Friday, January 30

"आगे पढ़ें" विकल्प जोड़ें

क्या आपने हिन्दी ब्लॉग टिप्स का होमपेज देखा है? यह दस प्रविष्ठियों का केवल सारांश दिखता हैं। यानी शुरुआती पंक्तियां। पूरी पोस्ट "आगे पढ़ें" पर क्लिक करने के बाद पढ़ी जा सकती है। पाठक अपनी सुविधानुसार पसंदीदा पोस्ट को पूरी खोलकर पढ़ सकता है। कई साथियों से ने मुझसे पूछा कि वे अपने ब्लॉग पर यह सुविधा कैसे जोड़ सकते हैं? ऐसा आसानी से किया जा सकता है। बस आपको नीचे दी गईं दो स्टेप्स ध्यान से फॉलो करनी होंगी-

स्टेप 1- टेम्पलेट के कोड में परिवर्तन

1. लेआउट में जाइए।

2. एडिट एचटीएमएल पर क्लिक कीजिए। (एचटीएमएल कोड में परिवर्तन करने से पहले अपनी टेम्पलेट का बैकअप जरूर रखें। इससे आप अपनी मूल टेम्पलेट फिर से पा सकते हैं। टेम्पलेट को डाउनलोड करने का तरीका यहां दिया गया है।)

3. Expand Widget Templates को आवश्यक रूप से टिक कर दीजिए।



4. कोड में नीचे दिए गए हिस्से को ढूंढिए। सबसे अच्छा तरीका है Cont + F कुंजियों को दबाइए। एक फाइंड बॉक्स खुलेगा। इसमें नीचे दिए गए कोड को कॉपी कर पेस्ट कर दीजिए। एंटर करते ही आप कोड के इस हिस्से तक पहुंच जाएंगे।

<data:post.body/>


हो सकता है कि आपको टेम्पलेट में यह मिले-

<p><data:post.body/></p>


इस कोड के स्थान पर ध्यानपूर्वक यह कोड पेस्ट कर दें-

<b:if cond='data:blog.pageType == "item"'>
<style>.fullpost{display:inline;}</style>
<p><data:post.body/></p>
<b:else/>
<style>.fullpost{display:none;}</style>
<p> <data:post.body/></p>
<b:if cond='data:blog.pageType != "item"'><br />
<a expr:href='data:post.url'>आगे पढ़ें...</a>
</b:if>
</b:if>


तरीका इस इमेज में दिखाया गया है-

याद रखें कि आपको यह कोड नीले रंग से दिखाए गए कोड के स्थान पर पेस्ट करना है यानी कि नीले रंग वाले कोड को हटा देना है और उसकी जगह पर नया कोड पेस्ट कर देना है।



इसके बाद टेम्पलेट को सेव कर दें।



आपने पहली स्टेप को पूरा कर लिया है। अब बारी है स्टेप-2 की-

स्टेप 2- डिफॉल्ट पोस्ट टेम्पलेट लगाइए

इस चरण में आपको अपने ब्लॉग की डिफॉल्ट पोस्ट टेम्पलेट में यह कोड सेव करना होगा। डिफाल्ट पोस्ट टेम्पलेट लगाने का तरीका इस पोस्ट में दिया गया है-

<span class="fullpost">

</span>


डिफॉल्ट पोस्ट टेम्पलेट में ऊपर दिया गया कोड सेव करने के बाद जब भी आप प्रविष्ठि लिखने के लिए पोस्ट एडिटर खोलेंगे तो आपको इस तरह का कोड खुद-ब-खुद दिखेगा-



आपको जो हिस्सा मुख्य पृष्ठ पर दिखाना है उसे <span class="fullpost"> के ठीक ऊपर लिखें। जिस हिस्से को आप छिपाना चाहते हैं उसे <span class="fullpost"> और </span> के बीच में लिखे।

उदाहरण देखिए-

यह हिस्सा मुख्य पृष्ठ पर दिखेगा
<span class="fullpost">
यह हिस्सा मुख्य पृष्ठ पर नहीं दिखेगा
</span>


उम्मीद है तरीका आपको समझ आ गया होगा। किसी भी परेशानी की स्थिति में आप मुझसे टिप्पणी के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

डिफॉल्ट Post Template लगाई क्या?

