Tuesday, July 28

स्टाइलिश रिलेटेड पोस्ट तस्वीर के साथ (You might also like widget)

हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आप हर पोस्ट के खत्म होने के तुरंत बाद तीन रिलेटेड पोस्ट देख रहे होंगे। You might also like शीर्षक के साथ आपको ये विजेट तीन पोस्ट की तस्वीर और हेडिंग दिखा रहा होगा। अगर आप हिन्दी ब्लॉग टिप्स के मुखपृष्ठ पर जाएंगे तो वहां मौजूद दस पोस्ट के सारांश के नीचे यह अलग-अलग रिलेटेड पोस्ट दिखाता मिलेगा। इस विजेट को लगाने के बाद से इस ब्लॉग के पिछले लेखों की विजिट अप्रत्याशित रूप से बढ़ी है और मैं आपको भी सलाह दूंगा कि इसे अपने ब्लॉग पर लगाएं।

इसे लगाना बहुत ही आसान है। यूं कहें कि चुटकियों का काम है। लिंकविदिन वेबसाइट के इस लिंक पर क्लिक करें। ई-मेल पता, ब्लॉग का पता, प्लेटफॉर्म (ब्लॉगर/वर्डप्रेस/अन्य) चुने और रंग संयोजन भी। इसके बाद Get Widget पर क्लिक कीजिए। अगले पेज पर आपको Install Widget लिखा मिलेगा। इस पर क्लिक करते ही यह आपके ब्लॉग तक पहुंच जाएगी। अगर आप बेहतर नतीजे चाहते हैं तो इसी पेज पर दिए गए निर्देशों का पूर्णतया पालन कर लीजिए।

स्टाइलिश रिलेटेड पोस्ट विजेट के फायदे

1. यह रेंडमली पोस्ट दिखाता है। यानी हर बार पेज खोलने पर आपको अलग-अलग पोस्ट दिखती हैं।

2. पोस्ट के साथ मौजूद तस्वीर भी दिखने से उस पर विजिट की संभावना बढ़ जाती है।

3. इसे लगाना बहुत ही आसान है।

तो देर किस बात की.. तुरंत लगाइए यह विजेट.. हैपी ब्लॉगिंग :)






क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

52 comments:

  1. बहुत अच्छी जानकारी दी आपने

    ReplyDelete
  2. आशीष जी।
    यह तो बहुत उपयोगी पोस्ट लगाई है।
    इसे जरूर अपने ब्लॉग पर लगायेंगे।
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. बहुत काम का विजेट है जी. धन्यवाद.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद आशीष जी..
    अच्छा विजेट है..
    पर यह मेरे २ ब्लॉग्स पर नहीं दिख रहा है..
    केवल १ ही ब्लॉग (मेरी माँ की कृतियाँ) पर नज़र आ रहा है..
    कारण बताइये..

    ReplyDelete
  5. बड़े काम की पोस्ट है। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  6. aji laga liya ji hamne to.
    ye to bade hi kaam kee cheej hai.
    aapka bahut dhanywaad!!!

    ReplyDelete
  7. अच्छी जानकारी के लिये आभार।।

    ReplyDelete
  8. अच्छी जानकारी के लिये आभार।।

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी जानकारी दी है आपने मैं इसे अभी लगाता हूं.आभार.

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  10. ये तो उपयोगी लग रही है। इसके बारे में बताने के लिए आभार !

    ReplyDelete
  11. हमेशा की तरह आज भी बहुत बढ़िया जानकारी |

    ReplyDelete
  12. आभार जानकारी के लिए.

    ReplyDelete
  13. कर दिया इंसटाल.. अच्छा है आभार..

    ReplyDelete
  14. bahut rochak jaankaaree dee

    thnxs

    venus kesari

    ReplyDelete
  15. shukriya is jaankari ke liye..seekh liya..kabhi ham bhi ajmayenge...

    ReplyDelete
  16. बहुत काम की जानकारी... शुक्रिया

    ReplyDelete
  17. maine toh abhi ka abhi lagaa liya.............
    kamaal ki cheej hi hogi

    aap ka haardik dhnyavaad............
    isee tarah kripa banaaye rakhen prabhu !

