Tuesday, March 31

ब्लॉग की दुनिया में हमारी टिप्पणियों की प्रजातियां (व्यंग्य)

कल रचना जी की पोस्ट क्या आपकी टिप्पणी पोस्ट पर होती हैं या आप कि टिप्पणी नाम और उससे जुडे परसेप्शन पर होती हैं ने आंखें खोल दी। आज चूंकि वित्तीय वर्ष का आखिरी दिन है, इसलिए हम साल भर के अपने कमेंट ट्रांजेक्शन की भी बेलेंस शीट पूरी करने के लिए बैठ गए। एक अप्रेल 2008 से आज यानी 31 मार्च, 2009 के बीच की गई 13,844 टिप्पणियों में से हर टिप्पणी को खोलकर देखा। उन्हें कमेंट करने की वजह के हिसाब से बांटा तो नीचे दिए गए नतीजे सामने आए-





मेरी टिप्पणियां आठ वजहों से की गई थीं-

वजह 1- पोस्ट पढ़ते ही स्वतःस्फूर्त कमेंट बॉक्स में उंगलियां चलने लगीं। लेखक ने इतना बिंदास और झक्कास लिखा था कि टिप्पणी कर आभार जताना अपरिहार्य हो गया था।

वजह 2- कभी-कभी ब्लॉगवाणी, चिट्ठाजगत या नारद खोलते ही जो भी पोस्ट मिली उस पर टिपिया गए हम।

वजह 3- 'आपने मेरे ब्लॉग पर टिप्पणी की है तो सदाशयता के नाते मुझे आपके ब्लॉग पर भी टिप्पणी करनी चाहिए।' इस महान विचार को आधार बनाकर भी हमने काफी सारी टिप्पणियां ठोंक डालीं।

वजह 4- अगर फलां जी की पोस्ट पर टिप्पणी नहीं की तो मेल पर या फोन पर बोलेंगे/ बोलेंगी कि आज आपने मेरी पोस्ट नहीं पढ़ी। तो टिप्पणी कर दो, जिससे उपस्थिति दर्ज हो जाए। ऐसा भी कुछ जगह हमारी टिप्पणियों में देखने को मिला।

वजह 5- नामचीन चिट्ठाकारों की निगाह में आने के लिए उनकी पोस्ट पर टिप्पणी करने से बेहतर तरीका क्या हो सकता है। ऐसा भी कई बार सोचकर हम कुछ भारी भरकम चिट्ठों पर टिपिया गए।

वजह 6- पहेली-वहेली जीतने के फेर में भी हमने बहुत टिप्पणी की। यह बात और है कि एक बार भी हम विजेता नहीं बन सके।

वजह 7- अपने ब्लॉगर धड़े के तुष्टिकरण के लिए। वैसे तो हम जी किसी धड़े में यकीन नहीं रखते, लेकिन फिर भी हमें एकाध बार बाध्य किया गया कि फलां ब्लॉग पर फलां तरह की टिप्पणी कर दीजिए। ज्यादा बहस न करते हुए हमने ऐसा कर भी दिया।

वजह 8- हिन्दी ब्लॉग जगत की हौसला अफजाई के लिए। हमें लगा कि हिन्दी ब्लॉग संसार को हौसला अफजाई की जरूरत है, इसलिए उन पोस्टों पर टिप्पणी कर दी जाए, जहां एक भी कमेंट नहीं। लेकिन हमारी टिप्पणी उन्हें कोई हौसला नहीं दे सकी और अब ऐसे ब्लॉग मृतप्रायः ही नजर आ रहे हैं।

देखिए, मैंने यहां अपनी टिप्पणियों के सच का खुलासा किया है। यह पूरी तरह से मुझ पर ही आधारित है। अगर किसी अन्य के साथ इसकी समानता पाई जाती है तो इसे महज संयोग ही समझा जाए।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, March 30