क्या आप चाहते हैं कि आपकी पसंद का कोई वाक्य या संदेश हर पोस्ट में दिखे? या क्या आप पोस्ट के साथ हायपरलिंक या दूसरे तरह के एचटीएमएल टैग इस्तेमाल करते हैं? तब तो post template तकनीक आपका वक्त बचा सकती है। जानते हैं कि post template क्या बला है?

post template का सीधा सा अर्थ है कि आपके पोस्ट एडिटर को खोलते ही उसमें आपकी पसंद का वाक्य या एचटीएमएल कोड हमेशा दिखेगा। आपको हर बार उसे इधर-उधर से कॉपी कर नहीं लाना पड़ेगा। मिसाल के तौर पर देखिए कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स की post template में यह मौजूद है, जो हर पोस्ट में दिखता है।



अब तो आप समझ ही गए होंगे कि post template क्या है। जानते हैं इसे लागू करने का तरीका-

1. ब्लॉग की Settings में जाइए।

2. Formatting ऑप्शन चुनिए।



3. पेज को नीचे तक स्क्रॉल करने के बाद Post Template पर आइए और यहां बॉक्स में वह मैसेज या एचटीएमएल कोड लिख दीजिए (या पोस्ट कर दीजिए), जो आप अपने पोस्ट एडिटर में हमेशा देखना चाहते हैं।



4. बदलाव को Save कर दीजिए।

यह तरीका ब्लॉग में "आगे पढ़ें" ऑप्शन जोड़ने में भी मददगार है। इस ऑप्शन को जोड़ने के लिए यह पोस्ट पढ़ें।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, January 26

हिंदी और हिंदुस्तान का सिर मत झुकाओ !!!!



सबसे पहले तो आपको गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं।

आज सुबह जब ब्लॉग खोले तो कुछ पर इस तरह के बधाई संदेश दिखे, जिन्हें देखकर हर हिंदुस्तानी का सिर शर्म से झुक जाए। एक संदेश में भारत के नक्शे के साथ खिलवाड़ किया गया है तो दूसरे संदेश में हमारी प्यारी भाषा के साथ। आप खुद ही देखिए-






यह करतूत स्क्रेपलाइव नामक वेबसाइट की है। मान लिया कि विदेशी वेबसाइटों को हिंदी और हिंदुस्तान की ज्यादा जानकारी नहीं है, लेकिन हम तो समझदार हैं!!!!!!!!!!!!

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, January 24

एक क्लिक पर 'ब्लॉगवाणी पसंद' लगाइए

कुछ समय पहले चिट्ठा संकलक ब्लॉगवाणी ने 'ब्लॉगवाणी पसंद' के बटन को अपने ब्लॉग पर लगाने की सुविधा दी है। इस बटन का फायदा यह है कि पाठक इस पर क्लिक कर सीधे ही पोस्ट की रेटिंग बढ़ा सकते हैं, जिससे आपकी पोस्ट ज्यादा से ज्यादा पाठकों तक पहुंच सकती है। ब्लॉगवाणी ने एक कोड जारी किया है, जिसे आप अपने ब्लॉग की साइडबार में लगा सकते हैं। कुछ ब्लॉगर साथी कोड को कॉपी कर अपने ब्लॉग में लगाने को मशक्कत भरा काम मानते हैं। उनकी सहायता के लिए हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने एक खास बटन बनाया है। आप (ब्लॉगर ब्लॉग संचालक) इस बटन पर क्लिक कर इस औजार को सीधे ही अपने ब्लॉग पर जोड़ सकते हैं।




इस औजार के विषय में ज्यादा जानकारी यहां है।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, January 23

ब्लॉग के पते को आकर्षक बनाइए


क्या आपके ब्लॉग का पता यानी url आपको लंबा और याद रखने में असहज लगता है? क्या आप इसे थोड़ा आसान और आकर्षक बनाना चाहते हैं? तब तो यह पोस्ट आपके काम की है।

