Wednesday, October 29

सबसे आसान आरकाइव (सभी प्रविष्ठियां दिखाएं)

क्या आप भी मेरी तरह ब्लॉगर के मौजूदा आरकाइव से दुखी हैं? साल और महीने के हिसाब से पोस्ट को जमाने का बोरिंग तरीका। अब हम इतनी ज्यादा पोस्ट तो लिखते नहीं कि उन्हें इस तरह जमाकर सबको दिखाएं। तो क्यों नहीं सारी प्रविष्ठियों के टाइटल पाठकों को दिखा दिए जाएं! नमूना यहां देखिए-

इस तरह आप अपनी सभी प्रविष्ठियों के शीर्षकों को अपनी साइडबार में जगह दे सकते हैं। और तरीका भी एकदम आसान है। नीचे दिए गए कोड को देखिए।

<script language="JavaScript" src="http://itde.vccs.edu/rss2js/feed2js.php?src=http%3A%2F%2Ftips-hindi.blogspot.com%2Ffeeds%2Fposts%2Fdefault%3Fstart-index%3D1%26max-results%3D999&chan=n&num=999&desc=0&date=n&targ=n" type="text/javascript"></script><noscript><a href="http://itde.vccs.edu/rss2js/feed2js.php?src=http%3A%2F%2Ftips-hindi.blogspot.com%2Ffeeds%2Fposts%2Fdefault%3Fstart-index%3D1%26max-results%3D999&chan=n&num=999&desc=0&date=n&targ=n&html=y">View RSS feed</a></noscript>


इसे कॉपी कर लीजिए और नोटपेड या वर्ड फाइल में पेस्ट कर दीजिए। इसमें दो स्थानों पर tips-hindi.blogspot.com लिखा है, जिसे यहां लाल रंग से दिखाया गया है। है। आप इसके स्थान पर अपने ब्लॉग का यूआरएल बदल लीजिए। अब आपका कोड तैयार है (यह कोड केवल ब्लॉगर ब्लॉग के लिए ही है, वर्डप्रेस ब्लॉग के लिए नहीं)। इसे अपनी साइडबार में जगह देने के लिए निम्न तरीका अपनाइए।

1. अपने ब्लॉग के डेशबोर्ड में जाएं।

2. लेआउट पर जाएं।

3. एड ए गेजेट पर क्लिक करें।

4. जावास्क्रिप्ट/एचटीएमएल विकल्प चुनें।

5. अपनी इच्छानुसार टाइटल लिखें (या खाली भी छोड़ सकते हैं) और नीचे बॉक्स में ऊपर तैयार किया गया कोड पेस्ट कर दें।

6. परिवर्तन को सेव कर दें।

अब आपकी साइडबार में सारी प्रविष्ठियां एक साथ नजर आएंगी। इसे और भी आकर्षक और पाठक के लिए आसान बनाने के जानकारी अगली पोस्ट में दी जाएगी। तो अगली पोस्ट से कहीं आप बेखबर न रह जाएं।
हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, October 27

E-mail भेजें, साथ में सारे contact ID नहीं


दीपावली पर अपने दोस्तों को ई-मेल तो आप भेज ही रहे होंगे। दस, बीस या शायद सौ को एक ही संदेश। पर क्या आपको पता है कि जब आप एक साथ एक ही संदेश अनेक लोगों को भेजते हैं तो सभी के मेल-आईडी सभी के पास पहुंच जाते हैं। और ऐसे में कई बार इनका गलत इस्तेमाल भी हो सकता है। अब आप सोचेंगे कि एक-एक कर संदेश भेजे तो वक्त भी खूब लगेगा और मेहनत भी होगी। नहीं जी, आप संदेश एक ही बार में भेजिए, पर एक छोटी सी सावधानी बरतिए। इस सावधानी से आप अपने पूरे ग्रुप को एक ही मेल भेजिए और किसी को भी पता नहीं चलेगा कि आपने कितने लोगों को यह मेल भेजी है, या उनके ई-मेल पते क्या हैं?

