Tuesday, March 31

ब्लॉग की दुनिया में हमारी टिप्पणियों की प्रजातियां (व्यंग्य)

कल रचना जी की पोस्ट क्या आपकी टिप्पणी पोस्ट पर होती हैं या आप कि टिप्पणी नाम और उससे जुडे परसेप्शन पर होती हैं ने आंखें खोल दी। आज चूंकि वित्तीय वर्ष का आखिरी दिन है, इसलिए हम साल भर के अपने कमेंट ट्रांजेक्शन की भी बेलेंस शीट पूरी करने के लिए बैठ गए। एक अप्रेल 2008 से आज यानी 31 मार्च, 2009 के बीच की गई 13,844 टिप्पणियों में से हर टिप्पणी को खोलकर देखा। उन्हें कमेंट करने की वजह के हिसाब से बांटा तो नीचे दिए गए नतीजे सामने आए-





मेरी टिप्पणियां आठ वजहों से की गई थीं-

वजह 1- पोस्ट पढ़ते ही स्वतःस्फूर्त कमेंट बॉक्स में उंगलियां चलने लगीं। लेखक ने इतना बिंदास और झक्कास लिखा था कि टिप्पणी कर आभार जताना अपरिहार्य हो गया था।

वजह 2- कभी-कभी ब्लॉगवाणी, चिट्ठाजगत या नारद खोलते ही जो भी पोस्ट मिली उस पर टिपिया गए हम।

वजह 3- 'आपने मेरे ब्लॉग पर टिप्पणी की है तो सदाशयता के नाते मुझे आपके ब्लॉग पर भी टिप्पणी करनी चाहिए।' इस महान विचार को आधार बनाकर भी हमने काफी सारी टिप्पणियां ठोंक डालीं।

वजह 4- अगर फलां जी की पोस्ट पर टिप्पणी नहीं की तो मेल पर या फोन पर बोलेंगे/ बोलेंगी कि आज आपने मेरी पोस्ट नहीं पढ़ी। तो टिप्पणी कर दो, जिससे उपस्थिति दर्ज हो जाए। ऐसा भी कुछ जगह हमारी टिप्पणियों में देखने को मिला।

वजह 5- नामचीन चिट्ठाकारों की निगाह में आने के लिए उनकी पोस्ट पर टिप्पणी करने से बेहतर तरीका क्या हो सकता है। ऐसा भी कई बार सोचकर हम कुछ भारी भरकम चिट्ठों पर टिपिया गए।

वजह 6- पहेली-वहेली जीतने के फेर में भी हमने बहुत टिप्पणी की। यह बात और है कि एक बार भी हम विजेता नहीं बन सके।

वजह 7- अपने ब्लॉगर धड़े के तुष्टिकरण के लिए। वैसे तो हम जी किसी धड़े में यकीन नहीं रखते, लेकिन फिर भी हमें एकाध बार बाध्य किया गया कि फलां ब्लॉग पर फलां तरह की टिप्पणी कर दीजिए। ज्यादा बहस न करते हुए हमने ऐसा कर भी दिया।

वजह 8- हिन्दी ब्लॉग जगत की हौसला अफजाई के लिए। हमें लगा कि हिन्दी ब्लॉग संसार को हौसला अफजाई की जरूरत है, इसलिए उन पोस्टों पर टिप्पणी कर दी जाए, जहां एक भी कमेंट नहीं। लेकिन हमारी टिप्पणी उन्हें कोई हौसला नहीं दे सकी और अब ऐसे ब्लॉग मृतप्रायः ही नजर आ रहे हैं।

देखिए, मैंने यहां अपनी टिप्पणियों के सच का खुलासा किया है। यह पूरी तरह से मुझ पर ही आधारित है। अगर किसी अन्य के साथ इसकी समानता पाई जाती है तो इसे महज संयोग ही समझा जाए।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

45 comments:

  1. विज्ञापन तो भूल गये?

