Thursday, February 5

डुप्लीकेट ब्लॉग बनाएं

सीखिए चुटकियों में अपने ब्लॉग के जैसा ही एक और ब्लॉग (बैकअप) बनाने का तरीका

पिछली पोस्ट में जानकारी दी गई थी कि किस तरह से आप दो या दो से ज्यादा ब्लॉग को एक में समाहित कर सकते हैं। इसी कड़ी में अब जानकारी दी जा रही है कि आप किस तरह से अपने ब्लॉग का डुप्लीकेट ब्लॉग तैयार कर सकते हैं। डुप्लीकेट ब्लॉग मतलब आपके ब्लॉग की प्रविष्ठियों और टिप्पणियों को एक और जगह सहेज कर रखने वाला ब्लॉग। इसका सबसे बड़ा फायदा उन लोगों को हैं, जिन्हें अपनी प्रकाशित प्रविष्ठियों को अक्सर एडिट करना पड़ता है। उनके लिए यह ब्लॉग किसी भी विषम परिस्थिति में बैकअप का काम कर सकता है। साथ ही जिस ब्लॉग पर एक से ज्यादा लेखक होते हैं, वहां भी आपसी तालमेल के अभाव में किसी प्रकाशित पोस्ट के साथ छेड़छाड़ या उसके डिलीट हो जाने का खतरा होता है। ऐसे में उन्हें भी अपनी सभी पोस्ट और कमेंट्स (पेज एलिमेंट समेत) का बैकअप डुप्लीकेट ब्लॉग के रूप में रखना चाहिए।

जानते हैं इसे बनाने का तरीका-

1. डैशबोर्ड पर जाइए।

2. उस ब्लॉग की सैटिंग्स पर क्लिक कीजिए, जिसका आप डुप्लीकेट ब्लॉग बनाना चाहते हैं।

3. सबसे ऊपर Blog Tools श्रेणी में Export blog पर क्लिक कीजिए।



4. यहां आपसे Download Blog का ऑप्शन पूछा जाएगा। इस पर क्लिक कर आप अपने ब्लॉग की .xml फाइल को कंप्यूटर की किसी डायरेक्ट्री में सेव कर लीजिए।

5. इसके बाद आप फिर से डैशबोर्ड पर जाइए और Create a Blog पर क्लिक कीजिए।



6. यहां थोड़ा नीचे आपको Advanced Options दिखेगा। यहां नीचे दिखाए गए चित्र के अनुसार Import Blog Tool पर क्लिक कीजिए।



7. अब यहां आप उस फाइल को ब्राउज कर लीजिए, जिसे आपने स्टेज-4 में सेव किया था।

फाइल को अपलोड करते ही आपका डुप्लीकेट ब्लॉग तैयार हो जाएगा। आप इसे भविष्य में किसी असुविधा से बचने के लिए बैकअप के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

17 comments:

  1. बढ़िया तरीका है यह ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. बहुत लाजवाब बात बताई जी आपने. सारी चिंता ही दूर कर दी. हमारे साथ तो ऐसा कभी भी हो सकता है क्युंकि हम खुद भी अनाडी हैं कोई उल्टा सीधा बटन दब गया तो पूरे ब्लाग का ही बोलो राम हो जाये.

    रामराम.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही ज्ञानवर्धक रहा. अब जब दूसरा ब्लॉग बनेगा तो नाम तो बदल जाएगा न भले मैटर वाही आ जाए.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही ज्ञानवर्धक रहा.

    ReplyDelete
  5. bahot hi badhiya jaankari,maine to hatho-hath kar hi daali.....
    abhar
    arsh

    ReplyDelete
  6. Achhi jankari dena ke liye shukriya.

    ReplyDelete
  7. भई वाह आशीष जी आपका भी जवाब नहीं बधाई

    ReplyDelete
  8. आशीष जी,आपके द्वारा दी गयी जानकारी ज्ञानवर्धक है । भविष्य में भी इस प्रकार के लेखों का इन्तजार रहेगा ।

    ReplyDelete
  9. वाह ,यह तो बहुत अच्छा तरीका हैं ,एक बात बताये ,मेरे पुराने ब्लॉग का पस्वोर्ड खो गया था ,क्या उनको भी इसी तरीके से प्राप्त कर पोस्ट एडिट की जा सकती हैं ?

    ReplyDelete
  10. बहुत उपयोगी जानकारी दी है आपने|... आपके सभी ब्लॉग जानकारी से परिपूर्ण है|... धन्यवाद|

    ReplyDelete
  11. बहुत ही काम का तरीका बताया है आपने, शुक्रिया।

    ReplyDelete
  12. उपयोगी जानकारी के लिये धन्यवाद.

    ReplyDelete
  13. bolte rahiye hum sun rahe hain...life mein kabhi itne dhyaan se lecture nahi suna hoga jitna aap ka sun rahe hain ......:)

    ReplyDelete
  14. हिंदी के ब्लागरों के लिए प्रसंशनीय कार्य कर रहे हैं, शुभकामनाएं और ढेर सारी बधाई

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छा तरीका बताया आपने
    धन्य्वाद

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छी जानकारी ...धन्यबाद.
    आशीष मिश्र

    ReplyDelete
  17. बहुत ही काम कि जानकारी देने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete