Friday, November 21

बेईमान नहीं है चिट्ठाजगत

हाल ही हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर क्या चिट्ठाजगत बेईमान है? शीर्षक के साथ पोस्ट प्रकाशित की गई थी। इसमें चिट्ठाजगत के रेंकिंग सिस्टम में हिन्दी ब्लॉग टिप्स के साथ हुए पक्षपात को उजागर किया गया था। इस मामले में चिट्ठाजगत ने त्वरित कार्रवाई की और उस तकनीकी खामी का पता लगाया, जिसके चलते ऐसा हुआ था। इस खामी के दूर होने के बाद हिन्दी ब्लॉग टिप्स की रेंक 113 से उछलकर 58 हो गई है। चिट्ठाजगत सेवा दल को इस त्वरित सुनवाई और सहयोग के लिए धन्यवाद..

चिट्ठाजगत अन्य हिन्दी संकलकों के मुकाबले ज्यादा संप्रेषणीय और तथ्यात्मक सूचनाएं उपलब्ध कराता है। इसका तंत्र भी काफी अच्छा है, लेकिन इसमें कुछ तकनीकी खामियां अब भी मौजूद हैं। इस पोस्ट के माध्यम से मैं चिट्ठाजगत सेवा दल का ध्यान इन खामियों की ओर दिला रहा हूं, जिससे वे इन्हें सुधारकर चिट्ठाजगत को और प्रभावी बना सकें।

चिट्ठाजगत अभी तक यह मानता है कि एक नाम का केवल एक ही ब्लॉगर हो सकता है। मसलन अगर आशीष नाम के दो या दो से ज्यादा ब्लॉगर हैं तो वह आशीष की प्रविष्ठियों में सभी ब्लॉगर्स की प्रविष्ठियां दिखा देता है। नमूना इस पेज पर देखिए- चिट्ठाकार "आशीष" द्वारा प्रविष्टियाँ (इस पेज पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स और बूझो मेरे ब्लॉग हैं, जबकि बोल हल्ला, जिंदगी और मेरे अनुभव और एक अधूरी दास्तान आशीष महर्षि जी के हैं)। इस पेज पर आने वाला पाठक यही सोचता है कि ये सभी ब्लॉग एक ही ब्लॉगर के हैं।

इसमें एक और परेशानी यह है कि अगर किसी ब्लॉगर ने प्रोफाइल में मौजूद अपने नाम में जरा भी फेरबदल कर लिया, तो फेरबदल वाले नाम के साथ नया पेज बनेगा। यानी पिछले नाम के साथ लिखी गई पोस्ट उस पेज पर नहीं दिखेगी। नमूना देखिए- मैंने 10 जुलाई को प्रोफाइल में अपना नाम आशीष से बदलकर आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal) कर लिया। आपको चिट्ठाकार "आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)" द्वारा प्रविष्टियाँ पेज में उससे पहले की हिन्दी ब्लॉग टिप्स की प्रविष्ठियां नजर नहीं आएंगी। अगर आपने नाम में रोमन और देवनागरी लिपि में भी बदलाव किया तो चिट्ठाजगत उसे नहीं पहचानता।

चिट्ठाजगत की एक और तकनीकी खामी यह है कि अगर किसी चिट्ठाकार ने अपनी पोस्ट में वीडियो का इस्तेमाल किया है, तो चिट्ठाजगत के नमूने में वह वीडियो उस पोस्ट के साथ तो दिखेगा ही, साथ ही उससे नीचे वाली सभी पोस्ट में भी वह वीडियो नजर आता रहेगा, भले ही वह उन पोस्ट में शुमार ही नहीं हो। नमूना इस चित्र में देखिए। एक ही वीडियो सभी पोस्ट के साथ नजर आ रहा है। यह चित्र चिट्ठाकार "आशीष खण्डेलवाल (Ashish Khandelwal)" द्वारा प्रविष्टियाँ पेज से ही लिया गया है।




उम्मीद है कि चिट्ठाजगत जल्द ही इन कमियों को दूर करेगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

10 comments:

  1. आशीष खण्डेलवाल जी,

    आपने दो बातों पर ध्यान दिलाया है।

    १. मसलन अगर आशीष नाम के दो या दो से ज्यादा ब्लॉगर हैं तो वह आशीष की प्रविष्ठियों में सभी ब्लॉगर्स की प्रविष्ठियां दिखा देता है।

    इसे ऐसा ही बनाया गया है।

    जो आप चहा रहे हैं वो है
    http://www.chitthajagat.in/?dhurandhar=chavi/chimg481fec1e74c22

    इसे चटकाने से आपके ही लेख दिखेंगें, अपनी फोटो चटकाएँ इस पर जाने के लिए। चाहे आप जितनी बार नाम बदलें।


    २. अपनी पोस्ट में वीडियो का इस्तेमाल किया है, तो चिट्ठाजगत के नमूने में वह वीडियो उस पोस्ट के साथ तो दिखेगा ही, साथ ही उससे नीचे वाली सभी पोस्ट में भी वह वीडियो नजर आता रहेगा।

    एक टाइपो के चलते कुछ जगह यह हो रहा था, इसे सुधार दिया है, शुक्रिया।

    ReplyDelete
  2. चिट्ठाजगत सेवा दल..फिर से त्वरित समाधान के लिए शुक्रिया..

    ReplyDelete
  3. दो सेवा दल (चिट्ठाजगत और आशीष जी ) ऐसे ही संवाद करते रहें तो बिना किसी अतिरिक्त श्रम के वांछित, अवांछित न जाने कितनी समस्याओं का समाधान यूँ ही मिल जाया करेगा. पर आशीष जी चिट्ठाचर्चा में मेरी पोस्ट के हवाले को चिट्ठाजगत अब भी नहीं दिखा रहा है. क्या सुधार शिकायत पर ही होता है ? खैर, इतनी खूबसूरत पोस्ट के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete
  4. तुरंत हुई कार्यवाही :) अच्छा है यह

    ReplyDelete
  5. हल निकला, आप खुश, हम भी खुश. हर कोई तृप्त !!

    ReplyDelete
  6. इससे संकलक के प्रति विश्वास बढ़ा है जानकारी के लिए आभार किंतु मेरा चिठ्ठा दिख तो रहा है किंतु लिस्ट में नहीं दिख रहा है ,

    ReplyDelete
  7. mera blog bhi aaraam se chal
    ne ke bad achanak 100 ke andar aa gaya !!!!!!!!


    thank u ji!!!!!!1

    ReplyDelete
  8. kripya aap comment box ko aap pop me hi rakhen varna page reload hone me time leta hai!
    !!!!!!!!

    ReplyDelete
  9. नहीं मुझे अभी नहीं लगता कि यहाँ पक्षपात रुका है क्योंकि दो-या तीन देन में एक बार पोस्ट करने वालों की स्थिति लगभग 300 से नीचे है और जबकि महीने में एक बार लिखने वालों की स्थिति 100 से ऊपर। अब नाम न लेना उचित होगा, फिर ज़रा ध्यान दो इस बात का!

    ReplyDelete