    ReplyDelete
  18. मैंने अपने ब्लॉग का लिंक http://anyonasti-kabeeraa.blogspot.com दिया था ivailid URL link कह कर नहीं हो रहा है ,समस्या का हल बतावें

    ReplyDelete
  19. इसे तो मैंने कहा ही था बताने के लिये । बेहतर विजेट । आभार ।

    ReplyDelete
  20. आशीष जी, आपकी टाईमिंग हमेशा से अच्छी रही है...मैं आपसे पुछने वाला इसके बारे में और इतने में आपने पोस्ट लिख दी...

    बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  21. आशीष भाई मज़ा आगया ! हम भी लगाएंगे इसे ये तो कमाल है!

    ReplyDelete
  22. आशीशजी आपका बहुत बहुत धन्यवाद इस जानकारी के लिये ।मैने भी लगा तो लिया इस विजेट को फिर से आभार्

    ReplyDelete
  23. आचार्य रंजन9:31 AM GMT+5:30

    आचार्य रंजन जी का यह कमेंट मेल के जरिए मिला है-

    वाकई ! आपके द्वारा भेजा गया हर टिप्स अपने आप में बेमिशाल है ,तभी तो मैं हर पल आश लगाये रहता हूँ की पता नहीं आपके द्वारा भेजा गया अगला रत्न मुझे कब प्राप्त हो जाये !आप ब्लॉगर की आन , शान एवं जान हैं ! बहुत बहुत धन्यबाद !-- आचार्य रंजन , बेगुसराय , बिहार

    ReplyDelete
  24. बहुत काम की जानकारी है । अंग्रेजी बलोगो पर जो जानकारी मिलती थी वो आपके माध्यम से हिन्दी मे भी संग्रह के रूप मे मिल जायेगी ।

    ReplyDelete
  25. हमने तो पिछले एक साल से इसे अपने तीनों ब्लागों पर लगाया हुआ है जी!!!!

    ReplyDelete
  26. Really Happy Blogging ho raha hai aapke sath!!!

    thanks

    ReplyDelete
  27. भइ वाह ये हुआ ना गागर में सागर...
    मीत

    ReplyDelete
  28. अत्यधिक प्रसन्नता हुई,
    भगवान आपको लम्बी आयू दे

    ReplyDelete
  29. ye to bahut kaam ka widget hai...

    ReplyDelete
  30. bahut acchi aur asan si tarkeeb hai.

    ReplyDelete
  31. ये हुई ना काम की बात !
    इसे तो लगाना ही पड़ेगा |

    ReplyDelete
  32. प्रिय आशीषजी,
    'विजेट' के लिए शुक्रिया . bloggers के लिए और पाठकों के लिए भी उपयोगी है यह .
    सादर,
    भवदीय,

    ReplyDelete
  33. बहुत ही उम्दा सुझाव दिया। मैंने तुरंत अपने चिट्ठे पर चस्पा कर लिया है। आप दिए जाओ, हम लिए जाएंगे।

    अच्छी जानकारी के लिए शुक्रिया।

    ReplyDelete
  34. ashish sir bhut bhut shukriya ,aapke is nyi jankari k liye,par problem ye hai ki maine,apne blog mein wizet laga to liya par jis post mein do tasveeen ek saath lagaee hain maine ,wahan ye kaam nhi kar rha,
    agar aap chahe to mere blog par dekh sakte hain
    www.likhoapnavichar.blogspot.com

    ReplyDelete
  35. आशीषजी, नमस्कार !!! मैने भी लगा तो लिया इस विजेट को लेकिन पता नहीं मेरे ब्लाग पर पुराने पोस्ट किये हुए तो दिखाती है लेकिन नयाँ पोस्ट किये हुआ क्यों नहीं दिखता है. सायद कोई कमी तो नहीं ... !!! कृपया हल की आशा में हूँ . धन्यवाद ..!!!

