Thursday, October 23

चिट्ठाजगत पर रेंक कैसे सुधारें?


हिन्दी ब्लॉग संकलकों में धड़ाधड़ महाराज यानी चिट्ठाजगत का खास स्थान है। यहां विभिन्न हिन्दी चिट्ठों को श्रेणीवार दिखाया जाता है। ऐसा ब्लॉगवाणी और नारद जैसे दूसरे संकलकों में भी होता है, फिर चिट्ठाजगत में खास क्या है? खास यह है कि यह हर चिट्ठे के साथ उसका सक्रियता क्रम भी दिखाता है। कुछ इस तरह-



आपको यह जानकर खुशी होगी कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स भी चिट्ठाजगत पर शीर्ष सौ हिन्दी चिट्ठों में शामिल हो गया है। फिलहाल इसका ताजा सक्रियता क्रम है-

क्या आपका चिट्ठा भी चिट्ठाजगत पर पंजीकृत है? अगर नहीं तो इस पोस्ट पर जाइए। क्या आप चाहते हैं कि चिट्ठाजगत पर अपना सक्रियता क्रम बढ़ाएं। अगर हां, तो नीचे दी गई जानकारी को ध्यान से पढ़िए।

चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रम नीचे दी गई बातों पर निर्भर करता है-

1. आपके चिट्ठा लिखने की आवृति क्या है।
2. आपने आखरी लेख कब लिखा।
3. आपके लेख का उदाहरण कितने चिट्ठों की कितनी प्रविष्टियों में दिया गया। ध्यान रहे "उदाहरण" लेख feed में अवतरित होता हो। इसे चिट्ठाजगत पर हवाले कहा जाता है।
4. "पसंदीदा चिट्ठे", "पसंदीदा लेख", "चिट्ठे सूचक", "सांकेतिकशब्द सूचक" सूची में आपको कितने प्रयोक्ताओं ने सूचीबद्ध किया है।


अब ऊपर दी गई चीजों को आसान शब्दों में समझते हैं। सक्रियता क्रम बढ़ाने का सबसे असरदार नुस्खा है कि आप नियमित लिखें। मतलब आप जितनी ज्यादा पोस्ट लिखेंगे, चिट्ठे का सक्रियता क्रम उतना ही सुधरता जाएगा।

अब आते हैं हवाले पर। जब आप किसी ब्लॉग या उसकी किसी पोस्ट का संदर्भ अपनी पोस्ट में देते हैं तो उसके साथ एक लिंक भी देते हैं। चिट्ठाजगत का सूत्र इसी संदर्भ को पढ़ता है और उसे हवाले के रूप में पेश करता है। मतलब यह है कि अगर आपके चिट्ठे को दूसरे ब्लॉगर अपनी पोस्ट में (याद रखें साइडबार में नहीं) जितने ज्यादा लिंक देंगे, आपका सक्रियता क्रम उतना ही सुधरता जाएगा।

तीसरी बात है "पसंदीदा चिट्ठे", "पसंदीदा लेख", "चिट्ठे सूचक", "सांकेतिकशब्द सूचक" के बारे में। चिट्ठाजगत पर अकाउंट बनाने के बाद आप किसी भी चिट्ठे को पसंद कर सकते हैं। उसके लेख को पसंद कर सकते हैं। उसकी पोस्ट अपने खाते में मंगा सकते हैं आदि। इस तरह से जितने ज्यादा पाठक आपके चिट्ठे और पोस्ट को पसंद करेंगे आपका चिट्ठा सक्रियता क्रम में उतना ही आगे बढ़ता जाएगा। क्या आपने हिन्दी ब्लॉग टिप्स को पंसदीदा चिट्ठों में शामिल किया। अगर नहीं तो यहां क्लिक कीजिए।

आपके चिट्ठे के सक्रियता क्रम में बढ़ोतरी की शुभकामनाओं के साथ--

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

No comments:

Post a Comment