    ReplyDelete
  2. आशीष जी, हमें तो कोई व्यंग्य नहीं दिखाई दिया.....आपने तो पूर्णत: सच्चाई ही ब्यां की है.

    ReplyDelete
  3. काफी समझदार टिप्पणीकार हो लिए आप तो ..बधाई :-)

    ReplyDelete
  4. अब हमारी इस टिप्पणी की वजह तो वजह न.१ ही मानिये | पोस्ट पढ़ते ही अपने आप अंगुलियाँ चल गयी |

    ReplyDelete
  5. इसी बहाने आपकी भी एक पोस्ट बन गयी.चलो हम भी टिपिया देते हैं. (un-categorised)

    ReplyDelete
  6. aapne bahut hi achha likha hai
    our ek saite hai jisme www.helloraipur.com we have
    Click helloraipur.com today because live raipur & live main market, live main road, live shopping mall & their available facility with video graphic & photographic. Every need available in this site. Please log on - www.helloraipur.com

    ReplyDelete
  7. सच ---सच और सिर्फ सच

    ReplyDelete
  8. सच्ची बात ........साफ बात ....
    क्या कहना....!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  9. लीजिये !नंबर आठ

    ReplyDelete
  10. वाह आशीष जी एकदम सत्य वजह बताई आपने टिप्पणी करने की .

    ReplyDelete
  11. baat ko aap kehaa tak lae gayae , bahut khub , dil khush hua apnae blog ka jikr yahaan daekh kar

    ReplyDelete
  12. ऐसे कुछ संयोग तो मेरे साथ भी हैं. चलिए अगले वर्ष के लिए भी तैयार हो जाइये.

    ReplyDelete
  13. abhi to bas jatiyan aayi hain...ab upjatiyan bhi aayengi. kya vargikaran hai...vaah. meri to tippani vajah number 1 hai :)

    ReplyDelete
  14. टिप्पणीकारी पर लिखने की शुरुआत हो गयी अब । एक अच्छी प्रस्तु्ति । धन्यवाद ।

    हां, व्यंग इसमें नहीं सच है सब कुछ ।

    ReplyDelete
  15. वजह क्रमांक एक स्वीकार करिए..

    ReplyDelete
  16. व्यंग क्या जी यह तो सच है सोलाह आने ...बहुत अच्छा विश्लेषण लिख डाला आपने ..एक और आठ सही है

    ReplyDelete
  17. लगता है अपने मेरा डाटा भूल से प्रस्तुत कर दिया !

    ReplyDelete
  18. आपका विचार एकदम सही है। अधिकतर टिप्पणियाँ इसी प्रकार होती हैं। वैसे आपकी पोस्ट तो काफी जानकारी देती है इसलिए उसपर टिप्पणी दिल से करते हैं।

    ReplyDelete
  19. प्रियवर आशीष खण्डेलवाल जी!
    आपने टिप्पणीकारों पर अच्छा व्यंग्य कसा है।
    ब्लाग का इंजीनियर वास्तव में शब्दों का भी
    अभियन्ता है।
    आशा है कि भविष्य में आपके अभियन्त्रण के
    प्रयास जारी रहेंगे।
    शुभकामनाओं के साथ।

    ReplyDelete
  20. देखिए, मैंने यहां अपनी टिप्पणियों के सच का खुलासा किया है। यह पूरी तरह से मुझ पर ही आधारित है। अगर किसी अन्य के साथ इसकी समानता पाई जाती है तो इसे महज संयोग ही समझा जाए।
    होठों पे ऎसी बात मैं दबा के चली आई, खुल जाए वही बात तो दुहाई है दुहाई.
    बहुत बढ़िया......इस हाथ दे उस हाथ ले, यही नियम है इस ब्लॉग टिप्पणी का.

