Saturday, July 19

रीसेंट कमेंट विजेट हिन्दी में

रीसेंट कमेंट विजेट को कस्टमाइज कीजिए

http://
(जैसे: "yourblog.blogspot.com" या "www.yourblog.com")

करेक्टर तक


           




पिछली पोस्ट में जिस रीसेंट कमेंट विजेट की जानकारी दी गई थी, वह अंग्रेजी में था और परिणाम भी अंग्रेजी में ही दिखाता था। हिन्दी ब्लॉगर्स की सुविधा के लिए हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने हिन्दी में विजेट तैयार करने का काम शुरू किया है। शुरुआत रीसेंट कमेंट विजेट से जो पूरी तरह से हिन्दी में है और परिणाम भी यथासंभव देवनागरी में ही दिखाता है। आप आसानी से इसे अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं।

1. मौजूद फॉर्म में आवश्यक पूर्तियां कीजिए।

2. लागू करें पर क्लिक करने के बाद विजेट आपके ब्लॉग पर ले जाएं पर क्लिक कीजिए।

3. ब्लॉगर अकाउंट में साइन इन कीजिए।

4. वह ब्लॉग चुनिए जिस पर आपको यह विजेट लगाना है।

5. सेव कीजिए।

अब यह विजेट आपके ब्लॉग पर लग चुका है। हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आपको यह विजेट साइडबार में नजर आ रहा होगा।

आपको यह विजेट कैसा लगा? बताइए जरूर..

27 comments:

  1. bahut kaam ki jankaari.. aapke blog to gagar mein sagar hai..

    ReplyDelete
  2. आपने बहुत अच्छा काम किया है। इसके लिए आप बधाई के पात्र हैं।
    मैंने अपने ब्लॉग http://tasliim.blogspot.com/ में इसे सक्रिय करने का प्रयास किया, यह जुड तो गया, पर टिप्पणियाँ नहीं दिखा रहा है। कृपया बताने का कष्ट करें, कि क्या कारण हो सकता है।

    ReplyDelete
  3. जाकिर साहब, इसका एक संभावित कारण यह हो सकता है कि आपने अपने ब्लॉग की सैटिंग में फीड ऑप्शन को full पर सैट नहीं किया हो। आपको इसे फुल पर सैट करना है। तरीका जानने के लिए यहां क्लिक करें- http://help.blogger.com/bin/answer.py?hl=en&answer=42662

    फिर भी आपकी समस्या दूर नहीं हो तो कृपया टिप्पणी करें।

    ReplyDelete
  4. आपके सुझाव का शुक्रिया। दरअसल मैंने ब्‍लॉग के यूआरएल में गल्‍ती से दो स्‍लैश टाइप कर दिये थे, बाद में ध्‍यान से देखा, तो गल्‍ती समझ में आई और तस्‍लीम http://tasliim.blogspot.com/ पर आपका यह टूल काम कर गया। इस सहयोग के लिए हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  5. आपके ब्लोग पर प्रथम बार आया हूं. अतः सर्वप्रथम नमस्कार स्वीकार करें.
    बहुत अच्छा विषय है.
    www.rashtrapremi.com

    ReplyDelete
  6. aap ki hi trah hum bhi ek blog banana chahte hai

    kripya jankari dene ki kripaa karei

    ReplyDelete
  7. आशीष जी आपका यह विजेट बहुत अच्छा लगा | मैंने भी लगा दिया है. | मैं थोड़ा सुधार की अपेक्षा रखता हूं | विजेट अपने ब्लाग पर क्लिक करने पर हिन्दी ब्लाग टिप्स नए विंडो में खुले |

    ReplyDelete
  8. गुरुजी!आपसे मुझे काफी अनमोल जानकारी ब्लॉग के बारे में सिखने को मिला-AJAY SINGH(Only Student)

    ReplyDelete
  9. Really interesting information, thanks.

    ReplyDelete
  10. it is not working on my blog . no comments are visible . http://objectivemaths.blogspot.com

    regards
    sushil

    ReplyDelete
  11. बहुद उम्दा ब्लॉग हैं आपका .