मिसाल देखिए। हिन्दी ब्लॉग टिप्स का पता है- http://tips-hindi.blogspot.com

मैंने इसके आसान और आकर्षक पते कुछ इस तरह बनाए हैं।

http://blogtips.tk

http://www.chittha.tk

http://www.blogtips.tk

http://www.hindiblogtips.tk

http://www.tips-hindi.tk


जी हां, यह आसान सी ब्लॉग रिडायरेक्शन सेवा द्वारा संभव है। यानी इस मुफ्त सेवा (www.dot.tk) से आपका ब्लॉग अपने मूल पते पर तो काम करता ही रहता है, साथ ही इसे नए पते भी मिल जाते हैं और उस पर भी रिडायरेक्शन से आपका ब्लॉग खुल जाता है। .tk नामक यह सेवा इतनी सहज और आसान है कि इसमें न तो आपको अपना ई-मेल पता देना अनिवार्य है और न ही आपको किसी तरह का कोई कोड अपने ब्लॉग पर लगाने की जरूरत है। बस इस वेबसाइट पर जाइए। अपने ब्लॉग का पता लिखिए। पसंद का नाम चुनिए और अगली स्टेप पर चले जाइए।



आप बस एक छोटा और आकर्षक पता चाहते हैं तो ई-मेल नहीं देने वाला विकल्प चुनिए और अगर आप कुछ और सेवाओं का इस्तेमाल करना चाहते हैं तो अपना ई-मेल पता देकर अकाउंट बना लीजिए। इसके बाद आपके ब्लॉग का नया और आकर्षक पता तैयार हो जाएगा।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, January 21

फॉण्ट बदलना इतना आसान !

Convert your Font

Chanakya to Unicode (चाणक्य से यूनीकोड)

Unicode to Chanakya (यूनीकोड से चाणक्य)

Krutidev (devlys) to unicode and Chanakya (कृतिदेव से यूनिकोड एवं चाणक्य)


Your Font>>>>Unicode

4C GandhiAgraAmarKundliChanakyaDV Alankaar

SurekhYogeshHT Chanakya4C HindBariKrutidevPreeti

RichaSanskrit 99ShivajiShrilipiSuchidev । Yuvraj



Unicode>>>>Your Font

Agra ChanakyaDV AlankaarYogesh

HT ChanakyaKrutidev RichaSanskrit 99


इंटरनेट पर हिन्दी टंकण के लिए यूनीकोड का इस्तेमाल होता है। कुछ साथी (खासकर पत्रकार बंधु) अलग फॉण्ट में टाइप करते हैं और इस समस्या से परेशान रहते हैं कि उनका मैटर यूनीकोड में नहीं होने की वजह से ब्लॉग पर ठीक से नहीं दिखता। वे आसानी से अपने फॉण्ट के मैटर को यूनीकोड में तब्दील कर सकते हैं।

अनुनाद सिंह जी और नारायण प्रसाद जी ने Scientific and Technical Hindi (वैज्ञानिक तथा तकनीकी हिन्दी) गूगल ग्रुप पर इस तरह के कई फॉण्ट कन्वर्टर अपलोड किए हैं। ये इस्तेमाल में काफी सहज और सटीक हैं। दी गई लिस्ट से आप मनचाहा कन्वर्टर चुन सकते हैं।


इनके अलावा हिन्दी फॉण्ट परिवर्तकों की पूरी सूची यहां है।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, January 12

'हम लोग' में खास ब्लॉग

जयपुर से प्रकाशित 'डेली न्यूज़' दैनिक अख़बार की रविवारीय पत्रिका 'हम लोग' के लिए मुझे कुछ खास चिट्ठों की जानकारी संजोने का मौका मिला। ये खास चिट्ठे अपने अनोखे विषयों के कारण अपनी अलग ही पहचान रखते हैं। इस श्रेणी में इनके अलावा और भी चिट्ठे हैं, लेकिन स्थान की सीमितता के कारण उन्हें शामिल करना संभव नहीं हो सका। यह आलेख रविवार (11 जनवरी, 2009) को प्रकाशित हुआ है।

(तस्वीर बड़े आकार में देखने के लिए इस तस्वीर पर क्लिक करें)