आपके पास भी इसी तरह की ई-मेल आती होंगी, जिसमें किसी इनाम, दैवीय चमत्कार के कारण ई-मेल को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक फॉरवर्ड करने को कहा जाता है। ऐसी ही एक मेल की बानगी देखिए-




इस मेल के साथ मुझे 1000 से ज्यादा ई-मेल आईडी चस्पा मिले।



मतलब इन पतों पर यह मेल भेजी जा चुकी है और अब आगे जिसके पास भी यह मेल जाएगी, उसके पास ये पते आसानी से पहुंच जाएंगे। अब यदि यह मेल किसी स्पैमर यानी प्रचार वाली मेल भेजने वाली कंपनी के पास पहुंच गई तो इन सभी पतों पर स्पैम या जंक मेल आने लगेगी। तो दोस्तो, आप एहतियात बरतिए। जब भी कोई ग्रुप मेल भेजनी हो तो बस यह आसान सा तरीका अपनाइए। मेल भी एक बार में सब तक पहुंच जाएगी और पते भी गोपनीय रहेंगे।

तरीका है- To के आगे बॉक्स में अपना ही पता लिखिए। उसके बाद Add cc को छोड़ कर Add bcc पर क्लिक कीजिए।



अब इस बॉक्स में सभी पते (बीच में अल्पविराम {,}) के साथ भर दीजिए। कुछ इस तरह-



अब आप इस मेल को सेंड कर दीजिए। सभी के पास मेल पहुंचेगी और भेजने वाले और पाने वाले के रूप में केवल आपका ही ई-मेल पता प्रदर्शित होगा। यानी आपने न तो अपने साथियों को यह पता चलने दिया कि यह संदेश आप किस-किस को भेज रहे हैं और न ही आपने उनके पतों को किसी खतरे में डाला। मैं हमेशा ग्रुप मेल इसी तरह करता हूं (जब तक यह पेशेवर न हो और सभी को यह पता चलना जरूरी नहीं हो कि इसकी प्रति किसे भेजी गई), आप चाहें तो इस ब्लॉग को सब्स्क्राइब कर सकते हैं। वादा है कि आपका पता किसी के पास नहीं जाएगा और न ही कोई अनचाही मेल आपके पास आएगी। सब्स्क्राइब करने के लिए नीचे क्लिक कीजिए।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, October 25

काश, आइंस्टीन हिन्दी में लिख सकते !

मुझे नए जमाने के आइंस्टीन मिले हैं। वे बोर्ड पर कुछ भी लिख सकते हैं। आप जैसा चाहें वैसा।

देखिए मैंने उनसे लिखवाया कि - I and Hindi Blog Tips wish you a very HAPPY DIWALI. आप भी उनसे कुछ भी लिखवा सकते हैं।




बस इस साइट पर क्लिक कीजिए और अपना टेक्स्ट लिख दीजिए। उसके बाद यह मनोरंजक तस्वीर आपकी। इसे सेव कर आप इसे किसी भी तरह इस्तेमाल कर सकते हैं।

मन इसलिए दुखी है, क्योंकि आइंस्टीन महोदय यूनीकोड में लिखी जाने वाली हिन्दी नहीं समझ पा रहे हैं। शायद नए जमाने की खोज पर अभी उन्होंने अपना भेजा नहीं खपाया है इसीलिए कुछ आयत बनाकर दे रहे हैं।



चलिए रोमन में लिखकर ही काम चलाएं। साथ ही यहां आप अमरीकी राष्ट्रपति बुश, हैरी पॉटर के प्रोफेसर डम्बलडोर, नेपोलियन और कई अन्य हस्तियों की अपने मनपसंद कैप्शन वाली तस्वीरें भी हासिल कर सकते हैं।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Gmail : एक अकाउंट के दो पते


आपका जीमेल पर अकाउंट तो होगा ही। आखिर यह ब्लॉगर ब्लॉग को संचालित करने के काम भी तो आता है। क्या आप जानते हैं कि जिस दिन आपने अपना अकाउंट बनाया, उसी दिन आपको इस पते के दो ई-मेल आईडी मिले। क्या कहा, आपको केवल एक ही आईडी पता है और दूसरे की कोई जानकारी नहीं। कुछ समय पहले तक मुझे भी नहीं थी। लेकिन अब पता चला है कि हमें दो ई-मेल आईडी मिले हैं। जागो ग्राहक जागो...

