Tuesday, September 29

हिप-हिप हुर्रे.. ब्लॉगवाणी इज बैक

थैंक्स ब्लॉगवाणी.. सभी चिट्ठाकार साथियों की अपील स्वीकार करने के लिए..

ब्लॉगवाणी संकलक फिलहाल अस्थायी तौर पर बहाल किया जा रहा है.. ब्लॉगवाणी की पाती पढ़ने के लिए यह पोस्ट पढ़ें



उम्मीद है कि ब्लॉगवाणी जल्द ही और भी मज़बूत संकलक के रूप में हमारे सामने होगा।


हैपी ब्लॉगिंग.




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

34 comments:

  1. दिनों के अवकाश के बाद आज ही कंप्यूटर खोला तो अब तरफ यही हाहा कार मचा देखा. ये क्या हो गया क्यूँ हो गया.....बेहद दुखद और अफसोसजनक ......कुछ भी समझ नहीं आ रहा, मगर ब्लोग्वानी की पोस्ट पढ़ कर कुछ राहत मिली है. ब्लोग्वानी यूँही सुचारू रूप से चलता रहे और हम सभी का हौसला बढाता रहे यही दुआ और शुभकामना के साथ....
    regards

    ReplyDelete
  2. आज ब्‍लॉगवाणी दीवाली है
    आईये इसे मिल जुल मन मनायें

    ReplyDelete
  3. स्वागतम...शुभस्वागतम....

    ReplyDelete
  4. लो जी हमने तो मिट्ठाई बंटवा दी. आप भी खाओ.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. सुबह सुबह खुशखबरी देने का शुक्रिया आशीष जी... आशा है अब ब्लागवाणी सुचारू रूप से संचालित होती रहेगी.

    ReplyDelete
  6. अपको बहुत बहुत बधाई आपका प्रयास रंग लाया आज हम बहुत खुश हैं।

    ReplyDelete
  7. मुबारक हो आशीष भाई...
    मीत

    ReplyDelete
  8. सभी बहन भाईयों को बलोगवाणी वापस आने पर गले लगाने का मन कर रहा है,आशा करता हूं,अब कोइ भी बलोग वाणी को बन्द करने के लिये विवश नहीं करेगा,आषीष ्जी को तहदिअल से धन्यावाद,उम्मीद करता हूं,विजयदशमी के बाद,बलोगवाअणी सुचारू रूप से चले।

    ReplyDelete
  9. ye to aaj ki sabse achhi news hai ki blogvani wapas aa raha hai...

    welcome Blogvani...

    ReplyDelete
  10. दिवाली का इससे बड़ा तोहफा कोई और हो भी नहीं सकता था!ये शुरू हो गयी इतना ही बहुत है!बाकि तकनिकी पक्ष हम तो जानते नहीं,बस आपस सब कुछ सही कर दो!हमारी दिवाली तो आज ही है!हुर्रे...

    ReplyDelete
  11. ब्लोगवाणी पुन: शुरू हुई ! ऐसा लगा जैसे ब्लॉग जगत के किसी ब्लॉग को असाध्य रोग हो गया था , और वो दुआओं से ठीक हो गया !

    ReplyDelete
  12. खुशी हुई जानकर

    ReplyDelete
  13. उदास चेहरे मुस्करा उठे।

    ReplyDelete
  14. वापसी अति सुखद है.

    मैथिलीजी और सिरिलजी का हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  15. हुर्रे वापसी पर . शुभ सूचना दी है आपने धन्यवाद. बधाई आपको भी

    ReplyDelete
  16. तो आशीष जी,
    ब्लॉगर पर बने हमारे खाते को तो कोई हानि नहीं है.
    कई दिन बाद ऑनलाइन हुआ हूँ तो आपके माध्यम से पता चला है कि क्या हो गया था.

    ReplyDelete
  17. वाह जी आपको हमें ...सबको बधाई हो..आखिरकार हमारा प्यार ब्लोगवाणी को वापस ले ही आया....