पाठकों की सुविधा के लिए आलेख का मूल पाठ यहां प्रकाशित किया जा रहा है-

ब्लॉग यानी वेबलॉग। इंटरनेट पर एक ऐसा साधन, जहां सहज, सुलभ और व्यापक तरीके से अपने भावों की अभिव्यक्ति व्यापक जनसमूह के सामने की जा सकती है। आधुनिक जगत में निजी डायरी की जगह ब्लॉग ने ले ली है। दुनिया भर में हर भाषा और हर विषय पर ब्लॉग लिखे जा रहे हैं। हिन्दी भाषा जगत भी इस नई क्रांति से अछूता नहीं है। हिन्दी ब्लॉग संसार में सभी तरह के ब्लॉग मौजूद हैं। व्यक्तिगत, साहित्यिक, तकनीकी, यात्रा वृत्तांत जैसे सामान्य विषय हिन्दी ब्लॉग जगत में छाए हैं।

जिन ब्लॉग या चिट्ठों को सबसे ज्यादा लिखा और पढ़ा जाता है, हालांकि उनमें कविता, कहानी, साहित्य और दर्शन का स्थान सबसे ऊपर है, लेकिन इस सभी के बीच कुछ खास ब्लॉग ऐसे हैं, जो अपने अनूठे विषय और सामग्री की बदौलत सभी का ध्यान अपनी ओर खींचने में कामयाब रहे हैं। कुछ ब्लॉग पहेली या ऐसी ही दूसरी चीजों को लेकर व्यापक चर्चा का कारण बने हैं, वहीं कुछ ब्लॉग अपनी अनूठी भाषा को लेकर लोगों की पसंद बन गए हैं। ऐसे ही कुछ अनोखे चिट्ठों की पड़ताल-


भारतीय भुजंग

धनबाद, झारखंड की लवली कुमारी 'भारतीय भुजंगÓ नामक इस ब्लॉग की लेखिका हैं। इस ब्लॉग पर सांपों से जुड़ी तमाम तरह की जानकारियां दी जाती हैं। इस ब्लॉग के लेखन के पीछे लेखिका का उद्देश्य है- सांपों से जुड़ी मिथ्या बातों और भ्रमजाल से लोगों को मुक्त कराना। यहां सर्प जानकारी के अलावा सांपों से जुड़ी पहेलियां भी होती हैं और लोग सांपों से जुड़े अनुभव भी यहां साझा करते हैं।

वर्ग पहेली

भोपाल में रहने वाले रवि रतलामी इस ब्लॉग को खास तौर पर हिन्दी वर्ग पहेलियों के शौकीन लोगों के लिए लिखते हैं। यहां वर्ग पहलियां दी जाती हैं और उनके संकेतों के आधार पर उन्हें ऑनलाइन ही भरना होता है। कुछ समय बाद ही सही उत्तर ब्लॉग पर प्रकाशित कर दिया जाता है। यहां पहेली को भरने का तरीका भी सुझाया गया है। पिछले साल जून से संचालित इस ब्लॉग पर फिलहाल तीस से ज्यादा वर्ग पहेलियां मौजूद हैं।

आदित्य रंजन

अगर आप आठ महीने के बच्चे की बाल सुलभ अदाओं को नजदीक से देखना चाहते हैं, तो इस ब्लॉग पर चले आइए। यहां जोधपुर के आठ महीने के आदित्य रंजन की सभी बातें उनके मम्मी-पापा (अंजु-रंजन) रोचक अंदाज में पहुंचा रहे हैं। यहां आदित्य के वजन, ऊंचाई, सफर, खाने-पीने से लेकर सभी तरह की दूसरी जानकारियां रोचक अंदाज में लिखी जा रही हैं।


अजब अनोखी दुनिया के चित्र

कहा जाता है कि एक तस्वीर हजार शब्दों के बराबर होती है। इस ब्लॉग का फलसफा इसी अभिव्यक्ति को जनमानस तक पहुंचाना है। महाराष्ट्र के शुभम आर्य और वरुण जायसवाल इस ब्लॉग पर ऐसी तस्वीरों को पेश करते हैं, जिन्हें देख किसी को भी अचंभा हो सकता है। साथ ही तस्वीरों के साथ हास्यप्रधान कैप्शन इस अंदाज में पेश होते हैं, जो तस्वीर को और भी जीवंत बना देते हैं।

