Monday, August 25

रिलेटेड पोस्ट दिखाएं

कितना अच्छा हो कि पाठक जैसे ही आपके ब्लॉग पर कोई प्रविष्ठि पढ़े, तुरंत ही उसे उन सभी प्रविष्ठियों की भी जानकारी मिल जाएं, जो उससे मिलती-जुलती हैं। इन्हें रिलेटेड पोस्ट्स कहा जाता है और हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आप इन्हें हर पोस्ट के अंत में देख सकते हैं। यह "इससे जुड़ी अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें" के रूप में आपको दिखाई दे रहा होगा। खुशी की बात यह है कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने इसके लिए खास कोड तैयार कर लिया है, जिसे आप आसानी से अपने ब्लॉग में भी लगा सकते हैं।

रिलेटेड पोस्ट दिखाने के लिए पोस्ट के साथ लेबल की जरूरत होती है। आप पोस्ट के साथ लेबल का इस्तेमाल तो करते ही होंगे। जो लोग इसका इस्तेमाल नहीं करते उन्हें बता दें कि लेबल की मदद से आप प्रविष्ठियों को श्रेणीवार रख सकते हैं। (लेबल लगाने और इसके प्रबंधन का तरीका भी जल्द ही हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर प्रकाशित किया जाएगा।) अगर आपकी प्रविष्ठियों के साथ लेबल लगे हैं तो नीचे दिए गए आसान से तरीके को अपनाकर आप अपने ब्लॉग में भी रिलेटेड पोस्ट दिखा सकते हैं।

1. लेआउट में जाइए।

2. एडिट एचटीएमएल पर क्लिक कीजिए। (एचटीएमएल कोड में परिवर्तन करने से पहले अपनी टेम्पलेट का बैकअप जरूर रखें। इससे आप अपनी मूल टेम्पलेट फिर से पा सकते हैं। टेम्पलेट को डाउनलोड करने का तरीका यहां दिया गया है।)

3. Expand Widget Templates को आवश्यक रूप से टिक कर दीजिए।



4. कोड में नीचे दिए गए हिस्से को ढूंढिए। सबसे अच्छा तरीका है Cont + F कुंजियों को दबाइए। एक फाइंड बॉक्स खुलेगा। इसमें नीचे दिए गए कोड को कॉपी कर पेस्ट कर दीजिए। एंटर करते ही आप कोड के इस हिस्से तक पहुंच जाएंगे।



इसके ठीक नीचे ध्यानपूर्वक यह कोड पेस्ट कर दें-

कोड के लिए यहां क्लिक करें

कॉपी करने के बाद इस कोड को अपनी टेम्पलेट में पेस्ट करने का तरीका इस इमेज में दिखाया गया है-



इसके बाद टेम्पलेट को सेव कर दें।



सेव करते ही आपकी उन प्रविष्ठियों के नीचे चार रिलेटेड पोस्ट नजर आने लगेंगी, जिन पर आपने लेबल लगाएं हैं। रिलेटेड पोस्ट में उसी लेबल की अन्य पोस्ट दिखेंगी (अगर किसी लेबल की एक ही पोस्ट है तो फिर यहां आपको कोई पोस्ट नहीं दिखेगी)।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

17 comments:

  1. aashiish bhai, agar yahin tippani ke column ke bagal men google indic laga dete toh ye tippani hindi men hoti, ab roman men main kuchh nahin kahna chaahta. :)

    ReplyDelete
  2. are ye kya ! smily toh bas ek box ban gaya voh bhi crossed, badlo yaar ise.

    ReplyDelete
  3. Thanks, For Giving such a Trick.
    I have used it on my blog......

    ReplyDelete
  4. अच्छी जानकारी।

    ReplyDelete
  5. मेरे ब्लॉग का यूआरएल है anuraganveshiblogspotcom यहां मैंने आपके द्वारा उपलब्ध कोडिंग लगाई। पर नीचे जो चार लिंक लेखों की सूची आनी चाहिए, नहीं आ रही। मैंने सेटिंग्स में जाकर पोस्ट की संख्या 1 भी कर दी थी। पर कोई फायदा नहीं हुआ। यह कोड काम करे, इसके लिए क्या करना चाहिए

    ReplyDelete
  6. अनुराग अन्वेषीजी, आपने रिलेटेड पोस्ट का कोड बिल्कुल सही लगाया है, लेकिन समस्या यह है कि आप अपने ब्लॉग की पोस्ट के साथ जो लेबल लगाएं हैं, वे हर पोस्ट के साथ अलग-अलग हैं। आप थोड़े कम लेबल इस्तेमाल करें और एक ही लेबल को तीन-चार पोस्ट के साथ लगाएं। यह कोड उन्हीं पोस्ट की सूची बनाता है, जिन पर एक ही जैसे लेबल होते हैं।

    ReplyDelete
  7. AASHISH JI MERE BLOG HTML ME data:post.body NAHI HAI, ISME RELATED POST KAISE LAGAUN???????

    ReplyDelete
  8. आशीष जी नमस्कार, मैं पेशे से पत्रकार हूँ । इसलिए मेरे पास अक्सर ख़बर का बकअप होता है । मैं काफ़ी समय से सोच रहा था की मुझे कोई ऐसा साधन मिले जिस से मैं बकअप के साथ मेरी पुरानी पोस्ट दिखा सकू । वैसे आपकी मेल मेरे पास आती रहती है । लेकिन मैं नया हु इसलिए इस पोस्ट के बारे मैं मुझे ब्लॉग पढ़ कर पता चला । आपके द्वारा लिखा गया यह पोस्ट मुझे बहुत अच्छा लगा था । एक बार तो मैंने सोचा था की मेरा काम बन गया । लेकिन मेरे लाख प्रयास के बाद भी मैं अभी तक ऐसा कर पाने में सफल नही हुआ हु । इसका मुख्य कारण है की मेरे html कोड मैं सिर्फ़ data:post.bodyहै । मैं क्या करू । कृपया कर आप एक बार मेरा ब्लॉग देख कर मुझे कोई राय दे ।
    blog is : www.gooftgu.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. मुझे है तो दुखों ने घेरा
    नहीं देखा ख़ुशी का सावेरा
    वहां पर लगा था एक पौधा
    जहाँ से मेरा फूल टूटा

    पल्ला मार कर बुझा दिया मेरे दिल का दीप
    फिर से प्यार की ज्योत ना जली
    ज्योत जलाते जलाते बुढापा आ गया
    जीवन में प्यार के फूल क्या खिलने थे
    मुरझा गयी मेरे ही प्यार की कली

    ReplyDelete
  10. आशीष भाई, शायद यह कोड सिर्फ़ तस्वीरो वाली पोस्ट में काम करता है, इसीलिये कोड लगाने के बाद बार-बार वही तीन पोस्ट दिखा रहा है जिनमें कोई तस्वीर है… ऐसा क्यों?

    ReplyDelete
  11. It's so useful information.
    Thank you sir!
    htp://sarkari-khazana.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. चार पांच ही क्यों आपकी तरह बहुत सी क्यों नहीं दिखती है ?

    ReplyDelete
  13. "data:post.body/>/p>" ये कोड मेरे html मैं नही मिल रहा है

    ReplyDelete
  14. AASHISH JI MERE BLOG Ka HTML ME data:post.body NAHI HAI, ISME RELATED POST KAISE LAGAUN plz batane ki kast kare....

    ReplyDelete