Friday, June 26

बेनामी टिप्पणीकारों, तुम्हारा कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता

यह पोस्ट खास तौर पर उन बहादुर और क्रांतिकारी साथियों के लिए लिखी गई है, जो आत्म तुष्टि के लिए खुद के और दूसरों के चिट्ठों पर अनाम टिप्पणियां छोड़ रहे हैं, ठहरे हुए पानी में कंकड़ उछाल रहे हैं और शांत समझे जाने वाले हिन्दी ब्लॉग जगत में नया बवाल लाने की सफल कोशिश कर रहे हैं। मैं ऐसे साथियों के जज़्बे को सलाम करता हूं कि वे अपना अमूल्य समय और योगदान देकर ब्लॉगीवुड में खलनायक का किरदार निभा रहे हैं और मेरे जैसे तुच्छ चिट्ठाकारों को पोस्ट लिखने की एक महत्वपूर्ण वजह दे रहे हैं।

आज रचना जी की यह पोस्ट पढ़ी। वहां बिना मोडरेशन लगाए अनाम टिप्पणियों को ब्लॉग पर सरेआम दिखने की छूट देने वाले साथियों को बताया गया है कि वे किस तरह आसानी से अनचाहे टिप्पणीकार का आईपी पता नोट कर उसे बंद करा सकते हैं। रचना जी की जानकारी ज्ञानवर्द्धक है, लेकिन मुझे यह कुछ अधूरी सी महसूस हुई। इसी वजह से इसे आगे बढ़ाने की इजाज़त मैं रचना जी से चाह रहा हूं।

आगे बढ़ें, उससे पहले मैं अनाम रहकर टिप्पणी करने वाले साथियों को आश्वस्त करना चाहूंगा कि उन्हें घबराने की कोई जरूरत नहीं। पहली बात तो यह कि, उनका आईपी एड्रेस पता कर पाना थोड़ा मुश्किल है। दूसरी बात यह कि आईपी एड्रेस पता भी चल गया तो भी उससे हुई abuse की घटना साबित करने में कई पापड़ बेलने पड़ेंगे। आईपी एड्रेस बंद करा पाना तो एक उठाईगिरी की घटना पर फांसी की सज़ा दिए जाने जैसा है। ऐसा कभी नहीं होगा, इसलिए आप आराम से अपना काम करिए और ब्लॉगीवुड को कृतज्ञ करते रहिए।

अगर आपके निशाने वाले ब्लॉगर ने स्टेटकाउंटर या एक्टिवमीटर जैसा कोई कोड अपने ब्लॉग पर लगा रखा है, जिससे हर विजिटर का आईपी एड्रेस पता चल जाता है, तो भी आप मत घबराइए। वजह यह है कि ऐसा करने पर अगर उसके ब्लॉग पर थोड़ा भी ट्रेफिक रहता है तो क्या पता उस समय अंतराल में कौन आया कौन गया। अब शक की सुई घूमेगी उस समय अंतराल के हर विजिटर पर। तो बच गए न आप।

अगर ट्रेफिक कम हुआ तो भी आपका पता चल पाना मुश्किल है। वह ऐसे- कि वहां आईपी एड्रेस के साथ वह समय आता है, जब आपने पेज खोला। कमेंट करने का समय नहीं आता। अब आप इतने ज्ञानी तो हैं नहीं कि पोस्ट खोलते ही कमेंट कर देंगे। पांच-दस मिनट भी लग गई तो उस दौरान तो कोई न कोई शरीफ आदमी वहां जरूर आएगा। तो शक की सुई घूमेगी उधर।

