ई-मेल पते का आइकन बनाइए - हिन्दी ब्लॉग टिप्स

Breaking

Friday, March 13

ई-मेल पते का आइकन बनाइए


क्या आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग पाठक सीधे ही आपसे मेल के जरिए भी संपर्क में रहें। इसके लिए प्रोफाइल में मेल पता तो दिया जा ही सकता है, लेकिन कुछ साथी ब्लॉग की साइडबार में सीधे ही अपना ई-मेल पता लिख देते हैं। ऐसा करना खतरे से खाली नहीं है। कारण यह है कि इस तरह मेल का पता लिखने से कुछ bot (मशीनी दानव) आपका मेल पता पढ़ लेते हैं और फिर शुरू होता है अनचाही मेल या स्पैम मिलने का सिलसिला।







एक तरीका है कि आप पाठकों तक ई-मेल पता भी पहुंचा दें और इसे मशीनी दानवों की निगाह से भी छिपा लें। बस आप एक क्लिक पर ई-मेल आइकन बनाने वाले इस पेज पर जाइए। यहां अपना ई-मेल पता लिखिए और इस पते वाली .png फाइल पा लीजिए। इसके बाद इसे साइडबार में उसी तरह लगा लीजिए, जैसे किसी तस्वीर को टांगा जाता है। इससे आपका ई-मेल पता सुंदर भी दिखेगा और मशीनी दानवों की निगाह से भी छिपा रहेगा।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

28 comments:

  1. अभी बना देते है जी..

    ReplyDelete
  2. इस उम्दा जानकारी के लिये धन्यवाद । अपने इमेल पते का आइकन बना लिया है ।

    ReplyDelete
  3. बहुत बढ़िया आइडिया है शुक्रिया जी

    ReplyDelete
  4. wah kya jankari di hai....
    isse to blog bhi khil jayega
    meet

    ReplyDelete
  5. बढ़िया जानकारी.

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया जानकारी

    ReplyDelete
  7. भाई साहब, लेकिन इस विधि से उन "दानवों" से किस प्रकार बचा जा सकेगा यह भी बताईये ना जरा… हमने तो अपने ब्लॉग पर साईड में suresh(dot)chiplunkar(at)gmail(dot)com ऐसा लिखा हुआ है, क्या इसमें भी कोई खतरा है?

    ReplyDelete
  8. सुरेश जी, आपने तो वाकई 'दानवों' से बचने की पूरी जुगत लगाई है। आपके पेज पर वो पर भी नहीं मार सकते। दरअसल ये दानव @ और . को पढ़कर समझ जाते हैं कि यह ई-मेल आईडी है। अगर आप पते में से इन चिन्हों को हटा देंगे तो खतरा नहीं रहेगा। ब्लॉग पर पधारने का शुक्रिया।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर जानकारी दी आप ने। उपयोग भी किया है। धन्यवाद!

    ReplyDelete
  10. बहुत काम की जानकारी है. जरूर इस्तेमाल करूँगा.

    आपने मेरे पिछले सवाल का जवाब दिया इसके लिए आपका धन्यवाद, पर आशीष जी, फोटो परमानेंट डिलीट हो गए है. वापस लाने का कोई तरीका है क्या ??

    ReplyDelete
  11. दिमाग कि बती जला दी है ।

    ReplyDelete
  12. आपके ब्लोग पर जानकारी अच्छी है. वैसे, यहां तारीख क्यों नहे दिख रही?

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छी जानकारी है. धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. बहुत अच्चे प्रयास किये हैं आपने. धन्यवाद! मेरी पत्रिका के अंजुमन में आप का स्वागत है... www.meripatrika.co.cc

    ReplyDelete
  15. बढिया जानकारी.

    रामराम

    ReplyDelete
  16. Ashish ji main janna chahta hoon ki anurag ji apne blog DIL-KI-BAAT mein jo alag se box lagate hain wah kaise lagta hai...
    jis mein wo triveni likhte hain...
    meet

    ReplyDelete
  17. बहुत बढिया जानकारी.. बतायें कि खुद का टेम्पलेट कैसे डिज़ाइन किया जा सकता है??

    ReplyDelete
  18. मशीनी दानवों की निगाह -:D :D :D...hee hee hee...yah to bahut hi mazedaar shbd diya hai!

    main bahut pahle se dot com likhti hun..shayad is liye abhi tak मशीनी दानवों की निगाह se bachi hui hun...[abhi tak hansi aa rahi hai is shbd par ]-kalpana kareeye kaisee hoti hogi मशीनी दानवों की निगाह !!!!!!!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  19. meri nakam kosis rahi thoda aur madad kre

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्‍दर, आभार।

    ReplyDelete
  21. बहुत बढ़िया है जी

    ReplyDelete
  22. sir side bar ka matlab kya hota he

    ReplyDelete
  23. अच्छी जानकारी परुन्तु इसके नुकसान भी हैं ।

    ReplyDelete
  24. maine koshish ki par nhi laga paya,mera id rediffmail par hai,
    phir provider nt available ke option mein bhi gya
    wahan usse change karne k baad rediff main banaya,
    phir foreground ,background ka option aaya,uska istimal liya par preview na hone ki wajah se dekh nhi paya,ki kya assar hua,
    iske baad generate option mein click kiya
    iske baad kya karna hai samajh nhi aaya , ho sake to mail ke zariye bateyega
    vikaszutshisn@rediffmail.com par

    ReplyDelete
  25. सर, मै ये जानना चाहता हूँ कि अपना इमेल पता अपने ब्लॉग मै कैसे सेट करना है

    ReplyDelete
  26. बहुत बढ़िया जानकारी है. धन्यवाद, आभार!!!

    ReplyDelete