रामपुरिया का हरियाणवी ताऊनामा

पी. सी. रामपुरिया लिखित यह ब्लॉग पढ़ते ही आपको लगेगा, कि आप हरियाणा की किसी सडक़ पर खड़े होकर ताऊ से मुखातिब है। इस ब्लॉग पर ठेठ हरियाणवी भाषा इस ब्लॉग को रोचक और पठनीय बना देती है। इस ब्लॉग की एक और खूबी है। ये ताऊ कौन है, इसे लेकर हिन्दी ब्लॉग जगत में तरह-तरह की चर्चाएं हैं। जो भी हों, लेकिन पहचान के पत्ते नहीं खोलकर ही उन्होंने इस ब्लॉग को पठनीय बना दिया है।

अमृता प्रीतम की याद में

दिल्ली की रंजू भाटिया और जगदीश भाटिया लिखित यह ब्लॉग साहित्यकार अमृता प्रीतम को पूरी तरह समर्पित है। इस ब्लॉग पर अमृता की रचनाओं को सुंदर और रोचक तरीके से पेश किया गया है। साथ ही अमृता और इमरोज की जिंदगी से जुड़ी ऐसी बातें भी यहां पेश की जाती हैं, जिनके बारे में पहले कभी चर्चा नहीं हुई।

रिजेक्ट माल

यह ब्लॉग ऐसे लेखकों को मंच देने का प्रयास है, जिनकी रचनाएं अक्सर पत्र-पत्रिकाओं के लिए रिजेक्ट हो जाती हैं। यहां दिलीप मंडल, आर. अनुराधा और प्रणय प्रियदर्शी ने बीड़ा उठाया है रिजेक्ट माल को छापने का। वे दावा करते हैं कि जो कहीं नहीं छपता, वह यहां छपेगा। इस खूबी के कारण यहां कई लेखक अपनी सामग्री भेजते हैं और इसी वजह से यहां सामग्री में काफी विविधता है।

माँ !

मां विषय को लेकर यह एक सामूहिक ब्लॉग है, जिस पर कोई भी लेखक मां के प्रति अपने जज्बात पेश कर सकता है। इस पर फिलहाल 43 लेखक अपनी रचनाएं पेश कर चुके हैं। इतने लेखक होने की वजह से यहां मां के विभिन्न रूप शानदार तरीके से पेश किए गए हैं। यहां किस्से, कविताएं और गीतों को इस अंदाज में पेश किया गया है कि यह चिट्ठा हर पाठक के सामने मां के स्वरूप को साकार कर देता है।

अदालत

यह ब्लॉग खासतौर पर वकीलों और कानून के छात्रों को ध्यान में रखकर लिखा जाता है और इस पर सभी चर्चित मामलों की झलक पेश की जाती है। लोकेश और दिनेशराय द्विवेदी लिखित इस ब्लॉग पर अदालतों के खास लिंक और सूचनाएं भी पेश की जाती हैं। अदालत में भले ही कोई बार-बार न जाना चाहे, लेकिन इस ब्लॉग पर बार-बार आने से अदालती ज्ञान में बढ़ोतरी लाजिमी है।

रेडियोनामा

रेडियोप्रेमियों को समर्पित इस ब्लॉग में रेडियो से जुड़ी जानकारियों के साथ रेडियो की यादें भी बांटी जाती हैं। इस ब्लॉग पर आते ही लगता है कि जैसे पाठक पुराने आकाशवाणी वाले दौर में पहुंच गए हैं। इस ब्लॉग पर 25 से ज्यादा लेखक अपने अनुभव और यादों को पाठकों के सामने पेश कर रहे हैं। रेडियो के पुराने दौर को धरोहर के रूप में पेश करने का यह शानदार जरिया बन रहा है।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, January 8

चलते हुए शब्दों की पट्टी (marquee)

लुधियाना के डी.के.शर्मा"वत्स" जी ने जानना चाहा है कि चलते हुए शब्दों की पट्टी कैसे लगाई जा सकती है। तकनीकी भाषा में इसे मूवींग टेक्स्ट या marquee कहा जाता है और एक आसान से एचटीएमएल कोड का उपयोग कर इसे लगाया जा सकता है। क्या आप भी अपने ब्लॉग पर चलते हुए शब्दों की पट्टी लगाना चाहते हैं?

