Wednesday, April 15

डैशबोर्ड पर ब्लॉग के शीर्षक से पहले यह क्या दिख रहा है?

यह परिवर्तन आपने भी महसूस किया होगा। ब्लॉगर डैशबोर्ड पर आपको ब्लॉग के शीर्षक से पहले दो आइकन नजर आ रहे होंगे। एक में फोन दिख रहा है और दूसरे में चिट्ठी। कुछ साथियों ने ई-मेल के जरिए जानना चाहा है कि क्या यह कोई नई सुविधा है। इसका इस्तेमाल वे कैसे कर सकते हैं?





जानकारी के लिए बताना चाहूंगा कि इनमें से एक पोस्टिंग बाय एमएमएस (फोन के जरिए पोस्ट का प्रकाशन) के लिए है और दूसरा ई-मेल पोस्टिंग (ई-मेल के जरिए पोस्ट का प्रकाशन) के लिए। ब्लॉगर पर यह सुविधा नई नहीं है। यह पहले से ही मौजूद है, बस इसे सुलभ बनाने के लिए इनके बटन डैशबोर्ड पर ही दे दिए गए हैं।



पोस्टिंग बाय एमएमएस- इस सुविधा के जरिए आप अपने मोबाइल फोन की मदद से ही अपनी पोस्ट को लिखकर प्रकाशित कर सकते हैं। हिन्दी में लिखने के लिए आपके फोन का यूनीकोड समर्थित होना अनिवार्य है। इसके लिए आपको अपने फोन को ब्लॉग के साथ रजिस्टर करना होगा। अगर आपका फोन एमएमएस समर्थित नहीं है तो आप इस सेवा का इस्तेमाल नहीं कर सकते। इसकी विस्तृत जानकारी के लिए यह पोस्ट पढ़ें..

ई-मेल पोस्टिंग- यह सुविधा ब्लॉगर (या ब्लॉगस्पॉट) वेबसाइट पर आए बिना ही पोस्ट प्रकाशन की अनुमति देती है। इसके लिए आप अपने ई-मेल के जरिए ही पोस्ट लिखकर उसे प्रकाशित कर सकते हैं। ज्यादा जानकारी इस पोस्ट में दी गई है..

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

23 comments:

  1. ई-मेल सुविधा से बहुत पहले एक पोस्ट कर के देख चुका हूँ, पर यह फोन वाली सेवा के बा्रे में नहीं जानता था । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  2. ashish bhai,
    bhaiyaa ye sab to aap hee bata sakte hain hamare liye to apnaa daish board mua slate hai jismein ham kuchh mitaa bhee nahin sakte, jaankaaree ke liye dhanyavaad, mujhe lagtaa hai ki jaldee hee koi aisee sewa shuru ho jaayegee jismein ghus kar main seedhe aap tak pahunch jaaungaa, tab tak yahaan aata rahungaa.

    ReplyDelete
  3. सवाल से पहले ही आपका जवाब कई बार तैयार मिलता है ऊपर उसे देख कर चोंका ही था की निचे आपके ब्लॉग में इसे देखा...
    उत्तम जानकारी के लिए शुक्रिया...
    मीत

    ReplyDelete
  4. जानकारी से लाभान्वित हुआ।

    ReplyDelete
  5. आज ही ने बटन देखे तब सोच ही रहे थे कि आपकी पोस्ट ने जिज्ञासा शांत करदी. धन्यवाद.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. Main bhi iske baare mai soch rahi hi rahi thi ki apki post hi aa gayi...

    ab sub kuchh clear ho gaya...

    ReplyDelete
  7. ब्लागिंग के अभियन्ता आशीष जी की कलम को सलाम।
    आपने बिल्कुल नई जानकारी से अवगत कराया है।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  8. karliya ji magar pahale ek baaragi try karta hun ke hua ke nai...

    abhaar aapka
    arsh

    ReplyDelete
  9. नए बटन देख कर हम भी अनुमान लगा रहे थे। विस्तृत जानकारी के लिए धन्यवाद। हर बात का जवाब होता है आपके पास। :)

    ReplyDelete
  10. जानकारी के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  11. उपयोगी जानकारी...क्या आप ऐसे लेख दिव्यनर्मदा.ब्लागस्पाट.कॉम में प्रकाशन के लिए दे सकेंगे। आपे ब्लॉग पर टंकण औजार हो तो हिन्दी में टंकन के लिए अन्यत्र न जाना पड़े.

    ReplyDelete
  12. जानकारी के लिए आभार।

    ReplyDelete
  13. हाँ, सुबह से ही देखा था... और ट्राई भी करके देख चुका था....

    ReplyDelete
  14. कमाल है!!!!! आज मैं सुबह से परेशान थी कि ये दो नये प्राणी डैश बोर्ड पर क्यों दिखाई दे रहे है? सोचा समस्या आप तक पहुंचाई जाये, तो देख रही हूं कि जवाब तो पहले से ही मौज़ूद है...शुक्रिया.

    ReplyDelete
  15. बढिया जानकारी.........

    ReplyDelete
  16. dhnywaad is upyogi jaankari ke liye.
    andaaza laga hi rahi thi -

    ReplyDelete
  17. bahut badiya jaankari hai dhanyvad

    ReplyDelete
  18. उपयोगी जानकारी । जानकारी के लिए आभार ।

    ReplyDelete
  19. Thanks for this information...

    ReplyDelete