    ReplyDelete
  21. Kuch Suni si tippniya apke liye:

    "Bahut Sundar ! Badhai"

    "Manohari Pathan"

    "Marmik Abhi vyakti"

    "Apka swagat hai"

    "Yun ho chaye rahiye"

    ....And the Blogging Continues....
    :)

    ReplyDelete
  22. हम भी नामचीन चिट्ठे के लेखक की नजर में आने के लिये टिपिया दिये।

    ReplyDelete
  23. " ha ha ha ah ha itne sare reasons great.."

    regards

    ReplyDelete
  24. भाई लोग एक और आठ के पीछे पडे हैं..हम तो यहां इसलिये टिपिया रहे हैं कि १३८४४ टिपणियां एक साल मे जिसने प्राप्त की हों उससे भारी भरकम और नामवर ब्लाग किस माई के लाल का होगा? सो हम तो यहां टिपियाने का मौका नही छोड सकते ना.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  25. ताऊजी, 13844 टिप्पणियां हमें नहीं मिली है (मिली तो 1500 ही है).. 13844 तो हमने की है दूसरों के ब्लॉग पर..

    ReplyDelete
  26. आईला !लोग वजह समझे हम तो अपनी टिपण्णी का नंबर बता रहे थे की देखिये जी आप पर आठवी.....अबकी २६

    ReplyDelete
  27. बहुत खूब जी ..ये बहुत अच्छा किया
    - लावण्या

    ReplyDelete
  28. अरे ... आपको ऐसा कैसे महसूस हुआ ... आपकी पोस्‍ट पर टिप्‍पणियां हमलोग पूरे मन से करते हैं ।

    ReplyDelete
  29. सब से बाद ही सही हमने भी टिपिया ही दिया।

    ReplyDelete
  30. हम भी एक नामचीन लेखक की नज़र मे आने के लिये टिप्पण्णी कर रहे हैं।

    ReplyDelete
  31. वजह नंबर १ स्वीकार कीजिये

    ReplyDelete
  32. karan no 4 hamein pasand aya. apne apna ph no v e mail id nahi di. fauran deejiye. :)
    ghughutibasuti

    ReplyDelete
  33. vajah number 8 se hum sahmat hain. aapki lambi umr...maaf kijiyega zuban fisal gai. aapke blog ki lambi umr ki kaamana karte hain!

    ReplyDelete
  34. नव वर्ष मंगलमय हो
    गणतंत्र दिवस क़ी बधाई
    होली क़ी शुभकामनाए
    महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर बधाई
    जन्माष्टमी क़ी बधाई
    रक्षा बंधन क़ी शुभकामनाए
    ईद मिलादुन्नबी मुबारक हो
    स्वतंत्रता दिवस क़ी बधाई
    नवरात्रि के अवसर पर शुभकामनाए
    दिपो के उत्सव दिवाली क़ी बधाई..
    क्रिसमस क़ी बधाई..
    चुनाव क़ी बधाई
    आई पी एल क़ी बधाई
    आज नल में पानी आया इसकी बधाई..
    चाँद निकल आने पर शुभकामनाए..
    सूरज डूबने क़ी बधाई..
    फलाने क़ी शुभकामनाए..
    ढीमकाने क़ी बधाई..
    बधाई क़ी बधाई

    ReplyDelete
  35. आशीष भाई, आपके द्वारा किया गया विश्लेषण खूब पसन्द आया। इसके साथ ही यदि आसानी से हो सकता तो इन कारणों का प्रतिशत भी दे देते तो और भी मज़ा आता, फिर इस पर सांख्यिकीय निष्कर्ष भी निकाले जाते। वैसे आपकी पोस्ट से एक आइडिया आया है - ऐसे सर्वेक्षण का। विस्तार से शायद कभी करा जाय इस चेतावनी के साथ सांख्यिकीय गणनाएं कभी बहुत अप्रत्याशित व परस्पर विरोधी लगने वाले निष्कर्ष भी देतीं है।

    इस टिप्पणी का कारण 1+ परंतु मात्र आभार के लिये नहीँ, अपितु अपनी प्रतिक्रिया के लिये।

