप्ट इस्तेमाल की गई है, उसमें आपने लेखक (जिसने इसे लिखने में घंटों मेहनत की) का लिंक तक हटा दिया गया है। लेखक कौन है इसकी जानकारी पूरे हिन्दी ब्लॉग संसार को है।

    अगर आप अब भी चाहते हैं कि उस तस्वीर को इस पोस्ट से हटा दिया जाए तो मुझे सूचित करें। आपके लिंक और तस्वीर को पूरी तरह से यहां से हटा दिया जाएगा।

    ReplyDelete
  27. आशीष जी,

    मैं अपनी बात कह चुका हूँ।

    इसके अलावा, आपने जो आरोप मुझ पर लगाया है वह बेहूदा है कि
    " …आपका ध्यान आकर्षित करना चाहूंगा कि आपके ब्लॉग की साइडबार में सनद रहे में जो स्क्रिप्ट इस्तेमाल की गई है, उसमें आपने लेखक (जिसने इसे लिखने में घंटों मेहनत की) का लिंक तक हटा दिया गया है। लेखक कौन है इसकी जानकारी पूरे हिन्दी ब्लॉग संसार को है।"

    लेखक कौन है, सम्भवत: इसकी जानकारी आपको तो होगी, लेकिन पूरे हिंदी ब्लॉग संसार को नहीं है। संक्षेप में बता रहा हूँ कि इस स्क्रिप्ट को मूल रूप में Rosa ने 24 अगस्त 2008 को elescaparatede ... पर लिखा था, उसके बाद template~go… पर इसे 11 अक्टूबर 2008 को प्रकाशित किया गया, फिर Statistics Widget for Blogger के रूप में
    TYPHOON ने 26 नवम्बर 2008 को इसे पेश किया।

    आपने इसे अपने नाम का ठप्पा और लिंक लगाकर, 'कितनी पोस्ट, कितनी टिप्पणियाँ' के नाम से, दिसंबर 2008 में अपने ब्लॉग पर डाला।

    हालांकि इसके बाद भी यह स्क्रिप्ट, puttingblog... पर Rajeev Admonds द्वारा 3 जनवरी 2009 को, Blog Tips and... पर 28 जनवरी 2009 को आ चुकी है।

    अब बताईये आपका आरोप सही है या गलत? किसी के सृजन को आप, अपना बता रहे हैं और दावा करते हैं कि लेखक कौन है इसकी जानकारी पूरे हिन्दी ब्लॉग संसार को है!

    अब भी कोई संशय हो तो विस्तृत में बताने को तैयार हूँ।

    हम यहाँ हिंदी की समृद्धि के लिए हैं। आपके जैसे, इसके लिए हर संभव प्रयास करने को तत्पर रहना सराहनीय है। लेकिन ऐसा दावा करना अशोभनीय है।

    कठोरता के लिए क्षमा।
    हम यहाँ एक ही मकसद से लिखते हैं, हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए।

    ReplyDelete
  28. पाबला जी,

    आप मेरी तथ्यपरक बात को आरोप की संज्ञा दे रहे हैं। खैर.. यह आपका नजरिया है। अब अगर मैंने कोई जावास्क्रिप्ट इस्तेमाल की तो आप कहेंगे कि यह तो सन माइक्रोसिस्टम्स की है। क्योंकि यह उसी का ट्रेडमार्क है। उसके बाद आप वह तारीख बताने लगेंगे जब इसे ट्रेडमार्क किया गया था। यह आपकी अज्ञानता का परिचायक है।

    न तो मैंने किसी सृजन को अपना बताया है और न ही मैं यह दावा कर रहा हूं कि मेरे अलावा किसी और ने ऐसा नहीं किया। यह जरूर है कि इस स्क्रिप्ट को मैंने हिन्दी ब्लॉगर साथियों के हिसाब से कस्टमाइज किया है और इसमें कई घंटे की मेहनत लगी है। अगर आपको बात बुरी लगी हो तो इसके लिए मुझे खेद है।

    मैं किसी भी तरह की बहस में यकीन नहीं रखता और न ही इसे आगे बढ़ाना चाहता हूं। आपके लिंक को और आपकी पोस्ट के स्क्रीनशॉट से ली गई तस्वीर को हटा रहा हूं।

    ReplyDelete
  29. कल हमने भी देखा था पर हम ठहरें अनाडी इसलिए नही छूआ। फिर यहाँ पता चला कि ये तो ये कहता है। जानकारी तो आप बहुत अच्छी अच्छी देते है।

    ReplyDelete