Saturday, November 14

Doodle 4 Google, गूगल पर चढ़ा हिंदुस्तानी रंग

आज 14 नवंबर यानी बाल दिवस पर गूगल का होमपेज खोलने में बडा़ मज़ा आया। गूगल के लोगो पर हिंदुस्तानी छाप जो थी। गर्व से सीना तो उस वक्त फूला जब पता चला कि ये सारे डिजाइंस हमारे देश के नन्हे मुन्ने बच्चों ने तैयार किए हैं। गूगल ने इस साल 2 अक्टूबर को गांधीजी को गूगल के लोगो पर जगह दी थी और भारतीय बच्चों के बीच Doodle 4 Google प्रतियोगिता कराने का ऐलान किया था। अब से प्रत्येक ऐताहासिक महत्व की तिथि को गूगल का लोगो भारतीय रंग में रंगा होगा।

गुड़गांव के चौथी कक्षा के पुरु प्रताप सिंह की इस कल्पना को देखिए। कहा जा सकता है कि हमारे देश का भविष्य वाकई उज्ज्वल है।


अन्य बच्चों की कल्पनाओं को इस तस्वीर पर क्लिक कर देखा जा सकता है-



अब आज की ब्लॉग टिप की बात

अपनी प्रयोगशाला में मैं कोई विजेट बनाने की कोशिश कर रहा था। कुछ सफल भी हुआ। टेस्टिंग के लिए आपको दिखा रहा हूं। आप देखिए अगर आपके ब्लॉग की हेडलाइंस न्यूज फ्लेश की तरह कुछ इस तरह से दिखें तो कैसा रहे।
अगर आपको यह पसंद आ रहा है तो कृपया लिखिए। इसे फाइनल टच देने का मोटिवेशन मिलेगा।

टिप्स:






क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, November 12

कृपया राय दीजिए, मुझे क्या करना चाहिए?

बहुत दिन से सोच रहा हूं कि नौकरी बदल ही लूं। आज थोड़ी फुरसत मिलने पर नेट खंगाला तो मुझे मेरे लायक केवल एक ही नौकरी दिखी। साथ ही एक आत्मनिर्भर होने वाले व्यवसाय का भी पता चला। अब मैं इन दोनों में से किसी एक के लिए अपनी किस्मत आजमाने के बारे में विचार कर रहा हूं। मैं फैसला नहीं कर पा रहा हूं कि दोनों में से क्या चुनूं। आपसे गुज़ारिश है कि आप दोनों की डिटेल पढ़ें और उसके बाद मुझे राय दें कि मुझे दोनों में से क्या चुनना चाहिए।

1. सेकिंड बेस्ट जॉब ऑफ द वर्ल्ड-

यह नौकरी फ्रांसीसी वेबसाइट letsbuyit.com दे रही है। इस ऐश भरी नौकरी के दौरान आप वेबसाइट के खर्चे पर दुनिया के सात खूबसूरत शहरों की सैर कर सकते हैं। इस नौकरी की कैंपेन कल यानी बुधवार से लॉन्च की गई है। वेबसाइट के आयोजक एक 'इंटरनेशनल शॉपिंग कंसल्टेंट' की तलाश कर रहे हैं। वेबसाइट ने विजेता को एक महीने तक मुफ्त में दुनिया के सात खूबसूरत शहरों (बर्लिन, हांगकांग, लंदन, मिलान, न्यूयॉर्क, पेरिस और टोक्यो) की सैर कराने का ऐलान किया है। इस दौरान उसे 5000 यूरो का आकर्षक पैकेज भी दिया जाएगा। विजेता के रहने-खाने, घूमने-फिरने और हवाई यात्रा का खर्च वेबसाइट उठाएगी। यही नहीं, उसे पूरे महीने कुल 10 हजार यूरो तक की शॉपिंग करने की भी आजादी मिलेगी। आवेदन की प्रक्रिया भी बेहद आसान है। सबसे पहले आपको एक वीडियो टेप तैयार करना होगा, जिसमें आप इस पद के लिए अपनी खूबियां गिनाएंगे। इसके बाद दमदार बायोडाटा के साथ इस फुटेज को अटैच करके 14 दिसम्बर तक 'लेट्स बाय इट डॉट कॉम' पर भेजना होगा।

