Monday, September 28

वी वांट ब्लॉगवाणी बैक..

अपडेट: हिप-हिप हुर्रे.. ब्लॉगवाणी इज बैक


अब ब्लागवाणी को पीछे छोडकर आगे जाने का समय आ गया है..

ब्लॉगवाणी खोलते ही यह संदेश मिला। थोड़े हिन्दी चिट्ठे खंगाले तो वह विवादित पोस्ट भी दिखी, जिसने इस तरह के लांछन ब्लॉगवाणी पर लगाए। तकनीकी युग है। कुछ भी किया जा सकता है और उसे सिद्ध भी किया जा सकता है।

यहां मुझे यह लिखने की जरूरत नहीं है कि ब्लॉगवाणी संकलक हिन्दी चिट्ठों के विकास में किस तरह की भूमिका निभा रहा है। मैं बस यह कहूंगा ब्लॉगवाणी ने मुझे हर नए-पुराने चिट्ठाकार के साथ एक परिवार के रूप में बांधा है। ऐसा शायद ही कोई दिन होता है, जब मेरे कंप्यूटर पर सुबह सबसे पहले खुलने वाली वेबसाइट ब्लॉगवाणी न होती हो।

टीम ब्लॉगवाणी से मेरी व मेरे साथी चिट्ठाकारों की विनम्र अपील है कि इस मंच को फिर से सुचारू करें और हिन्दी ब्लॉग जगत के इस सबसे विशाल चौपाल को बरकरार रखें।

पसंद-नापसंद के मामले में यही कहूंगा कि तंत्र को मजबूत रखें और फिर भी सेंधमारी होती हैं तो उसकी परवाह न करें। पाठक इतना समझदार है कि बेवजह बढ़ाई गई पसंद वाले चिट्ठों को वह आसानी से पहचानता है।

उम्मीद है टीम ब्लॉगवाणी इस छोटी सी चिट्ठी पर संज्ञान लेगी। सकारात्मक जवाब की प्रतीक्षा में..

हैपी ब्लॉगिंग.

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

42 comments:

  1. यह बेहद दुखद समाचार है जो कि आज सुबह से ही परेशान किये जारहा है. ब्लागवाणी से विनम्र नेवेदन है कि अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करें.

    इष्ट मित्रों एवम कुटुंब जनों सहित आपको दशहरे की घणी रामराम.

    ReplyDelete
  2. आपने सही लिखा है। मैथिली जी पुन विचार करें। हमें आशा है कि ब्लोगवाणी फिर से शुरु होगा।

    ReplyDelete
  3. मै भी आपके विचारो से सहमत हूँ .

    ReplyDelete
  4. जी हाँ ब्लागवाणी टीम जो की ब्लॉग जगत में एक बहुत ही सम्मानित है, को अपने फैशले पर अपने प्रशंशको को मद्दे नजर रखते हुए फिर से विचार करना चाहिए |

    ReplyDelete
  5. अब कुछ नादानों की नादानी का अंजाम पूरे हिन्दी ब्लॉग समाज को भुगतना होगा। अनुरोध है कि ब्लॉगवाणी वापिस शुरु हो।

    ReplyDelete
  6. आज विजयादशमी के शुभ दिन कैसा तोहफा मिला है! बड़े दुख की बात है कि ब्लॉगवाणी अब नहीं दिखेगा। मैथिलीजी-सिरिल जी की मेहनत को हिन्दी ब्लॉग जगत कभी भुला नहीं पायेगा।
    हम ब्लॉगवाणी टीम से अनुरोध करते हैं कि कुछ लोगों की बातों पर ध्यान ना देते हुए इसे फिर से चालू करे।
    मुफ्त का माल हजम करने की हमारी औकात कभी थी ही नहीं।

    ReplyDelete
  7. अच्छा नहीं लगा यूँ रूठ के जाना वो भी आज के दिन ..ब्लागवाणी अपने निर्णय पर फिर विचार करे मेरे जैसे कई लोग होंगे जो अपनी मेल बॉक्स से पहले ब्लागवाणी देखते हैं की आज कहाँ क्या नया लिखा गया है ...आशा है आप निराश नहीं करेंगे मैथली जी

    ReplyDelete
  8. kahne walon ka kuch nahi jaata sahne wale kamaal karte hai, kaun pooche jawab dardo ke log to bas sawal karte hai...... chand logon ke kahne se kya hota...... just avoid or overlook the things

    ReplyDelete
  9. मैं आप से पूर्ण रूप से सहमत हूँ. ब्लोगवाणी ब्लोगर्स की जान है. इसे फिर शुरू किया जाना चाहिए. तुच्छ बातों को नज़रंदाज़ करना ही ठीक है.