चलिए अब मान लेते हैं कि किसी भी तरह आपका आईपी एड्रेस आपके शिकार ब्लॉगर के हाथ लग गया। अब क्या? whois डायरेक्ट्री से उसने आपके शहर और सेवा प्रदाता का पता भी लगा लिया। आपकी किस्मत बुरी है और डायनेमिक की बजाय आपका आईपी भी स्टेटिक है और आपकी शिकायत हो भी गई तो उस शिकायत के साथ संबंधित ब्लॉगर से सबूत मांगा जाएगा। अब सबूत तो है ही नहीं... स्टेट काउंटर जैसी रिपोर्ट को साक्ष्य का दर्जा ही नहीं है। साक्ष्य माना जाता है केवल ई-मेल का मुखड़ा, जिसमें किसी भी तरह की हेर-फेर नहीं हो सकती। यकीन नहीं होता तो यहां क्लिक कर कुछ सवाल-जवाब पढ़ लीजिए। हो गया न डाउट दूर।

तो अनाम साथियों आप आराम से अपने काम में लगे रहिए। आखिर कुछ साथियों ने अनाम का विकल्प खुला रख छोड़ा है, टिप्पणियों को मॉडरेट नहीं करते तो आप उनकी इस सेवा का जमकर फायदा उठाइए।

मेरे काबिल दोस्तो, मुझे पूरा भरोसा है एक न एक दिन आपकी आत्मा जरूर जागेगी और उस दिन आपको अहसास होगा कि आपने क्या किया। हो सकता है आप तब तक कितने ही साथियों पर इस समय और पैसे की बर्बादी वाली ब्लॉगिंग से दूर करने का अहसान कर चुके हों, कुछ लोगों के बीच अकारण वैमनस्य बढ़ा चुके हों या कितने ही लोगों के बीच गलतफहमियां पैदा कर चुके हों। ईश्वर आपको सदबुद्धि दे।




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

47 comments:

  1. किनसे आत्मा के जाग जाने की उम्मीद कर रहे हैं? आत्मा सोई हो तो जागे, वो तो मर चुकी है इनमें.

    वैसे आपकी पोस्ट अनामियों का हौसला बढ़ायेगी और उनके आतंक मे ईजाफा ही होगा इससे.

    अंत वाली अपील तो काम करने से रही.

    ReplyDelete
  2. इसका मतलब तो ये साबित करना लगभग नामुमकिन है.. तो सही यही है कि उन्हे भाव न दिया जाये..

    ReplyDelete
  3. @ उड़नतश्तरी जी,

    आपकी बात से सहमत हूं, लेकिन व्यंग्य का उद्देश्य इन अनामी आतंकियों की आत्मा जगाना नहीं, बल्कि ब्लॉगर साथियों को उस बात के लिए जागरुक करना है, जो पोस्ट में लाल शब्दों में कही गई है।
    अनामी टिप्पणी का विकल्प बंद कर दो या कमेंट्स को मोडरेट रखो।
    मैंने भी इसे आज चालू कर दिया है। हर ब्लॉगर ऐसा कर दे तो ये आतंकवाद खुद-ब-खुद खत्म हो जाएगा।

    ReplyDelete
  4. आपकी पोस्ट के गहन अध्य्ध्यन के बाद यह निकला कि आप सिर्फ़ एक अच्छे तकनीकी ज्ञाता ही नही एक अच्छे व्यंगकार भी हैं.

    आपने एक बहुत ही सुंदर व्यंग लिखा है. आपका यह कथन कि "
    तो अनाम साथियों आप आराम से अपने काम में लगे रहिए। आखिर कुछ साथियों ने अनाम का विकल्प खुला रख छोड़ा है, टिप्पणियों को मॉडरेट नहीं करते तो आप उनकी इस सेवा का जमकर फायदा उठाइए।"


    आपके उपरोक्त कथन से यह समझ आरहा है कि काऊंटर वगैरह लगाना इतना प्रभावी शायद ना हो जबकि हम इन राहु-केतुओं (बेनामी) से मोडरेशन के जरिये प्रभावी रुप से काबू पाया जा सकता है.