    ReplyDelete
  36. क्या जबरदस्त टिप्पणियों के सच का खुलासा किया है आपने ।

    ReplyDelete
  37. बेहतरीन है ऑंखें खुल गई..
    मीत

    ReplyDelete
  38. क्‍या कहूं वरिष्‍ठ‍ टिप्‍पणीकारों ने कोई जगह भी नहीं छोड़ी है। वैसे पोस्‍ट और उसपे की गई टिप्‍पणियां मुझे आज तक हैरान कर रही है। चोखेरबाली की एक टेस्‍ट पोस्‍ट है। उस में कुल जमा पांच लाइनें हैं वह भी यह जानकारी देने के लिए कि पेज को रिफ्रेश कर लें। और नीचे दे दनादन टिप्‍पणियां। :)

    इस टिप्‍पणी को किस कैटेगरी में रखेंगे आप...


    ऊपर की बात को उदाहण के रूप में लें तो मैं इसे कहूंगा विषय से संबंधित टिप्‍पणी। यह केवल उत्‍साहित ही नहीं करती बल्कि कुछ नया सोचने या जानने का अवसर देती है। लेकिन वास्‍वत में होता यह है कि टिप्‍पणी दान के क्रम में हम कुछ भी लिखने को तत्‍पर रहते हैं। भले ही वह उस ब्‍लॉग या पोस्‍ट से संबंधित ही न हो। कुछ शब्‍द तो ऐसे हैं जिन्‍हें कभी भी कहीं भी कहा जा सकता है। जैसे सुंदर, आभार इत्‍यादि। अधिक बोलूंगा तो गड़बड़ हो जाएगी।

    अच्‍छी पोस्‍ट...

    ReplyDelete
  39. भाई आशीष जी , अब लगे हाथ यह भी बता दीजिए की यह कहा स पता चलता है की आपने दूसरे ब्लॉगो पर अब तक कितनी टिप्पणियां की है |

    ReplyDelete
  40. Bahut badhiya nishkarsh nikaala hai, aashish ji aapne ...

    ReplyDelete
  41. yah to sachchaayee hai Ashish ji .
    aap ko to blog-psychologist ki degree mil hi jani chaheeye.

    ReplyDelete
  42. हे महान लेखक !हे ब्लॉग जगत के पेले.तुम्हारी तारीफ़ क्या करू ..तुम बहुत सुन्दर खेले.हिंदी ब्लॉग तकनीक के तुम ज्ञाता ..ब्लॉग पे कोई समस्या जो कोई तुम्हे बतलाता...पल भर में हल पाता...सब संकट टल जाता..
    टिप्पणियों पर पर आपका ये अनुसंधान ...
    याद करेगा हिन्दुस्तान ....
    बोलो आशीष जी महाराज की जय.......

    ReplyDelete
  43. आशीष जी , मैं आपके ब्लॉग को फालो करता हूँ तो अनुसरण कर्ताओं में मेरी फोटो नहीं आती है...जबकि टिप्पणी करने कि जगह मेरी फोटो आ जाती है...कृपया मार्ग दिखाए..

    ReplyDelete
  44. हम भी नामचीन चिट्ठे के लेखक की नजर में आने के लिये टिपिया दिये।
    http://technologywithentertainment.blogspot.com/

    ReplyDelete
  45. हे ब्लॉग अभियंता . आपसे सहर्ष सहमत . अगर अपनी कहूं तो कारण नंबर ४, ५, ६, ७ को छोड़ अन्य सभी कारणों से हमने टिपियाया. एक कारण ख़ास रहा जो आपने नहीं लिखा पर मेरे साथ ये खुजली जरूर रही .अगर कहीं घोर असहमति लगी तो पूरा गुबार उतार आये और हलके हो लिए .

    बहरहाल आपका यह रंग पसंद आया .!

    ReplyDelete