    ReplyDelete
  36. आशीषजी, नमस्कार !!! मैने भी लगा तो लिया इस विजेट को लेकिन पता नहीं मेरे ब्लाग पर पुराने पोस्ट किये हुए तो दिखाती है लेकिन नयाँ पोस्ट किये हुआ क्यों नहीं दिखता है. सायद कोई कमी तो नहीं ... !!! कृपया हल की आशा में हूँ . धन्यवाद ..!!!

    ReplyDelete
  37. SK Prai जी,

    यह विजेट रेंडमली पोस्ट उठाता है। ऐसे में आपकी नई पोस्ट का नंबर आने की क्या संभावना है यह तो आपके ब्लॉग की कुल पोस्ट संख्या पर निर्भर है..

    ReplyDelete
  38. आशीष जी बहुत बढ़िया विजेट बताया आपने मैंने लगा लिया है और बढ़िया कम कर रहा है धन्यवाद .

    ReplyDelete
  39. पता नहीं क्यूँ पर मेरे हिंदी ब्लाग एक शाम मेरे नाम पर ये काम नहीं कर रहा पर बाकी पर ये काम कर रहा है।

    ReplyDelete
  40. आशीषजी, नमस्कार !!! इस विजेट के बारे में पहेले भी लिख चूका हूँ लेकिन पता नहीं मेरे ब्लाग "http//.skpari.blogspot.com" पर पुराने पोस्ट किये हुए ही काम में आ रहा है नई तो दिखाती ही नहीं बाकि सब तो ठीक ठाक ही है, मै तो परेसान होगई हूँ पता नहीं क्यूँ काम नहीं कर रहा है .!!! प्लीज़ आशीषजी हल की आशा में हूँ . धन्यवाद ..!!!

    ReplyDelete
  41. You might also like: का जो विजेट चिपलूकर साहब की तरह आपने लगाया है यह पाठक के चिंतन पर अति क्रमण है, पाठक जब आखरी लाइन पढता है तब वह उस लेख पर गौर व फिकर / विचार चिंतन करना चाहता है, लेकिन इस विजेट के कारण दूसरे तीन लेख पर उसकी नजर पडेगी वह उन्हें पढने में लग जायेगा, जिस कारण वह पढे गये लेख पर विचार करने के बजाय दूसरे पढने लग जायेगा, यह सिलसिला तब तक चलता रहेगा जब तक वह आपके ब्लाग में रहेगा, नतीजा यह होगा कि आपका लेख व्यर्थ जासकता है,

    ReplyDelete
  42. क्षमा किजिये मुझे किया पता था आज सेंसर नही लगा है, मैं तो टेस्ट करने आया था, चिपलूनकर साहब का नाम हटाकर बाकी आपके लिये आलोचना का तोहफा है, screeshot le liya hataoge to हम पछतायेंगे

    ReplyDelete
  43. आशीष जी,
    मैंने अपने ब्लॉग http://kavita-knkayastha.blogspot.com पर यह लगा तो लिया है लेकिन वहां केवल heading ही दिख रहा है...आखिर क्यों...क्या इसलिए की चित्र पोस्ट करने के बाद लगाये गए हैं, या सभी पोस्ट्स में चित्र नहीं हैं इसलिए???

    ReplyDelete
  44. apka blog bahut achha hai...bahut aasaan tareeke btaye hote hai still mujhse mushkil se hote hai..par yeh maine jodh liya hai or try karti hun thanx

    ReplyDelete
  45. आप का सीखाने का तरीका बहूत पसंद आया. नन्‍हे बच्‍चों को उंगली पकड कर सीखाने का उपक्रम सफल है. ह़दय से धन्‍यवाद. सरजी एक छोटी सी समस्‍या है कि हिंदी मे पूर्ण विराम पाई नहीं लगा पाता हूं, क्‍या करूं

    ReplyDelete
  46. आप का सीखाने का तरीका बहूत पसंद आया. नन्‍हे बच्‍चों को उंगली पकड कर सीखाने का उपक्रम सफल है. ह़दय से धन्‍यवाद. सरजी एक छोटी सी समस्‍या है कि हिंदी मे पूर्ण विराम पाई नहीं लगा पाता हूं, क्‍या करूं

    ReplyDelete
  47. bahut khub but i am facing a problem "Private Blogs are not supported". please specify.

    ReplyDelete