बतौर 'इंटरनेशनल शॉपिंग कंसल्टेंट' विजेता महीने भर इंटरनेट उपभोक्ताओं से ब्लॉग के जरिए अपने अनुभव बांटेगा। इसमें वह बर्लिन, हांगकांग, लंदन, मिलान, न्यूयॉर्क, पेरिस और टोक्यो के शॉपिंग कल्चर की तुलना करेगा। साथ ही यह भी बताएगा कि किस शहर में सबसे सस्ती और टिकाऊ चीजें मिलती हैं। दुकानदारों से मोलभाव की संभावना कहां सबसे ज्यादा है, यह जानना भी विजेता के ही जिम्मे होगा।

गौरतलब है कि इससे पहले क्वींसलैंड टूरिज्म ने द ग्रेट बैरियर रीफ पर पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए 'बेस्ट जॉब इन द वर्ल्ड अभियान चलाया था। इसके तहत विभाग को हैमिल्टन द्वीप के केयरटेकर की तलाश थी।

2. हिट मी जॉब -

चीन में एक शख्स ने अनोखा पार्टटाइम व्यवसाय चुना है और मुझे भी यह व्यवसाय मेरे लिहाज से उपयुक्त लग रहा है।

यह चीनी पुरुष खुद को पंचबैग के रूप में उन महिलाओं के लिए उपलब्ध कराने की पेशकश कर रहा है, जो किसी पुरुष को पीटने की ख्वाहिश रखती हैं। उत्तर-पूर्वी चीन के शेनयांग के जियाओ लिन नाम का यह शख्स एक जिम का कोच है। उसने तनावग्रस्त महिलाओं को अपनी भड़ास निकालने के लिए खुद को एक पंचबैग की तरह इस्तेमाल करने के लिए पेश किया है। लिन को आधे घंटे तक पीटने के लिए महिलाओं को करीब सात सौ रुपए खर्च करने पड़ते हैं। इस नए कारोबार के बारे में लिन ने अपने परिवार को नहीं बताया है। लिन का कहना है कि महिलाओं के लिए पंचबैग बनकर वे कुछ पैसे भी कमा लेते हैं। इसके साथ-साथ खुद को बचाने की कला में भी उन्हें निपुणता हासिल हो रही है। इस सेवा का लाभ उठाने के लिए उनके पास ग्राहक भी आने लगे हैं। लिन के अनुसार उनकी पहली ग्राहक 25 साल की लड़की है। उसने आधा घंटे की कीमत अदा की। लेकिन वह जल्द ही थक गई। उसने बाकी समय उनके साथ बातचीत करके निकाला। दूसरी ग्राहक भी ऐसी ही थी। वह भी जल्द ही थक गई। लेकिन लिन को पीटने के बाद दोनों ही बहुत संतुष्ट दिखाई दीं। उनका कहना है कि ऐसा करके वह तनावग्रस्त महिलाओं की मदद कर रहे हैं।

अब आप ही बताइए कि मैं यह नौकरी करूं या यह व्यवसाय?

हैपी ब्लॉगिंग







क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, November 6

गूगल ने दिया जवाब, किया कूटनीति का खुलासा

हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने करीब दो हफ्ते पहले गूगल की ओर से भारत का भ्रमित नक्शा छापने से जुड़ी पोस्ट गूगल, यूं हिंदुस्तानियों के साथ खिलवाड़ न करो प्रकाशित की थी। गूगल ने इस खबर का संज्ञान लिया है और गूगल के आधिकारिक प्रवक्ता ने अपनी इस रणनीति का खुलासा ई-मेल भेजकर किया है।

गूगल का कहना है कि-



गूगल के जवाब का लब्बोलुआब यह है कि कंपनी ने कूटनीति अपनाते हुए अपनी साइट के तीन वर्जन तैयार किए हैं। पहला अंतरराष्ट्रीय वर्जन, दूसरा भारत के लिए और तीसरा चीन के लिए।

अन्तरराष्ट्रीय वर्जन (http://maps.google.com/) में गूगल विवादित सीमाओं को डॉटेड लाइंस से दिखाता है।

भारतीय वर्जन (http://maps.google.co.in/) में गूगल भारतीय दावे के मुताबिक सीमाओं को दिखाता है।

चीनी वर्जन (http://ditu.google.com/) में गूगल चीनी दावे के मुताबिक सीमाएं दिखाता है।



हमें ऐतराज इस बात पर है कि अगर ऐसा है तो फिर चीन के लिए तैयार वर्जन हिंदुस्तान में खुलता क्यों है? उसका एक्सेस कम से कम हिंदुस्तान में तो बंद किया जाना चाहिए।

और गूगल अगर इसे अपना अधिकार समझता है तो हिंदुस्तानी एजेंसियों को इस पर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए और गूगल डीटू का एक्सेस हिंदुस्तान में बैन होना चाहिए।

हैपी ब्लॉगिंग




क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!