    ReplyDelete
  18. स्वागतयोग्य कदम
    सोना आग में तप कर और खरा होगा

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  19. न न न ब्‍लॉगवाणी इज नोट बैक
    ब्‍लॉगवाणी इज इन फ्रंट

    ReplyDelete
  20. मैथिलीजी और सिरिलजी का हार्दिक आभार.

    ReplyDelete
  21. main to do din se dhang se khana bhhi nahi khaya tha............blogvani ke gham mein....

    aaj ja ke bhar pet khana khaya hai........


    blogvani ko meri or se bahut bahut duayen................

    ReplyDelete
  22. ब्लोग्वानी के बदलाव का झटका अभी आया नहीं है | कई शंकाएँ हैं जिसे http://raksingh.blogspot.com/2009/09/blog-post_29.html लिखा है |

    मुझे तो लगता है कहीं ऐसा ना हो की आवेश मैं ब्लोगवाणी team ऐसा वैसा बदलाव ले आये जो positive होने के बजाय negative ज्यादा हो !

    ReplyDelete
  23. mujhe bhi bhot khusi huyi, jese aap khush men bhi wese hi khus.
    स्वागतयोग्य कदम

    ReplyDelete
  24. हिप हिप हुर्रे।

    ReplyDelete
  25. आज लगभग चार दिनों बाद ब्लॉग देखने शुरू किये तो ब्लॉग वाणी के बारे टिप्स हिंदी पर लेख देखा ब्लॉग वाणी सभी ब्लोग्गेर्स को जो सुविधा दे रहा है वह सराहनीय है ! सभी ब्लोग्स की प्रविष्ठियां एक ही स्थान पर पड़ने को मिलती है ! टिका टिपणी उन्ही पर होती है जो काम करते है जो रचनात्मक काम नहीं कर पाते वो दूसरों में आक्षेप करते है ! ब्लॉग वाणी निरंतर चलता रहे यही शुभ कामना है ! बाकि यही कहूँगा की " हाथी चलता रहता है और .............................. "

    ReplyDelete
  26. गुरू जी मैंने आपको 4थे रूप में बधाई दी, मेरा सौभाग्‍य इस रूप को कोई बताये तो भी ना मानूं मेरा है, क्‍यूंकि यह ब्लागवाणी पर है,
    तीसरा रूप आजक कोई बता नहीं रहा, (जाखड जी से मैं पूछता नहीं वह तो अकेला सवा लाख जैसा, जैसे में हजार के बराबर), मैं बताउं तो कहेंगे मियां मिटठू हूं, अता पता बता दूं एक नाम से हैरान करदेने वाली हिन्‍दी मासकि पत्रिका का इन्‍टरनेट सम्‍पादक बनाया गया हूं, उसके रूप में उसका प्रचार करता हूं,
    गुरू जी ब्लागवाणी उमर कैरानवी के साथ न्‍याय क्‍यूं नहीं कर रही, मेरे साथ हर तरफ क्‍यूं अन्‍याय हो रहा है? है कोई जो इस विषय पर मुह खोले,

    ReplyDelete
  27. ham bhi khush hai......sabhi ko badhai

    ReplyDelete
  28. इसके लिए सिरिल जी और मैथिली जी की जितनी तारीफ की जाए कम है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  29. लगभग एक हफ़्ते बाद अपना डैशबोर्ड देखा तो आपके ब्लॉग के माध्यम से इस दुःखद घटना के विषय में पता चला. इतने आरोप-प्रत्यारोपों के बाद अन्त सुखद हुआ और एक सकारात्मक बात सामने आयी. हमारा लोकतंत्र ज़िन्दाबाद? long live blogvani!long live our democracy.

    ReplyDelete
  30. बहुत अच्छी खबर है मुबारक हो

    ReplyDelete
  31. मुबारक हो....। सिरिल जी और मैथिली जी की जितनी तारीफ की जाए कम है।

    ReplyDelete
  32. बधाई आशीष जी

    ReplyDelete
  33. Blogwani phir se so gayi.....
    http://sunilkefande.blogspot.com

    ReplyDelete