Monetise आया तो क्या, हिन्दी ब्लॉगर एडसेंस से उम्मीद न पालें


दो दिन पहले से ब्लॉगर पर एक नया टैब Monetise दिख रहा है। यह साइडबार में और पोस्ट के बीच में एडसेंस के विज्ञापन लगाकर कमाई की पेशकश कर रहा है। पोस्ट आ गया, आ गया, आ गया! गूगल एडसेंस आ गया!!(लेखक की आपत्ति पर पोस्ट को अपडेट करते हुए चित्र और लिंक हटा लिया गया है) और आरसी मिश्रा जी की पोस्ट एड्सेन्स Today’s Earning – आपके हिन्दी ब्लॉग्स पर आज की कमाई पढ़कर कोई भी हिन्दी ब्लॉगर सुनहरी कमाई के सपने देख सकता है। लेकिन यहां मैं स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि अभी तक हिन्दी ब्लॉगर्स के लिए एडसेंस के कमाई दूर की कौड़ी ही है, क्योंकि गूगल की एडसेंस के लिए समर्थित भाषाओं में हिन्दी का नाम शुमार नहीं है।




गूगल एडसेंस के इस पेज पर जाकर देखिए कि एडसेंस किन भाषाओं को समर्थन देता है। इस सूची में हिन्दी भाषा का नाम नहीं है।



इसके अलावा गूगल एडसेंस के नियम व शर्तों के मुताबिक गैर-समर्थित भाषाओं वाले ब्लॉग पर एडसेंस के विज्ञापन लगाने की अनुमति नहीं है।



इसलिए अगर आप हिन्दी ब्लॉग पर गूगल के विज्ञापन (एडसेंस कार्यक्रम)लगा रहे हैं, तो गूगल इसे शर्तों का उल्लंघन मान सकता है और आपका खाता भी बंद कर सकता है (फिलहाल वह ऐसे ब्लॉग्स पर सार्वजनिक सेवा के विज्ञापन दिखा रहा है, जिनसे कमाई नहीं होती)।

चलते-चलते यह भी स्पष्ट कर देना चाहूंगा कि अगर आप एडसेंस से पैसा कमा रहे हैं तो कृपया अपनी प्रति क्लिक कमाई को सार्वजनिक नहीं करें। आरसी मिश्रा जी की पोस्ट एड्सेन्स Today’s Earning – आपके हिन्दी ब्लॉग्स पर आज की कमाई में ऐसा चित्र दिखाया गया है।



शायद यह भी एडसेंस कार्यक्रम की शर्तों का उल्लंघन हो सकता है।



पूरी चर्चा का निष्कर्ष यही है कि हिन्दी ब्लॉगर्स एडसेंस से कमाई की तभी सोचें, जब गूगल हिन्दी भाषा को एडसेंस समर्थित भाषाओं की सूची में जगह दे। उम्मीद है गूगल जल्द ही इस सूची में हमारी हिन्दी को भी शामिल करेगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, March 27

आपके ब्लॉग पर नव संवत्सर की शुभकामनाएं

सभी साथियों को नव संवत्सर की बहुत शुभकामनाएं। हिन्दी ब्लॉग टिप्स आज हाजिर है नव संवत्सर की शुभकामना वाले विजेट के साथ। अगर आप नीचे दिए गए विजेट को अपने ब्लॉग की साइडबार में लगाना चाहते हैं तो तस्वीर के नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिए। निर्देशों का अनुसरण करते ही शुभकामनाएं आपके ब्लॉग की साइडबार में अपने आप पहुंच जाएगी।
नव संवत्सर मंगलमय हो


या आप यह तस्वीर भी चुन सकते हैं-

नव संवत्सर मंगलमय हो



नव संवत्सर गुजर जाने के बाद आप चाहें तो इस विजेट को लेआउट में जाकर आसानी से डिलीट भी कर सकते हैं।





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Tuesday, March 24

किसने लिखा पहला हिन्दी ब्लॉग ???

अपडेट (25 मार्च, 2009)- रवि रतलामी जी ने टिप्पणी के जरिए पहली हिन्दी पोस्ट और पहले हिन्दी ब्लॉग की जानकारी दी है। आपका कोटिशः आभार..

