Saturday, October 24

गूगल, यूं हिंदुस्तानियों के साथ खिलवाड़ न करो

प्रिय गूगल,

इसमें कोई संदेह नहीं कि तुम हर इंटरनेट यूजर की ज़रूरत हो और इंटरनेट पर उसके सबसे अच्छे दोस्त हो। यह भी सही है कि तुमने इंटरनेट पर क्रांति का सूत्रपात किया है और इंटरनेट को नए तरीके से परिभाषित किया है। इसी वजह से आज तुम इंटरनेट पर सबसे बड़े खिलाड़ी के रूप में काबिज हो।

लेकिन क्या इस ताकत ने तुम्हें इतना बड़ा बना दिया है कि तुम सम्प्रभु देशों की भौगोलिक सीमाओं को भी अपने हिसाब से बदल सको? दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को इतना कमज़ोर समझो कि उसकी भौगोलिक सीमाएं दूसरे राष्ट्रों को समर्पित कर दो।

अब तुम ही देखो। यह गूगल डीटू है। गूगल मैप का तुम्हारा चीनी संस्करण। देखो, इसमें अरुणाचल प्रदेश और जम्मू-कश्मीर के कितने बड़े हिस्से को तुम चीन में दिखा रहे हो। और तो और ताइवान को भी तुमने चीन का हिस्सा दिखाया है। हिंदुस्तान का राष्ट्रीय राजमार्ग- 52 (असम से अरुणाचल प्रदेश जाने वाला) भी तुमने अटपटे तरीके से सीमा पर ले जाकर अधूरा छोड़ दिया है। क्या तुम यह सोच रहे हो कि गूगल डीटू पर किसी हिंदुस्तानी की नजर नहीं पड़ेगी? भले ही यह भाषा हम पढ़ नहीं पा रहे हों, लेकिन तुम्हारे (या तुम्हे मोहरा बनाकर ड्रेगन के) मंसूबे यहां स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं। दोनों देशों की तल्खी का मनौवैज्ञानिक फायदा तुम उस कथित उभरती महाशक्ति को पहुंचाना चाहते हो।



अभी दो महीने पहले ही तुम्हें गूगल मैप पर अरुणाचल प्रदेश के हिस्सों को चीनी भाषा में दर्शाए जाने पर फटकार लग चुकी है। तुमने माफी मांगी और यह कहा कि देशों के बीच सीमा विवाद में तुम नहीं पड़ते। तुमने गूगल मैप में भी पूरे के पूरे जम्मू-कश्मीर और अरुणाचल प्रदेश को बिंदु रेखा के रूप में दिखाकर उन्हें विवादित करार दिया।



तुम्हारा गूगल एनालिटिक्स भी हिंदुस्तानी नक्शे में जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्से को चीन और पाकिस्तान में दिखा रहा है। पता नहीं तुम ऐसा क्यों कर रहे हो? तुम्हें यू गलत तथ्यों को प्रदर्शित करने का अधिकार कतई नहीं है।



हम हिंदुस्तानी ब्लॉगर तुम्हारे इस कदम (या कहें त्रुटि) की भर्त्सना करते हैं और तुमसे उम्मीद करते हैं कि तुम इस पर जल्द से जल्द कदम उठाओगे और अपने नक्शों को ठीक करोगे।

तुम्हारे इस कदम (या त्रुटि) से हम आहत हुए हैं।

तुम्हारे
हिंदुस्तानी ब्लॉगर


इस विषय पर मेरी (साथी पत्रकार हीरेन जोशी के साथ)विस्तृत रिपोर्ट गूगल ने बदल डाला हमारा नक्शा ! राजस्थान पत्रिका के 24 अक्टूबर, 2009 के अंक में प्रमुखता से प्रकाशित हुई है। इसे नीचे दिए गए चित्र पर क्लिक कर पढ़ा जा सकता है।



हैपी ब्लॉगिंग





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, October 9

एक लाइन में चलती हुईं ताजा प्रविष्ठियां दिखाएं (Horizontal scrolling recent posts)

क्या आप अपने ब्लॉग पर ताज़ा प्रविष्ठियों को एक ही लाइन में चलता हुआ (स्क्रॉलिंग) दिखाना चाहते हैं। पोस्ट के ऊपर या फिर साइडबार में। इस तरह चलती हुईं प्रविष्ठियां जगह भी कम घेरती हैं और पाठकों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित भी करती हैं। इसका जीवंत प्रदर्शन (लाइव डेमो) इस बक्से में देखें-



इसे लगाना बहुत आसान है। इसके लिए आप नीचे दिए गए कोड को लेआउट>>एड ए विजेट >>एचटीएमएल\जावास्क्रिप्ट विंडो में पेस्ट कर दीजिए। याद रखें कि इसमें लाल रंग से दिखाई गई जगह पर अपने ब्लॉग का पता बदलना नहीं भूले।

<script style="text/javascript" src="http://dreamydonkey.googlepages.com/scrolling_blogger_posts.js"> </script><script style="text/javascript"> var nMaxPosts = 15; var sBgColor; var nWidth; var nScrollDelay = 175; var sDirection="left"; var sOpenLinkLocation="N"; var sBulletChar="•"; </script> <script style="text/javascript" src="http://YOURBLOG.blogspot.com/feeds/posts/default?alt=json-in-script&callback=RecentPostsScrollerv2"></script>


उम्मीद है कि यह आपके ब्लॉग पर ठीक से काम करेगा.. नई ब्लॉग टिप के साथ फिर मिलेंगे .. हैपी ब्लॉगिंग





क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!