ये दो आईडी हैं

yourname@gmail.com

yourname@googlemail.com


जी हां, ऊपर दिए गए दोनों पते आपके एक ही अकाउंट के हैं। और दोनों पर भेजी जाने वाली मेल सीधे ही आपके मेलबॉक्स तक पहुंचेगी। अब आप कहेंगे कि फिर दो अकाउंट होने के क्या फायदे? जी फायदे भी हैं, अभी बताते हैं।

इस नए ई-मेल आईडी का सबसे बड़ा फायदा है अनचाही मेल से छुटकारा। कई बार आपको उन लोगों को अपना मेल-पता देना होता है, जहां से आने वाली मेल को आप पसंद नहीं करते। जी हां, बात स्पैम की ही हो रही है। मान लीजिए आपको किसी वेबसाइट पर रजिस्टर करना है और वहां आपका मेल पता भरना जरूरी है। अगर आपने अपना पता दिया तो कई बार स्पैम या जंक मेल मिलने लगती हैं। तो ऐसे में आप वहां अपना yourname@googlemail.com पता दीजिए।

अब सवाल उठता है कि इस पते पर आने वाली मेल को अलग कैसे किया जाए, क्योंकि अभी तक तो आपको yourname@gmail.com और yourname@googlemail.com से मिलने वाली मेल एक ही जगह मिल रही हैं। इन्हें अलग करने का तरीका है फिल्टर का इस्तेमाल। सीखते हैं फिल्टर लगाने का तरीका-

1. जीमेल सैटिंग्स में जाने के बाद Filters पर क्लिक कीजिए।



2. Create a new filter पर क्लिक कीजिए




3. Has the words: के सामने मौजूद बॉक्स में yourname@googlemail.com पता भर दीजिए। शेष बॉक्स खाली छोड़िए।

4. Next Step पर क्लिक कीजिए।



5. Skip the Inbox (Archive it) विकल्प पर टिक लगाकर Create Filter पर क्लिक कीजिए।



अब आपका फिल्टर तैयार हो चुका है। अब आपके इनबॉक्स में yourname@gmail.com पते से आने वाली मेल तो दिखेगी, लेकिन yourname@googlemail.com पते से आने वाली नहीं। अगर आप yourname@googlemail.com से आने वाली मेल को देखना चाहते हैं तो All Mail पर क्लिक कीजिए।



मतलब स्पैम अब आपको नहीं दिखेगी और उनकी आड़ में आने वाली काम की मेल्स को जब चाहें देख सकते हैं।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Friday, October 24

यह तो अमिताभ बच्चन का पुराना वादा है..(Big B writes in Hindi)


आज सुबह जब रवि रतलामी जी की पोस्ट अंतत: अमिताभ बच्चन ने हिन्दी में ब्लॉग लिखा! पढ़ी तो मुंह से एक ही शब्द निकला- क्या हुआ तेरा वादा...। दरअसल रवि जी ने अमिताभ की जिस पोस्ट का जिक्र किया है, वैसी ही एक पोस्ट अमिताभ बच्चन ने इस साल 3 जुलाई को थी। इस पोस्ट को पढ़कर बिग बी के हिन्दी प्रेम पर मुझे काफी खुशी हुई थी और इसे मैंने अपने ब्लॉग नेटशाला पर कुछ इस तरह पेश किया था।

खैर, जो भी हो, खुशी इस बात की है कि अमिताभ बच्चन ने अपना वादा पूरा भले ही न किया हो, दोहराया जरूर है। इसका मतलब वे अपना वादा नहीं भूलते। काश अमिताभ मेरी यह पोस्ट पढ़ लें और तुरंत हिन्दी में लिखने लगें।

अपडेट- अरे वाह! अपने अमिताभ बच्चन जी भी अब हिन्दी ब्लॉगर बन गए हैं। यकीन नहीं होता- देखिए (धन्यवाद रवि रतलामी जी)

Thursday, October 23

चिट्ठाजगत पर रेंक कैसे सुधारें?


हिन्दी ब्लॉग संकलकों में धड़ाधड़ महाराज यानी चिट्ठाजगत का खास स्थान है। यहां विभिन्न हिन्दी चिट्ठों को श्रेणीवार दिखाया जाता है। ऐसा ब्लॉगवाणी और नारद जैसे दूसरे संकलकों में भी होता है, फिर चिट्ठाजगत में खास क्या है? खास यह है कि यह हर चिट्ठे के साथ उसका सक्रियता क्रम भी दिखाता है। कुछ इस तरह-



आपको यह जानकर खुशी होगी कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स भी चिट्ठाजगत पर शीर्ष सौ हिन्दी चिट्ठों में शामिल हो गया है। फिलहाल इसका ताजा सक्रियता क्रम है-

क्या आपका चिट्ठा भी चिट्ठाजगत पर पंजीकृत है? अगर नहीं तो इस पोस्ट पर जाइए। क्या आप चाहते हैं कि चिट्ठाजगत पर अपना सक्रियता क्रम बढ़ाएं। अगर हां, तो नीचे दी गई जानकारी को ध्यान से पढ़िए।