    यहां जब आज यह बहस छिड ही गई है तो मैं यह भी कहना चाहूंगा कि जिस ब्लाग पर किसी अन्य ब्लागर के खिलाफ़ कोई राहु-केतु आकर अनाम बकवास कर के जाता है तो उसे सिर्फ़ अपनी पबलिसीटी के लिये उनको नही छापनी चाहिये.

    आखिर एक स्वस्थ माहोल को खराब कर दिया गया है और जाहिर कि शक की सुई किधर है? य अभी तक तय नही हो पाया है.

    ऐसे मे मोडरेशन सुचिधा का उपयोग करना जरुरी है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. हां यह सही है कि इलाज से बेहतर सुरक्षा के उपाय हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. कुछ ऐसी ही टिप्पणी मैंने सारथी पर लिखी है कि

    StatCounter जैसी मुफ्त में मिल रही सेवा की अपनी सीमायें हैं। इससे कुछ हद तक आइडिया तो लग सकता है, किन्तु सटीक निशाना नहीं लगाया जा सकता। भारी भुगतान लेकर अत्याधुनिक तकनीकी सेवायें देने वाले तो आपकी इच्छा को पूरा करते हुये बाकायदा उस व्यक्ति की, उसके कम्प्यूटर सहित बखिया उधेड़ कर हाथ में रख देते हैं और देते हैं ऐसे वैज्ञानिक सबूत जिन्हें दुनिया की कोई अदालत झुठला नहीं सकती।

    ReplyDelete
  7. अब ये बडे आफ़त की बात कह्डी करदी. रचना जी कह रही है कि काऊंटर पकड सकता है और आप पैरवी कर रहे हैं कि काऊंटर बेकार है सिर्फ़ मोडरेशन प्रभावी है.

    ऐसे मे सवाल यह है कि यह कोई मछली को फ़ंसाने वाला जाल आपने और ब्लाग जगत के धुरंधरों ने मिलकर फ़ैलाया है? जिससे इन अनानीमस को पकडा जा सके.

    मुझे तो ऐसा ही लगता है वर्ना कोई काऊंटर बनाता ही क्यों? अगर आपने यह जाल बेनामियों की धरपकड के लिये फ़ैलाया है तो आपको बधाई.

    ReplyDelete
  8. @ बी एस पाबला साहब

    आपकी बात मे दम तो है पर सोचने वाली बात यह है कि हम हिंदी के ब्लागर अपना डोमेन लेने मे तो सक्षम नही हैं तो फ़िर यह भारी भरकम खर्च कैसे ऊठायेंगे?

    ReplyDelete
  9. bhai maza aa gaya ..waha main bhi bahut pareshaan tha ..ab maine moderation laga liya hai ...

    kya kare yaar ......sukh aur shaanti hame bhi to chahiye na ...

    ReplyDelete
  10. आपका सुझाव सही है बन्धु ,बेनामी टिप्पडी को तो हम लोग स्वयं ही रोक सकते हैं .

    ReplyDelete
  11. aashsih
    thanks that you found my post owrth mentioning
    we are all learners , you being the best

    ReplyDelete
  12. अपना घर मजबूत रखना ही सबसे अधिक सुरक्षित होता है ।

    ReplyDelete
  13. आशीष जी का धन्‍यवाद
    यह बतलाने के लिए कि बेनामी
    जो टिप्‍पणियों से मचाते हैं बवाल
    हैं सबके सब बिना बाल
    क्‍योंकि जिनके बाल न हों
    उनका ही बाल बांका नहीं किया जा सकता।

    पर इससे तो सभी गंजों की शामत आ जाएगी
    बिना आई पी के भी शक की सुई बार बार
    उनकी तरफ ही घूम जाएगी
    उन्‍हें कैसे बचाएगी
    उपाय वे ही ढूंढें।

    वैसे भी अगर जाल में फंस भी गए बेनामी तो
    गंजे होने की वजह से
    पकड़ में नहीं आयेंगे
    क्‍योंकि कई जगह की पुलिस
    अपराधियों को बालों से पकड़ कर ही
    धराशायी करती है
    पर ये फिसल जायेंगे और
    पकड़ने वाले धराशायी हो जायेंगे।