अजी, कहीं कोई कनफ़्यूजन नहीं है जी. पहली हिन्दी चिट्ठा प्रविष्टि अक्तूबर 2002 में विनय (v9y) ने यहाँ लिखी -
http://hindi.blogspot.com/2002/10/blog-post.html

और पहला हिन्दी चिट्ठा आलोक ने नौ दो ग्यारह के नाम से 21 अप्रैल 2003 को बनाया -
http://9211.blogspot.com/2003_04_01_archive.html



क्या आप जानते हैं कि हिन्दी में सबसे पहला ब्लॉग किसने और कब लिखा? आज मैं आपके सामने जो तथ्य पेश करने जा रहा हूं, उससे एक सनसनीखेज खुलासा होगा! हो सकता है कि यह खुलासा यह भी साबित कर दे कि दुनिया की पहली ब्लॉग पोस्ट हिन्दी में ही लिखी गई थी!




प्रतिष्ठित वेबसाइट एक्सफ्रूट्स के नीचे दिखाए गए स्क्रीनशॉट में दिखाई गई हिन्दी ब्लॉग टिप्स की पोस्ट की तारीख देखिए। इस पर लिखा है Wednesday, December 31, 1969. यानी इसके हिसाब से यह पोस्ट 39 साल 2 महीने और 23 दिन पुरानी है।



इसके अलावा आप इस पेज पर आकर तीसरी प्रविष्ठि (ब्लॉग पर Notice Board) की तारीख पर गौर कर सकते हैं। इसके हिसाब से यह पोस्ट 1 जनवरी 1970 को की गई थी। देखिए, मैं उस वक्त भी नियमित पोस्ट करता था। यह बात और है कि तब तक मेरा जन्म भी नहीं हुआ था।



शायद इस वेबसाइट के तंत्र में कुछ गंभीर खराबी है। वैसे विकिपीडिया के मुताबिक 17 दिसंबर, 1997 को जॉन बार्गर नामक शख्स ने पहली बार वेबलॉग शब्द का इस्तेमाल किया था। इस लिहाज से देखा जाए तो पहला ब्लॉग इस तारीख के बाद ही लिखा गया होगा।

बालेंदु शर्मा दाधीच जी ने अपने आलेख ब्लॉगिंग: ऑनलाइन विश्व की आजाद अभिव्यक्ति में पहले ब्लॉग की जानकारी कुछ इस तरह से दी है-

दुनिया का पहला ब्लॉग किसने बनाया, इस बारे में मतैक्य नहीं है। लेकिन इस बारे में कोई विवाद नहीं है कि ब्लॉगिंग की शुरूआत १९९७ में हुई । अप्रैल १९९७ में न्यूयॉर्क के डेव वाइनर ने स्क्रिप्टिंग न्यूज नामक एक वेबसाइट शुरू की जिसने ब्लॉगिंग की अवधारणा को स्पष्ट किया और लोगों को अपने विचार इंटरनेट पर प्रकाशित करने के लिए प्रेरित किया। दिसंबर १९९७ में जोर्न बार्गर ने रोबोटविसडम.कॉम की शुरूआत की और पहली बार इसे 'वेब लॉग' का नाम दिया। पीटरमी.कॉम के पीटर मरहोल्ज ने वेबलॉग के स्थान पर उसके छोटे रूप 'ब्लॉग' का प्रयोग किया। तब से इंटरनेट पर ब्लॉगों की जो तेज हवा बही, उसने पहले आंधी और अब तूफान का रूप ले लिया है।


हिन्दी की पहली पोस्ट किसने लिखी, इसे लेकर हमेशा से विवाद रहा है। शायद लिखने वाले ने मेरी तरह सबूत सम्हाल कर नहीं रखे होंगे।

अगर आप जानते हैं कि पहला हिन्दी ब्लॉगर कौन है, तो जरूर बताइएगा।

चलते चलते देखिए कि रेलगाड़ी से पहली हिन्दी ब्लॉग पोस्ट कब हुई और हिन्दी का पहला ज्ञात चिट्ठा संकलक कैसा दिखता था?


