Monday, August 23

क्या आपके ब्राउज़र के रिटायर होने का वक्त आ गया है?

एक वक्त था, जब अधिकतर कंप्यूटरों में वेब ब्राउज़िंग के लिए इंटरनेट एक्सप्लोरर के 5.5 या 6.0 वर्ज़न का प्रयोग होता था। उस वक्त ब्राउज़र्स के मामले में ज़्यादा विकल्प उपलब्ध नहीं थे। उसके बाद मोज़िला फायरफॉक्स आया और उसने ब्राउज़िंग का नया अनुभव दिया। गूगल क्रोम ने ब्राउज़िंग को और भी मज़ेदार बनाया और इसी बीच ओपेरा, सफारी और नेटस्केप जैसे ब्रॉउज़र भी लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे।

आज भी भले ही लैपटॉप्स पर आधुनिक ब्राउज़र्स देखने को मिल जाएं, लेकिन ज़्यादातर डेस्कटॉप पर इंटरनेट एक्सप्लोरर (IE) का 6.0 वर्ज़न ही देखने को मिलता है। कुछ साथियों ने ई-मेल भेज कर जानकारी दी है कि उनके जीमेल पर इन दिनों ब्राउज़र को लेकर एक खास मैसेज आ रहा है।
You're using an old version of Gmail which will be retired in September. At that point, you'll be redirected to a basic HTML view. To get faster Gmail and the newest features, please upgrade to a modern browser.

अगर आपके जीमेल खाते में भी सबसे ऊपर इस तरह का मैसेज दिखाई दे रहा है, तो आपको अपने वर्तमान ब्राउज़र को रिटायर कर देना चाहिए। जीमेल के सभी फीचर्स के बखूबी इस्तेमाल के लिए आपको निम्न में से किसी ब्राउज़र का आधुनिक वर्ज़न अपने कंप्यूटर में इंस्टाल करना होगा।

गूगल क्रोम

फायरफॉक्स 2.0+

इंटरनेट एक्सप्लोरर 7.0+

सफारी 3.0+

ओपेरा 9.5+


यदि आपके कंप्यूटर में इनके पुराने वर्ज़न हैं, तो आपको इनके आधुनिक वर्ज़न इंस्टॉल करने होंगे। इसके लिए आप नीचे दी गई कड़ियों का इस्तेमाल कर सकते हैं।


अब कुछ सवाल व उनके जवाब

सवाल- अगर मैं अपने ब्राउज़र को अपडेट नहीं करूंगा तो क्या होगा।
जवाब- आप सिंतबर महीने के बाद जीमेल की समस्त सेवाओं का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। मसलन टैक्स्ट, वीडियो व ऑडियो चैट आदि। आपको इसके बेसिक एचटीएमएल व्यू पर रिडायरेक्ट कर दिया जाएगा। इसके अलावा आप यूट्यूब जैसी कई दूसरी साइट्स को भी बखूबी नहीं देख पाएंगे।

सवाल- ब्राउज़र को अपडेट करने के क्या फायदे हैं?
जवाब- जीमेल जैसी साइट्स रनिंग वेब एप्लीकेशंस हैं, जो ब्राउज़र तकनीक पर निर्भर है। आधुनिक ब्राउज़र इस तरह की वेबसाइटों के खुलने की स्पीड दोगुना तक बढ़ा देते हैं?

सवाल- क्या ब्राउज़र अपडेट करने के लिए मुझे किसी तरह भुगतान करना होगा।
जवाब- नहीं, अधिकतर वेब ब्राउज़र इंटरनेट पर मुफ्त डाउनलोड करने के लिए उपलब्ध हैं। ऊपर कुछ के लिंक दिए गए हैं।

सवाल- मुझे कौनसा ब्राउज़र इस्तेमाल करना चाहिए।
जवाब- पसंद आपकी है। सभी ब्राउजर्स में अपनी खूबियां-खामियां हैं। अगर आप इंटरनेट एक्सप्लोरर पर ज़्यादा सहज हैं तो इसी का आधुनिक वर्ज़न के साथ अपग्रेड कीजिए। मेरी पसंद गूगल क्रोम है। मोज़िला फायरफॉक्स भी बुरा नहीं है।

उम्मीद है कि आप अपने पुराने ब्राउज़र को जल्द ही ससम्मान रिटायर करेंगे। इस संबंध में कोई परेशानी हो तो टिप्पणियों के माध्यम से संपर्क किया जा सकता है।

हैपी ब्लॉगिंग

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, August 14

ब्लॉगर पर कमेंट्स से जुड़ीं दो नई सुविधाएं

पिछले एक-दो दिन से आप अपने ब्लॉगर डैशबोर्ड पर कमेंट का नया विकल्प देख रहे होंगे। ब्लॉगर ने अपने कमेंटिंग सिस्टम में बदलाव किया है और इसमें दो नए विकल्प जोड़े हैं। पहला विकल्प है- कमेंट स्पैम फिल्टरिंग यानी अवांछित टिप्पणियों की स्वचलित छंटनी और दूसरा विकल्प है- ब्लॉग की सभी टिप्पणियों को एक ही जगह पर देखने की सुविधा (ई-मेल इनबॉक्स की तरह)।

अब आसान शब्दों में इन सुविधाओं को विस्तार से जानते हैं।

अवांछित टिप्पणियों की स्वचलित छंटनी (Comment Spam Filtering)