    बेनामी बोल रहे हैं झूठ
    पैसे की कमी इनके पास हो ही नहीं सकती
    गंजे सब माया माल वाले होते हैं
    सारी दुनिया जानती और मानती है।

    इनको बस जानने वाले कम होते हैं
    इन्‍हें अनजाने होने के ही गम होते हैं
    पर अब बेनामी टिप्‍पणियों से
    इनकी भी मच रही है धूम
    ऋतिक रोशन भी इस पर सकते हैं झूम
    ये धूम मचा रहे हैं धूम।

    अब इनकी शान में इससे ज्‍यादा कशीदे क्‍या काढ़े जाएं
    ये इतने ही करें सब्र
    अभी तो और भी पोस्‍टें और टिप्‍पणियां आनी हैं
    जिन पर अपनी राय हमें बतलानी है
    करनी है कोशिश बेनामियों को नाम देने की
    ब्‍लॉग जगत में सम्‍मान देने की
    करना चाहते हैं हम उन्‍हें पुरस्‍कृत
    पर जो सामने आयेंगे विवशता है हमारी
    उन्‍हीं को सम्‍मानित कर पायेंगे।

    ReplyDelete
  14. इन बेनामियों को ईश्वर ही सदबुद्धि दे दे तो ये समस्या निपट सकती है. हालांकि इसके चांस कम ही दिखाई देते हैं।

    ReplyDelete
  15. ये वे लोग होते हैं जो ब्लोगिंग तो करते हैं, लेकिन इनके ब्लॉग पर कोई जाता नहीं. अब इन्हें "नामी" टिप्पणी करनी तो आती नहीं, तो ये बेचारे "बेनामी" ही कर देते हैं.

    ReplyDelete
  16. कल ही आपसे बात हुयी और आज धाँसू पोस्ट हाजिर
    ....बहुत खूब
    बहुत ही अच्छी पोस्ट है आपकी
    सच में मजा आ गया !

    बेनामी से वो डरे जिसके मन में कोई चोर हो !
    हर चीज की उपयोगिता होती है !
    कभी-कभी यही बेनामी ही हैं जो असलियत की झांकी दिखा जाते हैं जो तथाकथित शरीफ लोग कह नहीं पाते !
    वरना ब्लागिंग का क्या हाल है किसी से छुपा है क्या ?
    भाई इसको भी स्वस्थ लोकतांत्रिक तरीके से लेने की जरूरत है !

    आखिर मेरी तरह यहाँ ढेर सारे ब्लॉगर हैं जो माडरेशन चालू किये बिना अपना काम कर रहे हैं, उन्हें किसी तरह की समस्या नहीं है !
    सच कहूँ तो ये बिलकुल बेकार का मसला है ... जिसको परेशानी हो वो माडरेशन आन कर ले !

    डर तो मेरे जैसे लोगों को होना चाहिए जो हमेशा दूसरों के मसले में टांग अड़ाते हैं ! उन लोगों को काहे का डर जो सुबह से शाम तक घूम-घूमकर वाह-वाह का रिकार्ड बजाते हैं !
    वो भी किसलिए ?
    प्रतिक्रिया पाने के लिए ही न ?
    प्रतिक्रिया पाने की लालसा तो इस कदर कि अगर किसी ने एक ही प्रतिक्रिया गलती से सात बार कर दी है तो प्रकाशित सातों होंगी .... कसम धरती मैया की .. एक भी डिलीट नहीं हो सकतीं !

    मेरी अपील है कि बेनामियों को जरा भी भाव न दिया जाए !