    ReplyDelete
  10. यह बेहद दुखद है.
    मुझे दुःख है की इन दुखद परिस्थितिओं में ब्लोग्वानी को बंद करना पड़ा.मुझे दुःख है ब्लोग्वानी हिंदी ब्लॉग जगत में फैली गुटबंदी का शिकार हुई ब्लागवाणी से विनम्र निवेदन है कि अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करें.

    ReplyDelete
  11. ब्लागवाणी द्वारा अपने इस निर्णय पर पुनर्विचार किए जाने की अपेक्षा करते हैं!!!!

    ReplyDelete
  12. Blogvani ki wapsi ka intzaar rahega...

    Blogvani fir se apne nirnay mai ek baar aur soche...

    ReplyDelete
  13. हम भी आपके विचार से पूरी तरह से सहमत हैं... ब्लागवाणी को अपने निर्णय पर दोबारा विचार ज़रूर करना चाहिये और मंच को फिर से शुरू करना चाहिये.

    ReplyDelete
  14. ब्लागवाणी से विनम्र नेवेदन है कि अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करें.

    ReplyDelete
  15. ब्लॉगवाणी आपकी इस चिट्ठी का संज्ञान जरूर लेगी । वह वापस आयेगी । जरूर ही ।

    ReplyDelete
  16. abhi abhi yeh blogvani ke band honey ke vishay main pada,bahut dukh hua blogvani ko phir se shru karne ki prarthna karta hoon.

    ReplyDelete
  17. सरटेनली वी वांट ब्लॉगवाणी बैक..

    ReplyDelete
  18. स्तब्ध हूं। क्या कहूं! पर एक शिकायत ब्लॉगवाणी के संचालकों से भी है। एक-आध विघ्न-सन्तोषी की बात को इतना अधिक महत्व और अनेकानेक प्रशंसक ब्लॉगरों की भावनाओं का कोई महत्व ही नहीं!इतना ही निवेदन है कि पुनर्विचार करें अपने निर्णय पर।

    ReplyDelete
  19. हम ब्लॉग वाणी के आने का इंतजार करते है और ब्लॉग वाणी पर लगाये गए कुछ आरोप ग़लत है। वैसे ब्लॉग वाणी टीम को इसपर फिर से कोई विचार करना चाहिए... और एक बात "मैं मूरख, तुम ज्ञानी" ब्लॉग को ही बंद कर देना चाहिए वैसे अगर आप इस ब्लॉग को देखे और इसके साबुत को देखे तो यह सब तथ्यहीन है ... हर ब्लॉगर ब्लोग्वानी के हमेसा ऋणी रहेंगे ॥
    आगे पढ़े >>

    ReplyDelete
  20. आशीष जी से पूर्णतः सहमत

    ReplyDelete
  21. ---------ब्लॉगवाणी से निवेदन है कि वो अपने फैसले पर पुनर्विचार करे !

    -----------विजयदशमी की ढेरो शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  22. My humble request to Mr. M. S. Gupta (CEO of Pubic Soft) please apne liye gaye faisle par punarvichar karen...

    ReplyDelete
  23. यह सूचना सुन कर धक्का सा तो लगता ही है।
    मगर आशा ही नही अपितु विश्वास भी है कि
    ब्लॉगवाणी एक सजे-संवरे व संशोधित रूप में
    अवश्य ही सामने आयेगी।
    असत्य पर सत्य की जीत के पावन पर्व
    विजया-दशमी की आपको शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  24. ब्‍लॉगवाणी का बंद होना
    रावण की राम पर विजय का प्रतीक है
    आप बतलायें क्‍या यह सटीक है।

    ReplyDelete
  25. ब्लॉगवाणी का जाना बेहद दुखद एवं अफसोसजनक.
    हिन्दी ब्लॉगजगत के लिए यह एक बहुत निराशाजनक दिन है.
    संचालकों से पुनर्विचार की अपील!

    विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  26. ब्लागवाणी से विनम्र निवेदन है कि अपने फ़ैसले पर पुनर्विचार करें.

    ReplyDelete
  27. aapse poorn sahamat. aapke saath main appeal me shamil hoon .

