Thursday, December 18

आप क्या कहते हैं ऐसे खेलों पर


इन दिनों बुश और उन पर फेंका गया जूता काफी चर्चा में हैं। हर अखबार में और हर टीवी चैनल पर। और लोकप्रियता का आलम तो यह है कि उन पर ऑनलाइन कंप्यूटर गेम भी बन गए हैं। बुश पर जूते फेंकों और प्वॉइंट्स बटोरों। किसी के लिए यह भावनाओं को दिखाने का तरीका हो सकता है, किसी के लिए खेल और किसी के लिए पैसे बटोरने का साधन। आप खुद इन गेम्स को देखिए-


http://bushbash.flashgressive.de/


http://www.sockandawe.com/


मैं इस पर अपनी कोई राय नहीं दे रहा। पर यह जरूर चाहता हूं कि आप अपनी राय दें। क्या इस तरह के कंप्यूटर गेम इंटरनेट पर होने चाहिए?

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

10 comments:

  1. मेरे अपने ख्याल से इस तरह की बातें नही होनी चाहिए ...यही खेल कहीं ख़ुद पर न पड़ जाए इस बात का ध्यान रखे खेलने वाले ..बाकी सबकी अपनी सोच है ..और कोई इसको कैसे लेता है वह उसके अपने ऊपर है

    ReplyDelete
  2. इतना गंद है नेट पर कि इससे बहुत फर्क नहीं पड़ता। क्लिण्टन-लेविंस्की प्रकरण में भी नेट पर ऐसे गेम थे।
    इतनी अश्लीलता है इण्टरनेट पर - क्या किया जा सकता है?

    ReplyDelete
  3. हम किसी को मना कर सकते हों तब तो ठीक है वरना हमें ऐसी बातों और ऐसे दृश्यों के लिये अपने आंख-कान बन्द कर लेने चाहियें.

    वैसे मैने देखा कि किसी ने इस खेल में नौ हजार से अधिक जूते मार दिये थे बुश को . सच में नहीं तो खेल में ही सही.

    बहुत प्रासंगिक प्रविष्टि है यह. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. दुनिया है तो !!! बाजार भी है!!!

    जिसका जो मन !!!!



    जानकारी के लिए शुक्रिया!!!

    ReplyDelete
  5. यह सही नहीं है.बहुत ही ग़लत संदेश देता है aisa game.
    सभी आज जूते फेंकने के प्रकरण को ही ले कर मजे करने लगे हैं किसी ने पलट कर देखा कि
    उस पत्रकार की हालत क्या हुई है?उस के भाई ने संचार पत्रों को बयां दिया है-
    उस पत्रकार को अमेरिकी सैनिकों ने खूब मारा है ,
    राइफल के बूट से सर पर घाव हुआ है और उस की बांह भी तोड़ दी है अब वह हॉस्पिटल में admit है.
    यह ख़बर कल के gulf news में थी.ऐसी घटनाओं के एक ही पहलू को देखा जाता है-कितनी बुरी बात है-.

    ReplyDelete
  6. नहीं, मैं ऐसे उपक्रमों का समर्थन नहीं करता । यह नकारात्‍मक दृष्टि है जो मानसिकता को विकृत करती है और आत्‍मा को मैला करती है । ऐसे उपक्रम दिलों में नफरत के बीज बोते हैं ।

    ReplyDelete
  7. swal yhan sirf juta Bush per fenkne ka bana diya gaya hai. Lekin yah baat isse kahin badi hai. G.W.Bush (American President)duniya ki Mehnatkas janta per Punjipatiyon dwara daman aur shoshhan ka sabse bada pratinidhi hai. Isliye Bush per Iraqui janta ke pratinidhi dwara juta fekna koi 'aslil' ya 'gandi' baat nahi hai.Yah ek Mahatvapurn rajnitik ghatna hai aur ise isi rup me dekha jana chahiye aur hum sabhi mehanatkas logon ko Duniya ke janta, mehnatkas janta ke sath ikattha ho kar anyay kerne walon ke khilaf ladrna chahiye.---Arun

    ReplyDelete
  8. i want to edit my blogger template in such a way that after every post...it shows a e mail subscription box asking user -" If u like this article, why dont u subscribe in your mail. Every update on this site will be sent directly to your mail" After this ther should be a box to enter e mail.....It should automatically appear after every post. How to edit the blogger template...pls werite an article

    ReplyDelete
  9. इस तरह के कंप्यूटर गेम इंटरनेट पर तो क्या, कहीं भी नहीं होने चाहिए।

    ReplyDelete