    आज की आवाज

    ReplyDelete
  17. aashishji,
    bahut achha laga, aapne is masle par maarg darshan kiya ....

    lekin main abhi tak ye nahin samajh paya hoon ki aakhir samasya hai kya?
    ek bhalaa aadmi mujhe niyam poorvak rozana gandi gaaliyon me tippani karta hai, lekin vo sirf main hi padhta hoon aur mita deta hoon...
    sabhi log agar aisa karen...modretion ka laabh len toh koi samasya hi nahin..........
    RAHI BAAT AATMA_VAATMA JAGAANE KI......TOH BHAI SAHEB, NA HI JAGAAO TO ACHHA....HAMAARE RAJASTHAAN ME EK KAHAAVAT HAI KI SAANP SOOTA HI BHALAA.............IN DUSHT AATMAAON KO JAGAANE KA UPKRAM NA HI KARO TOHJ ACHHA......... JAB YE SOYI HUI ITTEE GANDI HARKATEN KARTI HAIN TOH JAGNE K BAAD TOH BHAGWAN HI MALKIK HAIN..
    ha ha ha ha

    ReplyDelete
  18. रचना जी की पोस्‍ट मैने भी पढी थी मुझे भी लगा था कि इतना आसान नहीं बेनामियों की पहचान .. वास्‍तव में शीर्षक से लेकर पोस्‍ट तक यह आपने व्‍यंग्‍य ही लिखा है .. एक नई शैली में आलेख लिखने के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  19. महज एक दो मछलियों ने सारा तालाब गंदा कर रखा है -व्हायी नाट फिश देम आउट ?

    ReplyDelete
  20. आपने भी अपनी ,उर्जा ,समय एक खामखाँ के टोपिक पर वेस्ट कर दिया .आप काफी उपयोगी काम कर रहे है ..इग्नोर करके कुछ ऐसी चीजे ब्लॉग पर डालिए जो उपयोगी हो.

    ReplyDelete
  21. ओर हाँ एक बात ओर
    इससे तो अच्छा हमें हिंदी ब्लोगिंग की गुणवत्ता ...ओर पोस्ट के कंटेंट पर बात करनी चाहिए . तो हिंदी ब्लोगिंग का ज्यादा भला होगा.

    ReplyDelete
  22. आशीष जी आने दीजिये इन खलनायकों की जब तक आप जैसे हीरो हैं, तब तक हमें इनका कोई डर नहीं...
    मीत

    ReplyDelete
  23. बहुत खूब! लोग अनुभव से सीखते हैं। पर चेताने वालों की भूमिका भी कम नहीं होती।

    ReplyDelete
  24. भाई वाह क्या पोस्ट है :)

    ReplyDelete
  25. "...मेरे काबिल दोस्तो, मुझे पूरा भरोसा है एक न एक दिन आपकी आत्मा जरूर जागेगी और उस दिन आपको अहसास होगा कि आपने क्या किया। हो सकता है आप तब तक कितने ही साथियों पर इस समय और पैसे की बर्बादी वाली ब्लॉगिंग से दूर करने का अहसान कर चुके हों, कुछ लोगों के बीच अकारण वैमनस्य बढ़ा चुके हों या कितने ही लोगों के बीच गलतफहमियां पैदा कर चुके हों। ईश्वर आपको सदबुद्धि दे।..."

    आमीन!

    ReplyDelete
  26. एक साझा प्रयास किया जा सकता है जिसमे सभी ब्लोगर अपना अपना आई पी एड्रेस उपलब्ध करवाए..इसे एक जगह पर सुरक्षित रखा जा सकता है फिर कभी भी किसी के ब्लॉग पर कोई अनाम टिपण्णी आये तो पता लगाया जा सकता है.. लगातार ट्रेस करने के बाद मेरे पास कई लोगो के आई पी एड्रेस लेबल किये हुए है जिनसे मुझे पता चलता है कि किसने मेरे ब्लॉग को कब विसिट किया.. पर फिर भी मैंने ब्लॉग पर अनाम कमेन्ट की सुविधा नहीं दे रखी है..
    इस विषय पर कहने के लिए तो बहुत कुछ है पर फुर्सत से..