    ReplyDelete
  12. आपका यह विजेट बहुत अच्छा लगा, मैंने भी लगा दिया है

    ReplyDelete
  13. lagaa to liya, hai

    magar comments nahi dikh rahe hain...
    I am still trying.
    Thanks.

    ReplyDelete
  14. yeah, i was able to put it on my blog

    गलती ये हो रही थी, के apne blog ka address bharna bhool gya tha.

    ReplyDelete
  15. aha ke prayas gaam se dur lok ke mithila ke abhas daiye ye.......

    ReplyDelete
  16. आपका यह साईट हमारा बड़ा मार्गदर्शन करता है। मैने www.sushilkumar.net, http://diary.sushilkumar.net और htpp://nukkadh.blogspot.com पर आपकी मदद से टिप्पणियॊं साईडबार में दिखलाना शुरु कर दिया है।बहुत आभारी हूं।-
    सुशील कुमार

    ReplyDelete
  17. आशीष जी, हैरत है कि http://nukkadh.blogspot.com पर आपका यह टिप्पणियां दिखाने वाला विजेट काम नहीम कर रहा। आपही बतायें क्या करूं,अविनाश जी ने एडमिन दिया था पर मेरे दोनो ब्लाग पर सही है यह। -सुशील कुमार (sk.dumka@gmail.com)

    ReplyDelete
  18. BEHATARIN KHYAL SE SAJJEE HAI .AAPKI RACHCNAAYE ........THANKS

    ReplyDelete
  19. TypeError: objPost is undefined

    Jab se kuchh link lage, ye upar vala error aane lagaa
    samadhan karane ki kirpa karen
    shahid mirza shahid

    ReplyDelete
  20. This in my first visit to ur blog aur mujhay aapkay blog par aapki likhee hue kratiya padkar ye mehsous hua ki aapkay lekhan mai ek gharae aur parpakvata aur jo sabdon ka chunaav hai vo aapki lekahan ki disha ko darsata hai jo aapko ek majhay aur naamchin sayaro ki pankti mai le jaati hai "साया है कम तो फ़िक्र नहीं क्यूंकि वो शजर,
    ऊँचाई की हवस के लिए मुस्तकीम है !!"

    plz.keep on writing aapki har naye najmay aur ghjalay pahlay sai aour paripakva hoti ja rahi hai quki aapki kratiya tahdaar,asardar,sanjidda hai osmai shokhi bhi hai haajir jabbabai aur gazab ki tahjib bhi hai so keep on writing.................pramod

    ReplyDelete
  21. ek accha vijet hai | kuchh der me para laga |dhanyvaad |

    ReplyDelete
  22. मेरी और से ढेरो शुभकामनाएं! ऐसे ही अचानक इन्टरनेट पर हिंदी कविता ढूंढ लिया तो इस अति सुन्दर वेबसाइट का पता चला | एक एक कर पूरी वेबसाइट पढूंगा |
    मुझे भी हिंदी कविताओं में अपनी जिंदगी के हर लम्हे को उतारने का जज्बा है | इसी सन्दर्भ में मैंने हाल ही में एक ओंन लाइन पत्रिका 'श्रद्धांजलि' शुरू की है | 'श्रद्धांजलि' उनको

    भावभीनी श्रद्धांजलि है जो अब इस दुनिया में नहीं है | आपसे अनुरोध है क्रपया इस वेबसाइट पर भी अपनी अमूल्य रचनाएं भेजिए | इसका पता है=

    http://shraddhanjali.in/

    नमन

    ReplyDelete
  23. Friends this is real story of our life we had during our graduation. I really appreciate Durgesh that he spent his precious time to put all into words. He did it so wonderfully and precisely that he could not left any important event. After reading the picturesque description, it seems to me that I am in my college. Well done friend, keep it up we all are with you........!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  24. वाकई बहुत उपयोगी है

    ReplyDelete
  25. भाई मैंने भी लगा लिया है।

    ReplyDelete
  26. भाई मैंने भी लगा लिया है।

    ReplyDelete