ब्लॉग पर टिप्पणियों का बड़ा महत्व है। दुर्भाग्य से कुछ ब्लॉगकंटक प्रविष्ठियों पर इस तरह की टिप्पणियां करते हैं, जिन्हें आप अपने ब्लॉग पर नहीं रख सकते। इस तरह के अनचाही (स्पैम) टिप्पणियों से बचने के लिए अभी तक कमेंट मॉडरेशन, वर्ड वेरिफिकेशन या पंजीकृत पाठकों को ही कमेंट की अनुमति जैसी सुविधाएं थीं। लेकिन ये सभी सुविधाएं टिप्पणियों के निर्बाध यातायात में बाधक हैं।

अब ब्लॉगर ने इन कमेंट्स से पीछा छुड़ाने के लिए स्पैम फिल्टरिंग तकनीक का इस्तेमाल किया है। जिस तरह से आप अपने जीमेल अकाउंट में किसी मेल को स्पैम या नॉट स्पैम के रूप में चिन्हित करते हैं, वही तकनीक अब ब्लॉगर में भी काम करेगी। इसके लिए अब ब्लॉगर के डैशबोर्ड पर आपको “Comments” टैब दिखेगा। इस टैब के तहत आपको तीन तरह की सुविधाएं नजर आएंगी। पहली सुविधा स्पैम है।


इस टैब में वे सभी कमेंट्स दिखेंगे, जो स्पैम हो सकते हैं। अर्थात ब्लॉगर का स्वचलित तंत्र जिन कमेंट्स को अनचाहा समझता है, उन्हें इस श्रेणी में डाल देता है। ये कमेंट्स सीधे ही ब्लॉग पर पब्लिश नहीं होते। आप इस श्रेणी में जाइए और देखिए कि मौजूद कमेंट्स आपके काम के हैं या नहीं। आप यहां किसी कमेंट को हमेशा के लिए डिलीट कर सकते हैं। अगर कोई कमेंट गलती से इस श्रेणी में आ गया है तो आप उसे Not Spam कर सकते हैं, जिससे भविष्य में उस पाठक के कमेंट्स इस श्रेणी में नहीं आए। जैसे ही आप किसी कमेंट के Not Spam पर क्लिक करेंगे, यह आपके ब्लॉग पर प्रकाशित हो जाएगा।

सभी टिप्पणियां एक जगह (Comments “Inbox”)

अब आप ब्लॉगर के डैशबोर्ड पर अपने सभी कमेंट्स एक ही जगह पर पा सकते हैं। Comments में Published नामक सब-टैब दिया गया है, जो बिल्कुल किसी ई-मेल इनबॉक्स की तरह दिखता है। इस सुविधा के जरिए आप पुरानी पोस्ट पर आए नए कमेंट्स को आसानी से ढूंढ़ सकते हैं। यहां भी आप किसी कमेंट को स्पैम के रूप में चिन्हित कर उसे तुरंत अपने ब्लॉग से हटा सकते हैं। आप किसी कमेंट को डिलीट भी कर सकते हैं और चाहें तो किसी कमेंट की सामग्री को निकाल कर (Remove Content) उसे अपने रिकॉर्ड में बरकरार रख सकते हैं।


जो साथी कमेंट मॉडरेशन का इस्तेमाल करते हैं, उनके लिए ई-मेल में भी स्पैम की सुविधा मौजूद है। वे सीधे ही उसे स्पैम के रूप में चिन्हित कर सकते हैं।

इस विषय पर अधिक जानकारी इस पोस्ट में दी गई है।

ध्यान दें-

1. भले ही दीर्घ अवधि में यह सुविधा काफी काम की साबित हो, लेकिन फिलहाल इसकी वजह से कुछ समस्याएं भी नज़र आ सकती है। हिन्दी ब्लॉग टिप्स की स्पैम लिस्ट में एक सुधि पाठक का निम्न कमेंट नज़र आया, जिसे तुरंत Not Spam कर दिया गया। आपको सलाह दूंगा कि आप अपनी स्पैम लिस्ट को लगातार जांचते रहे।


2. हिन्दी ब्लॉगिंग में कमेंट्स हौसलाअफज़ाई का बड़ा साधन है। अभी तक कई साथी अवांछित कमेंट्स को भी इस वजह से पब्लिश कर देते थे कि इससे उनकी पोस्ट पर कमेंट की संख्या बढ़ती थी। अब उन्हें ऐसा नहीं करना पड़ेगा। वे उस कमेंट के लिए Remove Content का सहारा लें। इससे कमेंट की अनचाही सामग्री भी पाठकों को नहीं दिखेगी और उनकी कमेंट्स की संख्या भी कम नहीं होगी।

3. अब तक ब्लॉग पर कुल कमेंट्स की संख्या का पता लगाने के लिए जावास्क्रिप्ट विजेट का सहारा लेना पड़ता था। अब इसकी ज़रूरत नहीं होगी। Comments में Published नामक सब-टैब में सभी प्रकाशित टिप्पणियों की कुल संख्या स्वतः दिखाई देगी।

उम्मीद है कि नया कमेंटिंग सिस्टम सभी पाठकों को स्पष्ट हो गया होगा। कोई उलझन हो तो टिप्पणी के जरिए संपर्क किया जा सकता है।

स्वतंत्रता दिवस की अग्रिम शुभकामनाएं

हैपी ब्लॉगिंग


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!