    वैसे ये पोस्ट तो अनाम टिप्पणीकारो का हौसला ही बढाएगी :)

    ReplyDelete
  27. आशीष जी ठीक है 'इलाज से परहेज अच्छा'।

    ReplyDelete
  28. आपने बहुत अच्छी जानकारी व्यंग्य के माध्यम से दी है ।
    मै तो यह मानता हू कि इससे आपकी टिप्पणियों का रिकार्ड तो बढ ही जाता है ।

    ReplyDelete
  29. इधर बीच तो मेरे ब्लोग पर अनाम अच्छी टिप्पणियाँ कर रहे हैं । परेशानी तो मुझेभी नहीं है कोई । वैसे मोडरेशन लागू करना अच्छा विकल्प है । हम भी देखते हैं इसे । धन्यवाद इस प्रवष्टि के लिये ।


    और हाँ, प्रस्तुति तो शानदार है इस आलेख की, बिलकुल मजे हुए ढंग से लिखा है आपने ।

    ReplyDelete
  30. वाह आशीष भाई, खूब भिगो कर जूते मारे आपने बेनामी टिपण्णी वीरों को...

    ..आपकी जानकारी तो हमेशा उम्दा होती ही है.

    ReplyDelete
  31. मैंने टिप्पणी माडरेशन चालू किया है जब भी कोई टिप्पणी आती है तो मेल से उसे publish कर देता हूँ तो एक नया पेज खुलता है उसे बदं कर देता हूँ पर फिर से वही टिप्पणी मेल पर आ जाती है। और टिप्पणी प्रकाशित हो जाती है। कुछ समझाये इस अनाडी को। पोस्ट ढूढ रहा इस पर पर मिली नही। देखता हूँ दुबारा से याद है कि आपने शायद पोस्ट की थी इस पर।

    ReplyDelete
  32. अज्ञात टिप्पणीकारो मेरे ब्लॉग पर खूब टिप्पणी करों ! हम तो फ़िलहाल बिना डरे मोडरेशन बंद ही रखेंगे |

    ReplyDelete
  33. आपकी समझाईश शायद काम कर जाये।आमीन्।

    ReplyDelete
  34. इस जालस्थानों पर वाकई कोई ऐसी सुविधा होनी चाहिये जिससे इन बेनामी टिप्पणी करने वाले आतंकवादियों को पकड़ने में मदद मिले।

    ReplyDelete
  35. दिलचस्प पोस्ट,
    बेनामी जी ।
    आपके लिए खुशखबरी है।
    बेधड़क होकर अपना काम करते रहिए।

    ReplyDelete
  36. राम प्रसाद 'अनामी ', महासचिव अखिल भारतीय अनामी महासभा9:41 AM GMT+5:30

    आशीष जी, अनामों को काबिल समझने के लिए 'अखिल भारतीय अनामी महासभा' आपको धन्यवाद देती है. आप हम क्रांतिकारियों के जज्बे को सलाम न करें. अगर करना ही हैं तो हमारे कब्जे को सलाम करें. हमारे आई पी एड्रेस को ढूढने में पापड़ बेलने पड़ेंगे, यह बताकर आपने हमारा आत्मविश्वास महेंद्र सिंह धोनी और हरभजन सिंह से भी ऊंचा कर दिया है. वैसे तो आजतक हम क्रांतिकारियों की किस्मत बुरी नहीं रही है. आशा है कि आगे भी बुरी नहीं रहेगी. अनामी महासभा आज ही एक प्रस्ताव पारित करके हर एक अनामी को डायनामिक आई पी एड्रेस लेने के लिए उकसाएगी.

    आपको धन्यवाद देने के अलावा अनामी महासभा उन सभी चिट्ठाकारों को भी धन्यवाद देती है जिन्होंने अपने चिट्ठे पर अनामियों को टिपण्णी करने की खुली छूट दे रखी है. इससे हम अनामियों के प्रदर्शन में डबल डिजिट ग्रोथ होती रहेगी.