चिट्ठाजगत का सक्रियता क्रम नीचे दी गई बातों पर निर्भर करता है-

1. आपके चिट्ठा लिखने की आवृति क्या है।
2. आपने आखरी लेख कब लिखा।
3. आपके लेख का उदाहरण कितने चिट्ठों की कितनी प्रविष्टियों में दिया गया। ध्यान रहे "उदाहरण" लेख feed में अवतरित होता हो। इसे चिट्ठाजगत पर हवाले कहा जाता है।
4. "पसंदीदा चिट्ठे", "पसंदीदा लेख", "चिट्ठे सूचक", "सांकेतिकशब्द सूचक" सूची में आपको कितने प्रयोक्ताओं ने सूचीबद्ध किया है।


अब ऊपर दी गई चीजों को आसान शब्दों में समझते हैं। सक्रियता क्रम बढ़ाने का सबसे असरदार नुस्खा है कि आप नियमित लिखें। मतलब आप जितनी ज्यादा पोस्ट लिखेंगे, चिट्ठे का सक्रियता क्रम उतना ही सुधरता जाएगा।

अब आते हैं हवाले पर। जब आप किसी ब्लॉग या उसकी किसी पोस्ट का संदर्भ अपनी पोस्ट में देते हैं तो उसके साथ एक लिंक भी देते हैं। चिट्ठाजगत का सूत्र इसी संदर्भ को पढ़ता है और उसे हवाले के रूप में पेश करता है। मतलब यह है कि अगर आपके चिट्ठे को दूसरे ब्लॉगर अपनी पोस्ट में (याद रखें साइडबार में नहीं) जितने ज्यादा लिंक देंगे, आपका सक्रियता क्रम उतना ही सुधरता जाएगा।

तीसरी बात है "पसंदीदा चिट्ठे", "पसंदीदा लेख", "चिट्ठे सूचक", "सांकेतिकशब्द सूचक" के बारे में। चिट्ठाजगत पर अकाउंट बनाने के बाद आप किसी भी चिट्ठे को पसंद कर सकते हैं। उसके लेख को पसंद कर सकते हैं। उसकी पोस्ट अपने खाते में मंगा सकते हैं आदि। इस तरह से जितने ज्यादा पाठक आपके चिट्ठे और पोस्ट को पसंद करेंगे आपका चिट्ठा सक्रियता क्रम में उतना ही आगे बढ़ता जाएगा। क्या आपने हिन्दी ब्लॉग टिप्स को पंसदीदा चिट्ठों में शामिल किया। अगर नहीं तो यहां क्लिक कीजिए।

आपके चिट्ठे के सक्रियता क्रम में बढ़ोतरी की शुभकामनाओं के साथ--

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Wednesday, October 22

दो मिनट में अपना पेंसिल स्केच बनाइए (befunky)


ज़रा इस तस्वीर पर गौर कीजिए। जी हां, यह मेरा पेंसिल स्केच है। जीटॉक और ऑरकुट पर मुझसे संपर्क रखने वाले साथी इसके बारे में मुझसे अक्सर पूछा करते हैं। कैसे बनाया, किसने बनाया और मेरा जवाब होता है कि मेरी गर्लफ्रेंड ने। मैं झूठ नहीं बोल रहा हूं। मेरा पीसी मेरे लिए गर्लफ्रेंड जैसा ही है और इसे मेरे पीसी ने ही बनाया है। वो भी दो मिनट के समय में। कैसे? यह एक वेबसाइट का कमाल है। यहां आप आसान से कमांड देकर किसी भी तस्वीर का कार्टून स्केच तैयार कर सकते हैं। या वेब के विभिन्न फोरम के लिए अपना अवतार भी बना सकते हैं। आइए जानते हैं इस वेबसाइट के बारे में-

यह वेबसाइट है बीफंकी। जैसे ही आप इसके कार्टूनाइजर ऑप्शन पर जाते हैं तो यह आपसे आपकी एक तस्वीर मांगता है। वह तस्वीर या तो आपके कंप्यूटर की डिस्क में सेव होनी चाहिए या वेबकैम से इसे अपलोड किया जा सकता है या फिर यहां इंटरनेट पर मौजूद तस्वीर का लिंक दिया जा सकता है। इसके बाद इस वेबसाइट के ऑप्शंस पर आप आजमाइश कीजिए। मुझे तो यह वेबसाइट काफी पसंद है, क्योंकि यह मेरा फोटोशॉप पर जाने का सारा वक्त बचा लेती है। इस पर कुछ ही दिनों में वीडियो कार्टूनाइजर की सुविधा भी आने वाली है। चलिए देख लीजिए कि मैंने मेरी तस्वीर का पेंसिल स्केच किस मूल तस्वीर से तैयार किया।



हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Monday, October 20

इतना हिंदुस्तान देखा मैंने ! (Map of India)


क्या आप अपने ब्लॉग पाठकों को नक्शे के जरिए यह बताना चाहते हैं कि आप हिन्दुस्तान के कितने हिस्से में घूम चुके हैं? या फिर आपको कई बार पोस्ट की सामग्री के साथ हिंदुस्तान के मनचाहे राज्यों को हाइलाइट करने वाले नक्शे की जरूरत पड़ती है। अगर ऐसा है तो आप इस साइट की मदद से हिन्दुस्तानी नक्शे को मनचाहे तरीके से कस्टमाइज कर सकते हैं।

डाउवे ओसिंगा वेबसाइट के इस पेज पर आइए। यहां आपको भारत का नक्शा दिखेगा। नीचे राज्यों के नाम दिए गए हैं। मनचाहे तरीके से अपनी जरूरत के राज्यों पर टिक कीजिए। ये लाल रंग से हाइलाइट हो जाएंगे। इसके बाद नीचे दिए गए कोड का इस्तेमाल कर आप इस नक्शे को अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं। साथ ही आप दुनिया के नक्शे को भी अपने हिसाब से कस्टमाइज कर ब्लॉग पर लगा सकते हैं।


इस नक्शे के फायदे..


हिन्दी ब्लॉग जगत के साथी अपने बारे में संपूर्ण जानकारी प्रोफाइल पेज पर जमाते हैं। लेकिन इसका कोई जिक्र नहीं होता कि वे हिन्दुस्तान के कितने हिस्से में घूम चुके हैं। यात्रा पसंद करने वाले ब्लॉगर साथियों को चाहिए कि वे अपने ब्लॉग की साइडबार में यह भी प्रदर्शित करें कि हिन्दुस्तान के कितने हिस्से वे घूम चुके हैं।

इसके अलावा स्कूल में भूगोल की किताबों में भारत के विभिन्न हिस्सों को दिखाने वाले नक्शे खूब छपते थे। कई बार ब्लॉग की पोस्ट की सामग्री भी मांग करती है कि उसके साथ भारत के नक्शे में कुछ चुनिंदा राज्यों को हाइलाइट कर दिखाया जाए, जिससे पाठक को देखते ही पता चल जाए कि यहां किन राज्यों के विषय में बात हो रही है।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

की-बोर्ड का जुगाड़- on screen keyboard

इंदौर से अमर जी ने मेल पर यह सवाल पूछा है-

मेरे कंप्यूटर के की-बोर्ड पर अचानक चाय गिर गई। की-बोर्ड की कुछ कुंजियां काम नहीं कर रही थीं। मुझे काफी जरूरी काम था, लेकिन की-बोर्ड के सही तरीके से काम नहीं करने के कारण मैं काम नहीं कर सका। इंटरनेट कनेक्शन भी काम नहीं कर रहा था, जिससे मैं कोई ऑनलाइन की-बोर्ड इस्तेमाल कर पाता। क्या ऐसा कोई तरीका है, जो की-बोर्ड खराब होने की स्थिति में काम बना सके।


अमरजी, आपकी समस्या का हल खुद माइक्रोसॉफ्ट ने अपने ऑपरेटिंग सिस्टम में रखा है। यह जुगाड़ है ऑनस्क्रीन की-बोर्ड। अगर आपका की-बोर्ड ठीक से काम नहीं कर रहा है तो इसे चालू कर लीजिए। माउस का इस्तेमाल कीजिए और अपना काम करते जाइए। सीखते हैं इसे चालू करने का आसान सा तरीका-

1. स्टार्ट मैन्यू में जाएं

2. रन में जाएं



3. खुलने वाले बॉक्स में osk लिखें और ओके प्रेस कर दें





अब आपकी स्क्रीन पर इस तरह का वर्चुअल की-बोर्ड खुल चुका है।



हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Thursday, October 16

पीटर बाबा तो मजेदार हैं भई!