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, March 20

पोस्ट में फोटो का मनचाहा स्थान

अन्योनास्ति जी का सवाल है- "ब्लॉग में यदि हम कोई चित्र जोड़ते हैं, उसका स्थान निर्धारित है परन्तु यदि हम लेख या पोस्ट के बीच में कोई चित्र जोड़ना चाहें तो क्या तरीका है?" ब्लॉगर के पोस्ट एडिटर में जब कोई फोटो जोड़ी जाती है तो वह बाई डिफाल्ट सबसे ऊपर ही अपलोड होती है। अगर आप इसे पोस्ट के बीच में या अंत में किसी भी स्थान पर सजाना चाहते हैं तो नीचे दिया गया तरीका अपना सकते हैं।




सबसे पहले पोस्ट एडिटर में पोस्ट लिखिए और उसके बाद मनचाही फोटो अपलोड कर लीजिए। सरल सा तरीका इस पोस्ट में दिया गया है। ध्यान रखें कि तस्वीर का आकार (छोटा, मध्यम या बड़ा) और उसका अलाइनमेंट (बाएं, मध्य या दाएं) आपको यहीं पर तय करना होगा।



एक बार फोटो के अपलोड होने के बाद आप पोस्ट एडिटर के दाहिने ऊपरी हिस्से पर देखिए कि आप कम्पोज मोड में हैं या एडिट एचटीएमएल मोड में।



अगर आप कम्पोज मोड में हैं- कम्पोज मोड में आपको तस्वीर नजर आ रही होगी। आप इस पर माउसे से क्लिक कीजिए और मनचाही जगह पर ड्रेग कर (घसीट कर) ले जाइए। जब आपको लगे कि फोटो आपके मनचाहे स्थान पर आ चुकी है तो पोस्ट को पब्लिश कर दीजिए। इस मोड में आप इमेज का आकार भी खींचक घटा-बढ़ा सकते हैं (लेकिन मैं ऐसा करने की अनुशंसा नहीं करता)।



अगर आप एडिट एचटीएमएल मोड में हैं-यहां आपको पोस्ट में सबसे ऊपर इस तरह का कोड दिखेगा-

<a href="http://photos1.blogger.com/blogger/5611/753/400/upload%20photo.jpg"><img style="DISPLAY: block; MARGIN: 0px auto 10px; WIDTH: 196px; CURSOR: hand; HEIGHT: 59px; TEXT-ALIGN: center" alt="" src="http://photos1.blogger.com/blogger/5611/753/400/upload%20photo.jpg" border="0" /></a>


अब ध्यान से कोड के इस हिस्से को सलेक्ट कर कट कर लीजिए और पोस्ट में उस जगह पर आइए, जहां आप फोटो को दिखाना चाहते हैं। उसके बाद उस जगह पर इस कोड को पेस्ट कर दीजिए।

पोस्ट को प्रकाशित करते ही आपको तस्वीर मनचाहे स्थान पर नजर आने लगेगी।

अगर आप तस्वीरों के नीचे कैप्शन भी लगाना चाहते हैं तो इस पोस्ट की मदद ले सकते हैं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, March 19

अक्षर आपकी मर्ज़ी के

Widget for incresing and decreasing text size..
Decrease Font SizeIncrease Font Size

कभी किसी ब्लॉग पर अक्षरों का आकार बहुत छोटा होता है या कई बार बहुत बड़ा। ऐसे में पाठकों को ब्लॉग पढ़ने में असुविधा होती है। कारण सीधा सा है कि न तो सभी पाठकों के कंप्यूटर की सैटिंग एक सी है और न ही उनकी eye sight। तो ब्लॉग पर अक्षरों का कोई भी एक आकार हर पाठक के लिए उचित नहीं हो सकता। वैसे तो कंप्यूटर की सैटिंग्स बदल कर आकार-घटाया बढ़ाया जा सकता है, लेकिन अगर पाठकों को ऐसी सुविधा वाला बटन ब्लॉग पर ही दे दिया जाए तो? जी हां, हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने इसी असुविधा को दूर करने के लिए खास विजेट बनाया है, जिसे आप एक क्लिक पर अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं।




पहले देखिए कि यह कैसे काम करता है। पोस्ट के ऊपर दिए गए अ + और अ - बटनों पर क्लिक कीजिए। आपको पोस्ट के अक्षरों का आकार बड़ा और छोटा होता हुआ दिख रहा होगा।