    ReplyDelete
  28. यह सभ्य-संस्कृति की कोई सही मिसाल नहीं है "कोई" भी किसी के अवदान का इतना अपमान करने का अधिकारी नहीं हो सकता जिनने ऐसा किया है कि ब्लागवाणी-टीम हताश हुई दु:खद

    ReplyDelete
  29. बलागवाणी हम जैसे अनजान लोगों के लिये तो वरदान थी आज के पर्व पर हमे इस समाचार से घोर निराशा हुई है अasआआ है आपका और बाकी सब लोगों का अनुरोध ब्लागवाणी के प्रबम्धक जरूर मान लेंगे मैने तो ब्लाग लिस्ट भी इस लिये पूरी नहीं लगा रखी कि ब्लागवानी पर ही सब को देख लेती थी। आप व्यक्तिगत तौर पर भी जरूर प्रयास करें धन्यवाद दशहरा पर्व की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  30. बहुत ही दुःखद समाचार है यह । आशा करते है पुन ब्लागवाणी की शुरुआत हो ।

    ReplyDelete
  31. सब लोग आजसे हैरान हैं, मैं तो रातसे परेशान हूं, चटका लगाने वाले स्थान पर सबसे टाप पर इनका लेख था, उसे देखने वाले स्‍थान से दबा दिया, बस वही आखरी सलाम होगया ब्‍लागवाणी को, भाईलोगो ब्लागवाणी ने मुझे कभी अपना नही समझा फिर भी मेरा गुरूजी जैसा ही संबन्‍ध था ब्लागवाणी से, मैं भी दरख्‍वास्‍त करता हूं वापस आओ,
    वी वांट ब्लॉगवाणी बैक

    ReplyDelete
  32. Blogvani come back ! This entire episode is very frustratinf !

    ReplyDelete
  33. विजयादशमी की बहुत-बहुत शुभकामनायें

    ReplyDelete
  34. ये पूरा प्रकरण ही अत्‍यंत खेदजनक है। न केवल आरोप-प्रत्‍यारोप खेदजनक हैं वरन नीजर्क प्रतिक्रिया में ब्‍लॉगवाणी को बंद किया जाना भी। क्‍या कहें बेहद ठगा महसूस कर रहे हैं...अगर ब्‍लॉगवाणी केवल एक तकनीकी जुगाड़ भर था तो ठीक है जिसने उसे गढ़ा उसे हक है कि उसे मिटा दे पर अगर वह उससे कुछ अधिक था तो उस पर उन सभी शायद लाख से भी अधिक प्रविष्टियों की वजह से था जो इस निरंतर बहते प्रयास की बूंदें थीं तथा इतने सारे लोगों ने उसे रचा था.... हम इस एप्रोच पर अफसोस व्‍यक्त करते हैं। यदि कुछ लोगों की आपत्ति इतनी ढेर सी मौन संस्‍तुतियों से अधिक महत्‍व रखती है तो हम क्‍या कहें...

    ReplyDelete
  35. लोगों में लोकप्रियता की कितनी भूख है, यह प्रकरण एक ज्वलंत उदाहरण है, सराहना सबको अच्छी लगती है, मगर यहाँ सराहना के लिए एक दूसरे को सिर्फ जलन वश , या मेरी इज्ज़त क्यों नहीं ? के कारण एक दूसरे का ऐसा अपमान करने की कोशिश की जाती है जिसे सभ्यता के नाम पर सिर्फ कलंक कहा जा सकता है ! किसी भी कार्य के प्रति सम्मान न दे सको तो कम से कम उसका अपमान तो नहीं करना चाहिए !
    शायद यह यहाँ इस लिए हो रहा है की यहाँ मशहूर नामों के प्रति चाटुकारिता अधिक और अशोभनीय हरकतों का विरोध करने के साहस की बेहद कमी है !

    ReplyDelete
  36. ब्लोग्वानी वापस आ गई</b
    धन्यवाद टीम ब्लोग्वानी ..आपने हजारों प्रशंसकों के निवेदन का मान रखा.

    ReplyDelete
  37. नुक्‍कड़ आज दीवाली मना रहा है
    आप भी ब्‍लॉगवाणी दीवाली पर
    एक पोस्‍ट लगायें और टिप्‍पणियों रूपी
    दीप जगमगायें।

    ReplyDelete
  38. इस प्रकार की घटनाएं शर्मनाक है ।

    ReplyDelete
  39. Aashish ji ham to pahle se hi aapke prasnsak hain .....Blogvani ke suru ho jane ki BDHAI ....!!

    ReplyDelete
  40. इतनी महत्व पूर्ण जानकारी आपसे मिलती रही है.
    बहुत बहुत धन्यबाद!

    ReplyDelete