आपसे हिन्दी ब्लॉग टिप्स के विस्तार का वादा किया था। इसी कड़ी में आज एक अच्छी वेबसाइट की जानकारी आपके साथ शेयर कर रहा हूं। उम्मीद है कि आप लोग भी इस वेबसाइट को उतना ही पसंद करेंगे, जितना कि मैं। दरअसल यह वेबसाइट विशुद्ध मनोरंजन के लिए है और आपके परिजनों और मित्रों को कुछ दिन इंटरनेट पर व्यस्त रख सकती है। और इसके जरिए आप खुद को हीरो भी साबित कर सकते हैं।

हर किसी को अपने भूत, वर्तमान और भविष्य के बारे में जानने का शौक होता है। पीटरआसंर्स ऐसी ही एक वर्चुअल टैरो वेबसाइट है, जहां पीटर महोदय आपके बारे में कुछ भी बता सकते है। यकीन नहीं होता, जरा इस साइट पर भ्रमण कीजिए, इसे टटोलिए और फिर से यहां आ जाइए। हां, जवाब पाने के लिए यहां आपको पहले एक पिटिशन लिखनी होगी (तरीका उसी वेबसाइट पर दिया गया है), इसके बाद एंटर प्रेस कर अपना सवाल लिखना होगा।



अगर आपने पीटर में अपनी श्रद्धा रखी और पीटर महोदय आपसे खुश हो गए तो आपके सारे सवालों के जवाब दे देंगे। नहीं तो अपने जवाबों से आपको घुमाते रहेंगे।

पीटर मुट्ठी में

क्या कहा, पीटर ने आपके किसी सवाल का जवाब नहीं दिया। क्या अब आप इस पीटर को अपनी मुट्ठी में कर हर सवाल का जवाब पाना चाहते हैं। तो यह ट्रिक अपनाइए। जब आप पिटिशन लिखते हैं तो लिखते वक्त अगर डॉट की (.) प्रेस कर दी जाए तो पीटर काबू में आ सकता है। जैसे मान लीजिए मैंने लिखा Peter, .pink. answer तो स्क्रीन पर आपको और आपके दोस्तों को तो यही लिखा दिखेगा कि Peter, please answer और जैसे ही आप सवाल पूछेंगे कि आपने कौनसे रंग की टी-शर्ट पहनी है, जवाब आएगा pink । मतलब समझे.. दो डॉट्स के बीच अपने अभीष्ठ उत्तर को लॉक किया जा सकता है। यानी आसान सी ट्रिक अपनाइए, दोस्तों को पास बैठाइए, उनके सवालों के जवाब दीजिए और उन पर छा जाइए। हां लेकिन एक बात.. ज्यादा दिनों तक नहीं.. कुछ समय बाद उन्हें यह राज बता दीजिए। आखिर भावनाओं का भी तो कुछ महत्व है।
सर्च इंजनों पर थोड़ी चहलकदमी के बाद मैं कुछ ऐसी वेबसाइट्स और ढूंढ़ पाया जो पीटर की तर्ज पर चलती हैं, और उसी ट्रिक को अपनाती हैं। ये हैं आस्कजुड और मिस्टर अलमाइटी..

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Tuesday, October 14

तस्वीरों का ताला (No right click)


हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर टैक्स्ट चोरी रोकने वाले ताले को पाठकों ने खूब पसंद किया है। कुछ ब्लॉगर साथी अपने ब्लॉग पर एक्सक्लूसिव तस्वीरें लगाते हैं और चाहते हैं कि कोई उनकी तस्वीरों को कॉपी कर सेव नहीं कर पाएं। हाल ही मनुज जी ने भी पूछा था कि क्या कोई ताला इमेज चोरी को भी रोक सकता है? इसी कड़ी में हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने एक ताला तैयार किया है, जिसे चुटकियों में लगाकर आप अपने ब्लॉग की तस्वीरों को चोरी से बचा सकते हैं। दरअसल यह ताला राइट क्लिक को रोक देता है, जिससे तस्वीरों को दूसरी जगह सेव नहीं किया जा सकता। इसका उदाहरण आप ऊपर दी गई तस्वीर पर राइट क्लिक कर देख सकते हैं।

इस ताले को अपने ब्लॉग पर लगाने के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कीजिए। खुलने वाली विंडो में ब्लॉगर अकाउंट में लॉग-इन कीजिए और निर्देशों का पालन कीजिए। यह खुद-ब-खुद आपके ब्लॉग की साइडबार तक पहुंच जाएगा।