अगर पाठक के पास यह बटन है तो वह अपनी मर्ज़ी के मुताबिक टेक्स्ट का आकार सलेक्ट कर पोस्ट को पढ़ सकता है। इस विजेट इस तरह बनाया गया है कि यह केवल पोस्ट की सामग्री और टिप्पणियों का ही आकार बढ़ाता है, क्योंकि पाठक के लिए आपोस्ट और टिप्पणियां ही पहली प्राथमिकता है। क्या आप भी इसे अपने ब्लॉग की साइडबार में लगाना चाहते हैं? अगर हां, तो नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कीजिए और निर्देशों का पालन कीजिए (केवल ब्लॉगर ब्लॉग के लिए मान्य)।



इस तरह यह औज़ार आपके ब्लॉग पर पहुंच जाएगा। तो अब आंखों पर NO अत्याचार, क्योंकि आपके ब्लॉग पर है अक्षरों का आकार घटाने-बढ़ाने वाला औज़ार।

अपडेटः रवि रतलामी जी ने टिप्पणी के जरिए सुझाव दिया है कि ब्लॉगर के अलावा दूसरे ब्लॉग व वेबसाइटों के लिए भी इस कोड को उपलब्ध कराया जाए। अगर आप इस विजेट को किसी भी साइट पर लगाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए कोड को कॉपी कर अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर लगा लीजिए।

<center><script language="JavaScript" src="http://www.geocities.com/hindiblogs/font-size.js"></script><div class="central"><a href="javascript:decreaseFontSize();"><img alt="Decrease Font Size" style="border:0px;" src="http://img8.imageshack.us/img8/9316/18341653.png"/></a><a href="javascript:increaseFontSize();"><img alt="Increase Font Size" style="border:0px;" src="http://img8.imageshack.us/img8/5718/52913145.png"/></a></div><span style="font-size: 70%"><a href="http://tips-hindi.blogspot.com/2009/03/widget-for-incresing-and-decreasing.html" target="_blank">यह कैसे ?</a></span></center>


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, March 16

पोस्ट के बीच में रंगीन बॉक्स

डॉ. कुमारेन्द्र, मीत जी एवं कुछ अन्य साथियों ने पोस्ट के बीच में रंगीन बक्सा बनाने का तरीका जानना चाहा है। उनकी जिज्ञासा है कि डॉ. अनुराग और ताऊ जी जिस तरह से अपनी पोस्ट के बीच रंगीन बक्से बनाते हैं, वैसे बक्से कैसे बनाए जा सकते हैं? इसका सीधा उपाय है विंडोज लाइव राइटर की मदद लेना। माइक्रोसॉफ्ट के इस उत्पाद को आपको यहां से डाउनलोड करना होगा और उसके बाद आप इस उपयोगी साधन की मदद से अपनी पोस्ट को मर्जी के मुताबिक सजा सकते हैं। लेकिन अगर आप मेरी तरह एक और सॉफ्टवेयर को डाउनलोड करने का झंझट मोल नहीं लेना चाहते तो आपके लिए मैं एक सीधा सा कोड पेश कर रहा हूं। आप इसे अपनी पोस्ट के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं और मनचाहे रंग का बॉक्स बना सकते हैं।





पोस्ट के बीच में बॉक्स बनाने के लिए नीचे दिए गए कोड को कॉपी कीजिए। ब्लॉगर ब्लॉग पर पोस्ट एडिटर में एडिट एचटीएमएल विकल्प पर क्लिक कीजिए। उसके बाद उस जगह पर यह कोड कॉपी कर दीजिए, जहां पर आप बक्सा चाहते हैं। बक्से में दिखने वाली सामग्री बदल दीजिए। इसके बाद अगर आप चाहते हैं तो रंगों में मनचाहा परिवर्तन कीजिए और पोस्ट को पब्लिश कर दीजिए। आपकी पोस्ट के साथ यह बक्सा दिखने लगेगा।



कोड है-

<table border="1" cellpadding="5" cellspacing="5" width="100%">
<th style="color:red;background-color:pink;" rowspan="2">यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री</th></table>



यह कोड आपको पोस्ट में ऐसा नजर आएगा-


यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री


इस कोड में आपको एक जगह color दिख रहा है और उसके बाद background-color. यहां color आपके अक्षरों के रंग को निर्धारित करता है और background-color बॉक्स के रंग को। आप इनकी वेल्यूज को अपनी मर्जी के मुताबिक रख सकते हैं। मिसाल देखिए-