आप इसके लिए quackit वेबसाइट की मदद ले सकते हैं। जैसे ही आप इस वेबसाइट का यह पेज खोलेंगे, थोड़ा नीचे आपको एक फॉर्म दिखेगा। इस फॉर्म की पूर्ति करने पर आपको आपकी मनचाहे शब्दों की चलती-फिरती पट्टी वाला कोड मिल जाएगा। इस कोड को आप गेजेट (पेज एलिमेंट के रूप में) या पोस्ट के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं। इसी फॉर्म की मदद से तैयार किए गए कुछ उदाहरण देखिए-


हिन्दी ब्लॉग टिप्स



हिन्दी ब्लॉग टिप्स



हिन्दी ब्लॉग टिप्स



हिन्दी ब्लॉग टिप्स

फॉर्म की किसी एंट्री में परेशानी की अवस्था में आप मेरा सहयोग ले सकते हैं। इस विषय पर और जानकारी के लिए यह पोस्ट भी देखी जा सकती है।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, January 5

आपके ब्लॉग का हिन्दी सर्च इंजन

आपके ब्लॉग का ऐसा सर्च इंजन तैयार करना चुटकियों का काम है, जिसमें आप हिन्दी में लिखकर अपने ब्लॉग से कोई भी सामग्री तलाशने की सुविधा अपने पाठकों को दे सकते हैं। खुद आजमाइए हिन्दी ब्लॉग टिप्स से इस सर्च इंजन को (यही सर्च इंजन ऊपर हैडर में भी मौजूद है)। यहां आप हिन्दी अथवा अंग्रेजी में टाइप कर कोई भी सामग्री तलाश सकते हैं (साभारः quillpad)।



क्या आप भी अपने ब्लॉग के लिए ऐसा ही सर्च इंजन बनाना चाहते हैं?

आइए जानते हैं यह आसान सा तरीका-

1. Quillpad वेबसाइट के इस पेज पर जाइए। यहां इस तरह का फॉर्म खुलेगा।



2. इस फॉर्म में नाम और ई-मेल एड्रेस भरिए। यूआरएल की एंट्री नीचे समझाए अनुसार कीजिए।

http://आपका-ब्लॉग.blogspot.com/search?q=quill


यह लाइन कॉपी कीजिए और इसे सबमिट यूआरएल के बॉक्स में पेस्ट कर दीजिए। आपका-ब्लॉग की जगह आपके ब्लॉग का नाम लिखना नहीं भूलें।

3. सेवा शर्तों से सहमति जताने के बाद आपको इस तरह का कोड मिलेगा।



4. आप दिए गए कोड को कॉपी कर इसे ले-आउट>>एड ए गेजेट>>एचटीएमएल/जावास्क्रिप्ट के साथ लगा सकते हैं। ज्यादा सहज ऊपर वाला कोड रहेगा। इस कोड में साइज में परिवर्तन भी संभव है। चाहें तो इस कोड को पोस्ट के साथ भी काम लिया जा सकता है।

अब आपके ब्लॉग का हिन्दी सर्च इंजन तैयार हो जाएगा। अगर आप गूगल, याहू जैसे सर्च इंजनों पर हिन्दी में लिख कर खोज करने वाला सर्च इंजन चाहते हैं तो हिन्दी स्टोर की मदद से सकते हैं।

क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, January 3

हिन्दी ब्लॉग टिप्स का नया रूप

नए साल में हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने ब्लॉगर साथियों के लिए सेवाओं को बेहतर बनाने के संकल्प के साथ नया कलेवर भी अपनाया है। कोशिश की गई है कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स के मूल स्वरूप के साथ ज्यादा छेड़छाड़ नहीं की जाए, जिससे साथियों को ब्लॉग पढ़ने में ज्यादा समस्या नहीं आए। नया स्वरूप आपके सामने है। इस स्वरूप पर आप अपनी प्रतिक्रिया और सुझाव टिप्पणी के रूप में दे सकते हैं।

आपकी शिकायतें और सुझाव हिन्दी ब्लॉग टिप्स के लिए बेशकीमती साबित होंगे।


क्या आपको यह लेख पसंद आया? अगर हां, तो ...इस ब्लॉग के प्रशंसक बनिए ना !!

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!