Wednesday, May 20

हिन्दी चिट्ठों पर भी हड़ताल का साया

आज दिन भर हिन्दी चिट्ठों के संसार में सन्नाटा ही दिखा। न तो अधिकांश चिट्ठों पर पाठक ही दिखे और न ही टिप्पणियां। वजह सीधी सी थी। ब्लॉग पढ़ने के लिए लगी ब्लॉग लिस्ट में ज़्यादातर फ़ीड ही अपडेट नहीं हो रही थी। इससे यह पता ही नहीं चल पा रहा था कि किस ब्लॉग पर नई पोस्ट आई है।

सुबह ताऊजी ने बताया कि जहां हर दिन उनके ब्लॉग पर ट्रेफि़क जाम की स्थिति रहती है, वहीं आज उनके ब्लॉग पर भी कर्फ्यू जैसी स्थिति है। वजह की पड़ताल की गई तो पता चला कि उनकी ताज़ा पोस्ट की फ़ीड आज दूसरे ब्लॉग्स तक पहुंची ही नहीं। ऐसी ही समस्या दूसरे चिट्ठों के साथ भी है और फ़ीड न पहुंच पाने की वजह से पाठकों को पता ही नहीं चल पा रहा है कि चिट्ठें अपडेट हो चुके हैं।

इस सब तकनीकी परेशानी की वजह रही एमटीएनएल की दो दिन चली हड़ताल। पिछले दो दिन में आपने महसूस किया होगा कि कुछ वेबसाइटें खुल ही नहीं रही हैं। हड़ताल के दौरान कुछ तकनीकी खामियों ने देशभर के इंटरनेट को प्रभावित किया है।

अब खुशखबर यह है कि अभी-अभी हड़ताल के खत्म होने की घोषणा हुई है और उम्मीद जताई जानी चाहिए कि जल्द ही सारी व्यवस्थाएं सुचारू होंगी। फ़ीड भी अपने आप जाने लगेगी और चिट्ठों पर टिप्पणियों की बहार लौट आएगी। तब तक आप अपने पसंदीदा चिट्ठों को देख लीजिए कि कहीं वे आपकी जानकारी में आए बगैर ही अपडेट तो नहीं हो चुके हैं।




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

28 comments:

  1. अब समझ मे आया. बहुत धन्यवाद.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. अच्छा !!! अब राज़ समझ में आया ....

    ReplyDelete
  3. thankx 2u foe Inforamation
    TAOOJI WALA RAM-RAM

    ReplyDelete
  4. ये दिक्कत हमने भी महसूस की। लेकिन इन तीन दिनों से हम भी जबरिया हड़ताल पर रहे।

    ReplyDelete
  5. बात तो सही है में भी रोज चेक कर रहा था आज एक दो चिट्ठों की फीड अपडेट हुई है

    ReplyDelete
  6. अच्‍छा है .. दो दिनों से मैने पोस्‍ट नहीं की थी।

    ReplyDelete
  7. आशीष ! आपकी पोस्ट या कमेन्ट्स पर तिथि नहीं रहती है, बाद में देखने वाले को असुविधा होती है।

    ReplyDelete
  8. ओह!! तो यह वजह थी!!

    ReplyDelete
  9. चलिये पता चला ।आभार ।

    ReplyDelete
  10. चलो अब पढ़ा जाये ब्लाग!

    ReplyDelete
  11. आशीष जी, मेरे यहाँ तो कल बीएसएनएल का ब्रॉडबैंड चल ही नहीं रहा था तो मैंने दूसरा इंतजाम किया इस जानकारी के लिए धन्यवाद,

    आशीष जी, आपने मेरे सवालों के जवाब नहीं दिए मुझे २ महीनो से ज्यादा हो चुके है आपसे पूछते हुए... आप पोस्ट नहीं लिख प् रहे तो कृपया करके आप मुझे ईमेल करके बता दे, ब्लोग्वानी पसंद, फोलोवेर्स, पोस्ट लिंक के बारे.....आपकी अति कृपा होगी

    आपके जवाब के इंतज़ार में

    काशिफ आरिफ
    "हमारा हिन्दुस्तान"

    ReplyDelete
  12. कल शाम तक फीडें लौट आयीं!

    ReplyDelete
  13. तभी तो हम आपजके फैन हैं कि आप हमें नई-नई जानकारी उपलब्ध करवाते हैं। वरना हमें तो पता ही नहीं चलता क्या हो रहा है?

    ReplyDelete
  14. मैं तो सोच रहा था कि ब्लॉग जगत पर भी बढती गर्मी का असर पड़ रहा है!

    ReplyDelete
  15. हमने तो यह सोचा था कि सभी बलोगर बन्धु गर्मी की छुट्टिया बिताने चले गये है । अन्दर की बात का अब पता चला है ।

    ReplyDelete
  16. हाँ जी, ये बात तो कल मैंने भी गौर की थी.
    मैं सोच रहा था कि इतने बड़े-बड़े लिक्खाड़ आज खामोश कैसे बैठे हैं?

    ReplyDelete
  17. ई हडताल बडी दुखदाई।
    पर साइंस ब्लॉगर्स असोसिएशन पर तो इसका असर नहीं दिखा।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  18. अच्छी बात बताई भाई... तुम को बहुत बधाई..

    ReplyDelete
  19. मुझे तो हड़ताल के असर का कुछ भी पता नहीं चला। मेरे ब्लोगों पर तो हर दिन कर्फ्यू ही छाया रहता है!

    ReplyDelete
  20. आशीष जी,
    हिंदी ब्लॉग में तकनिकी कठिनाइयों का निराकरण करते हुए आपने कई हिंदी ब्लॉग लिखने वालों को प्रोत्साहित किया है...इसके लिए आभार...
    कृपया बताएं कि ब्लोग्वानी पर जब मेरा ब्लॉग प्रर्दशित होता है तो वह मेरे प्रोफाइल से मेरा फोटो नहीं लेता...जबकि उस दिन प्रर्दशित होने वाली कई प्रविष्टियों में ब्लॉगर के फोटो प्रर्दशित होते है..क्या किया जाना चाहिए...

    ReplyDelete
  21. asish ji ,mai blogger se custom domain kharid raha hoon, lekin uske liye credit card maang raha hai, kya debit card se yeh kaam nahi ho sakta, please aap meri help kijiye.

    ReplyDelete
  22. भई हम तो दिल्ली में अपने घर में सुस्ता रहे हैं! ब्लाग-व्लाग वापस जाकर लिखेंगे, अभी तो घर की रोटियां तोडने दो! :)

    ReplyDelete