नोट- ब्लॉगर की डिफॉल्ट सैटिंग में आपकी तस्वीरें क्लिक होते ही नई विंडो में खुलती हैं। इसलिए काफी आसान है कि कोई भी इन्हें क्लिक कर नई विंडो में खोलकर कॉपी करें। इसके लिए आपको अपनी पोस्ट में से तस्वीर का हायपरलिंक हटाना होगा। इसकी तकनीक कुछ इस तरह है-

एडिट पोस्ट में जाइए और तस्वीर के कोड तक पहुंचिए। ये कुछ ऐसा दिखता है-



अब ध्यान से सलेक्ट किए गए हिस्से को डिलीट कर दीजिए। परिवर्तन को सेव करते ही आपकी तस्वीर नई विंडो में नहीं खुलेगी।

साथ ही यह भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि यह ताला इस बात की गारंटी नहीं है कि आपकी तस्वीर को कोई नहीं चुरा सकता। इसके भी तरीकें हैं लेकिन इतना जरूर है कि यह काम आसानी से नहीं होगा।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स की हर नई जानकारी अपने मेल-बॉक्स में मुफ्त मंगाइए!!!!!!!!!!

Saturday, October 11

हिन्दी ब्लॉग टिप्स का विस्तार!

कई दिनों से सोच रहा था कि क्यों न हिन्दी ब्लॉग टिप्स को "ब्लॉग टिप्स" की सीमा से कुछ ऊंचा उठाया जाए। यानी इस पर ब्लॉग के अलावा तकनीक के दूसरे पहलुओं की भी बात की जाए। अच्छी और काम की वेबसाइट, सॉफ्टवेयर, वेबटूल और इंटरनेट पर हो रहे कारनामों और कारस्तानियों की भी जानकारी बांटी जाए। मैं चाहता हूं कि वेबसाइट ऑफ द डे, साप्ताहिक ब्लॉग समीक्षा जैसी चीजें भी इसमें शामिल हों। कई साथियों की मांग थी कि कम्प्यूटर से जुड़े हर पहलू पर यहां चर्चा हो।

सच बताऊं तो हिन्दी ब्लॉग टिप्स की शुरूआत केवल ब्लॉग टिप्स के लिए ही हुई थी और आज तक यह अपने उद्देश्य का पालन पूरे मनोयोग से कर रहा है। पर अब मैं पसोपेश में हूं। इसके लिए दूसरा ब्लॉग शुरू करूं या हिन्दी ब्लॉग टिप्स को ही विस्तार दूं। हिन्दी ब्लॉग टिप्स आज केवल आपके सहयोग और बलबूते पर ही खड़ा है। इसलिए फैसला भी आपका ही होगा। आप मुझे बताइए कि क्या मुझे हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर तकनीक के दूसरे पहलुओं पर भी लिखने की इजाजत है?

Thursday, October 9

गागर में सागर (Drop Down Menu)

हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने एक और नायाब मशीन विकसित की है। यह मशीन है ड्रॉप डाउन मैन्यू बनाने की मशीन। ड्रॉप डाउन मैन्यू नहीं जानते? देखिए-



जी हां, यही है ड्रॉप डाउन मैन्यू। यह गागर में सागर इसलिए है, क्योंकि यह आपके ब्लॉग पर बहुत ही कम जगह घेरकर ज्यादा से ज्यादा सूचनाएं पाठकों तक पहुंचाता है। क्या आप भी अपने ब्लॉग की साइडबार में ऐसा ही ड्रॉप डाउन मैन्यू लगाना चाहते हैं?

आप चाहें तो इसमें अपने मित्रों के ब्लॉग की सूची लगाइए, या फिर अपने ही ब्लॉग की अच्छी प्रविष्ठियां। इसके लिए आप नीचे दिए गए फॉर्म की मदद ले सकते हैं। (हिन्दी में लिखने के लिए आप हिन्दी स्टोर की मदद ले सकते हैं।) फॉर्म भरिए और अंतिम विकल्प आपको सीधा आपके ब्लॉग तक पहुंचा देगा। लॉग-इन करते ही यह मैन्यू आपके ब्लॉग पर होगा-