<table border="1" cellpadding="5" cellspacing="5" width="100%">
<th style="color:blue;background-color:yellow;" rowspan="2">यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री</th></table>


रंगों में इस बदलाव के बाद बक्सा ऐसा दिखेगा।

यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री


और यह बदलाव

<table border="1" cellpadding="5" cellspacing="5" width="100%">
<th style="color:green;background-color:orange;" rowspan="2">यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री</th></table>


कुछ ऐसा दिखेगा-


यहां आप वह सामग्री लिख दें, जिसे इस बक्से में दिखाना चाहते हैं।
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री
नमूने की सामग्री


उम्मीद है कि आप इस तरह से पोस्ट के बीच में मनचाहा बक्सा बनाने में सफल होंगे।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, March 13

ई-मेल पते का आइकन बनाइए


क्या आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग पाठक सीधे ही आपसे मेल के जरिए भी संपर्क में रहें। इसके लिए प्रोफाइल में मेल पता तो दिया जा ही सकता है, लेकिन कुछ साथी ब्लॉग की साइडबार में सीधे ही अपना ई-मेल पता लिख देते हैं। ऐसा करना खतरे से खाली नहीं है। कारण यह है कि इस तरह मेल का पता लिखने से कुछ bot (मशीनी दानव) आपका मेल पता पढ़ लेते हैं और फिर शुरू होता है अनचाही मेल या स्पैम मिलने का सिलसिला।







एक तरीका है कि आप पाठकों तक ई-मेल पता भी पहुंचा दें और इसे मशीनी दानवों की निगाह से भी छिपा लें। बस आप एक क्लिक पर ई-मेल आइकन बनाने वाले इस पेज पर जाइए। यहां अपना ई-मेल पता लिखिए और इस पते वाली .png फाइल पा लीजिए। इसके बाद इसे साइडबार में उसी तरह लगा लीजिए, जैसे किसी तस्वीर को टांगा जाता है। इससे आपका ई-मेल पता सुंदर भी दिखेगा और मशीनी दानवों की निगाह से भी छिपा रहेगा।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, March 9

ब्लॉग पर होली के रंगों की बारिश

होली है और आपके लिए हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने खास तैयार किया है रंगों की बारिश वाला विजेट। इस टेस्ट ब्लॉग पर आपको रंगों की बारिश दिख रही होगी। यह बारिश इस तरह से हो रही है कि होली का अहसास भी जगे और ब्लॉग पढ़ने में कोई परेशानी भी नहीं हो। क्या आप भी अपने ब्लॉग को रंगों से महकाना चाहते हैं?




इसे आप बस एक क्लिक पर अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं..



अगर यहां आपको रंग फीके लग रहे हैं और अगर आप "होली है" संदेश ज्यादा रंगीन तरीके से पहुंचाना चाहते हैं तो नीचे दिए गए कोड का इस्तेमाल करें- (कोड का असर इस टेस्ट ब्लॉग पर देखें)-



बटन पर क्लिक करने के बाद अपने ब्लॉगर ब्लॉग के लिए लॉग-इन कीजिए और यह विजेट आपके ले-आउट में शुमार हो जाएगा। होली के बाद आसानी से इस विजेट को अपने ब्लॉग से हटाया जा सकता है।

सभी साथियों को होली की रंगीन शुभकामनाएं..

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, March 4

ब्लॉग वही, ई-मेल पता नया

क्या आप अपने ब्लॉग के लॉग-इन पते (ई-मेल आईडी) को बदलना चाहते हैं? कुछ ब्लॉगर साथी अपना ब्लॉग जिस ई-मेल पते पर रजिस्टर करते हैं, बाद में उसे किसी कारणवश बदलना चाहते हैं। लालबहादुर ओझा जी ने सवाल किया है कि क्या जिस ई-मेल आईडी से ब्लॉग रजिस्टर किया है, उसे बदला जा सकता है? इसका जवाब यह है कि आप अपने ब्लॉग को आसानी से नए ई-मेल पते पर स्थानांतरित कर सकते हैं।