    इसके साथ ही मैं अनामी, अपनी टिप्पणी की इति करता हूँ.

    जय अनामी

    ReplyDelete
  37. वाकई ये नहीं जानते कि ये क्या कर रहे हैं!
    वैसे इतना तय है कि ब्लॉगजगत में आप जैसे 'सुपरमैन' के रहते ये कोई बहुत बड़ी उपलब्धि तो हासिल कर पाने से रहे :-)

    ReplyDelete
  38. राम प्रसाद 'अनामी ', महासचिव अखिल भारतीय अनामी महासभा के भावी शिष्य11:18 AM GMT+5:30

    @ राम प्रसाद 'अनामी ', महासचिव अखिल भारतीय अनामी महासभा
    के सचिव महोदय को सादर नमन।

    हे त्रिपुरारी, आपकी इस संस्था की सदस्यता कहां मिलेगी? हम बडा बैचेन हूं आपकी महा सभा का मेमेबर बनने के लिये।

    कसम खाता हूं कि सबके ब्लागों पर ताला लगवा दूंगा। ऐसी २ टिपणीयां करुंगा कि लोग शर्म से अपने ब्लाग डिलीट करके चले जायेंगे. बस महापर्भु आपका आशिर्वाद मिल जाये। और वादा रहा कि
    पहली टिपणी की शुरुआत भी आपसे ही करुंगा.:(((

    ReplyDelete
  39. @ रामप्रसाद अनामी जी और उनके भावी शिष्य

    सलाह दूंगा कि आप अपने नाम के आगे अब अनामी लिखना बंद ही कर दें, क्योंकि अब आपका नाम और पता ट्रेकिंग रजिस्टर में दर्ज हो चुका है.. हमें बुश और ओबामा मत समझिए कि लादेन का ठिकाना ढूंढ़ ही न सकें.. :)

    ReplyDelete
  40. ओर हाँ एक बात ओर
    इससे तो अच्छा हमें हिंदी ब्लोगिंग की गुणवत्ता ...ओर पोस्ट के कंटेंट पर बात करनी चाहिए . तो हिंदी ब्लोगिंग का ज्यादा भला होगा
    mai Dr. Anuraag ki baat se puri tarah sahamat hu...

    ReplyDelete
  41. भाई आशीष जी ये टिपणी करते हुये मेरा IP ऎडरेस यहां दिख रहा है वाह कमाल कर दिया...

    रामराम.

    ReplyDelete
  42. भाई आशीष जी ये टिपणी करते हुये मेरा IP ऎडरेस यहां दिख रहा है वाह कमाल कर दिया...

    रामराम.

    ReplyDelete
  43. HINDI BLOG JAGT EK KADAM AUR AAGE BADHA................
    THANX 2 U
    MUMBAI TIGER
    HEY PRABHU YEH TERA PATH (4)

    ReplyDelete
  44. मोडरेशन लगाने में एक ही समस्या है कि आपको य तो कम्प्यूटर पर ही ध्यान रखना होग कि बार बार टिप्पणियाँ मोडरेट करें य फिर लिखकर, पोस्ट करके भूल जाना होगा कि टिप्पणियाँ भी शायद आ रही होंगी।
    मुझे एक या दो दिन तक बिना मोडरेशन के टिप्पणियाँ आने देना अधिक सुविधाजनक लगता है और उससे पुरानी पोस्ट्स पर मोडरेशन रखना ताकि कोई पुरानी पोस्ट्स पर आपत्तिजनक सामान न डाल जाए। यह सुविधा ब्लौगर में है।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  45. ham aapke hosle ko salam karte hai sir. aap jaise bahadur major ke sanidhya me rahkar ham bloging karenge jamke karenge. dekhe un blog delet karvane walo ko. kisme kitna hai dum.
    ajay soni
    parlika

    ReplyDelete
  46. thank you. mai aap ke rai se sahmat hoon

    ReplyDelete