जानते हैं इसका आसान सा तरीका-

1. ब्लॉग के डैशबोर्ड पर जाइए।

2. settings पर क्लिक कीजिए।

3. सबसे आखिरी में दिए गए टैब permissions पर क्लिक कीजिए।

4. ऊपरी बक्से में ADD Authors पर क्लिक कीजिए।



5. यहां खुलने वाले बक्से में वह नया ई-मेल पता भर दीजिए, जिस पर अपने ब्लॉग को आप स्थानांतरित करना चाहते हैं। उसके बाद INVITE बटन पर क्लिक कीजिए।



6. अपनी नई ई-मेल का इनबॉक्स खोलिए। वहां आपको ब्लॉग लेखक के रूप में इनविटेशन मिलेगा। उसे स्वीकार कर लीजिए। यूजरनेम और पासवर्ड जैसी सूचनाएं देने के बाद वहां आपका डैशबोर्ड खुलेगा और आपको अपने ब्लॉग की सूचनाएं दिखने लगेंगी। इस पेज को साइन आउट कर विंडो को बंद कर दीजिए।



7 फिर से पुराने आईडी से अपने ब्लॉग की settings के permissions पेज पर आइए। यहां आपको लेखकों की सूची में नया ई-मेल पता भी दिखाई देगा।

8. अब आप इस नए पते के सामने लिखे grant admin previlage पर क्लिक कर दीजिए और इस पेज को बंद कर दीजिए।



9. आखिरी चरण में नए ई-मेल पते से ब्लॉगर अकाउंट में साइन-इन कीजिए और इसमें ब्लॉग settings के permissions पेज पर जाइए। यहां दोनों पतों के सामने Admin लिखा होगा। अब आप अपने पुराने पते के सामने मौजूद डिलीट बटन पर क्लिक कीजिए।



इस तरह आपका ब्लॉग नए ई-मेल पते पर स्थांतातरित हो चुका है। इस विधि से अपने ब्लॉग में नए लेखक भी जोड़े जा सकते हैं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Tuesday, March 3

ब्लॉग पर Notice Board


लालबहादुर ओझा जी का ई-मेल के जरिए पूछा गया सवाल- क्या ब्लॉग पर नोटिस बोर्ड लगाया जा सकता है, जहों सूचनाएं रहें और उन्‍हें समय-परि‍स्थिति‍ के मुताबिक बदला जा सके? उसे साइडबार में कहीं लगाया जा सके।

जवाब- जी हां, ब्लॉगर ब्लॉग पर नोटिस-बोर्ड की तरह का गैजेट साइडबार में जोड़ा जा सकता है और आप उसमें नवीनतम सूचनाएं (दूसरी वेबसाइट्स के लिंक के साथ) वक्त और परिस्थिति के हिसाब से बदल भी सकते हैं।






आइए जानते हैं इसे लगाने का आसान सा तरीका-

1. ब्लॉग के डैशबोर्ड पर जाइए और Layout पर क्लिक कीजिए।

2. साइडबार (बगल पट्टी) में दिख रहे Add a Gadget पर क्लिक कीजिए।



3. यहां से आप List या Text में से कोई भी गैजेट चुन सकते हैं (अगर आप सूचना के रूप में केवल वेबपतों की सूची दिखाना चाहते हैं तो List विकल्प उपयुक्त है और अगर आप नोटिस बोर्ड पर कोई संदेश दिखाना चाहते हैं तो Text विकल्प उपयुक्त है)।


4. List या Text गैजेट में बहुत सी सुविधाएं हैं जैसे- बोल्ड, इटेलिक, कलर टेक्स्ट, हायपरलिंक आदि। आप अपने संदेश को मर्जी के अनुसार कस्टमाइज कर सकते हैं।

5. गैजेट को सेव करने के बाद इसे आप Layout पेज पर जाकर ड्रेग एंड ड्रॉप (माउस से पकड़ो और घसीटो) विधि से मर्जी के मुताबिक स्थान पर लगा सकते हैं।

अब यह सूचना पट्ट ब्लॉग पर आपकी मनचाही जगह पर नजर आने लगेगा। एक साधारण नोटिस बोर्ड का नमूना देखिए-



क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!