Tuesday, October 7

मुफ्त में एसएमएस भेजिए और पाइए भी


गूगल इंडिया ने पिछले हफ्ते ही Google SMS Channels नाम की ऐसी निःशुल्क एसएमएस सेवा शुरू की है, जिससे न केवल आप अपने सेलफोन पर अपडेट्स पा सकते हैं, बल्कि अपने समूह को मुफ्त में एसएमएस भी भेज सकते हैं। आप चाहें तो न्यूज अपडेट्स, क्रिकेट स्कोर, शहर के मौसम की जानकारी और दूसरी जानकारियां भी एसएमएस पर मुफ्त में पा सकते हैं। सबसे अच्छी बात यह कि आपको ब्लॉग की नई पोस्ट की सूचना भी मिल सकती है।
हिन्दी ब्लॉग टिप्स के एसएमएस चैनल के लिए यहां क्लिक करें।



यहां एक बार अपने मोबाइल फोन को रजिस्टर कराएं और हिन्दी ब्लॉग टिप्स की मुफ्त अपडेट्स पाएं। यहां सर्च कर आप दूसरे चैनल भी ढूंढ़ सकते हैं। आप चाहें तो अपने ब्लॉग का चैनल भी बना सकते हैं। ब्लॉग नहीं चलाते तो भी अपना चैनल बनाकर अपने समूह के साथ एसएमएस के जरिए संपर्क में रह सकते हैं। सबसे खास बात यह कि अगर आप बार-बार डिस्टर्ब नहीं होना चाहते तो इसमे एसएमएस पाने का पसंदीदा वक्त भी तय कर सकते हैं। अगर आपकी जिज्ञासा अभी तक शांत नहीं हुई तो इस पेज को विजिट कीजिए। यहां गूगल एसएमएस चैनल से जुड़े सभी सवाल-जवाब मौजूद हैं। तो देरी किस बात की, हो जाइए शामिल Google SMS Channels में।

Monday, October 6

बेस्ट ब्लॉग का अवार्ड चाहिए क्या? लेकिन पहले Vote for me


चुनाव का समय है। ऐसे में दुनिया भर के ब्लॉग भी चुनाव से कैसे बच सकते हैं। जी नहीं, मैं किसी राजनीति में नहीं पड़ रहा हूं। मैं तो चर्चा कर रहा हूं ब्लॉगर्स च्वॉइस अवार्ड की। अगर आप सोचते हैं कि आपका ब्लॉग दुनिया में सर्वश्रेष्ठ (या सर्वनिकृष्ट) है तो आप भी कूद पड़िए मैदान में। ब्लॉगर्स च्वॉइस अवार्ड साइट पर ढेर सारे अवार्ड दिए जाने की घोषणा हो चुकी है। यह बात और है कि यहां तीन दर्जन श्रेणियों में से हिन्दी ब्लॉगर साथियों के लिए केवल एक ही कैटेगरी लागू है और वह है- Best Foreign Language Blog.

तो भई, मैंने भी आप सब ब्लॉगर साथियों का सहयोग मानते हुए पर्चा भर दिया है और आपसे अनुरोध कर रहा हूं कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स के लिए वोट कीजिए। तरीका बिल्कुल आसान है।

ऊपर दिए गए आइकन पर क्लिक कीजिए। इसके बाद vote पर क्लिक कीजिए। रजिस्ट्रेशन फॉर्म भरकर लॉग-इन कीजिए और वोट कर दीजिए। आप अपने ब्लॉग (या अन्य दूसरे अच्छे ब्लॉग्स) का यहां नामांकन भी कर सकते हैं। वैश्विक ब्लॉग जगत में अगर हिन्दी को सम्मान दिलाना है, तो आइए हम प्रण करते हैं कि इस कैटेगरी का विजेता कोई हिन्दी ब्लॉग ही होगा। आप अगर अपने या किसी दूसरे ब्लॉग को इस श्रेणी के लिए नामांकित कर रहे हैं तो उसकी सूचना टिप्पणी में दे दीजिए। मैं और यह पोस्ट पढ़ने वाले दूसरे पाठक जरूर उसके लिए भी वोट करेंगे। जय हिन्दी..

Saturday, October 4

यूं सजेगी आपकी पोस्ट (Dropletter)

स पोस्ट पर नज़र डालिए। इस पोस्ट का पहला शब्द बिल्कुल उसी तरह दिख रहा है, जैसे आप कोई मैगजीन पढ़ रहे हों। यानी पहले शब्द का रंग भी अलग औऱ आकार भी बड़ा। तकनीकी भाषा में इसे ड्रॉपकैप या ड्रॉपलैटर कहा जाता है। क्या आप भी अपने ब्लॉग पर इसे लगाना चाहते हैं। तरीका एकदम आसान है। कहानी, कविता और साहित्य की दूसरी विधाओं से जुड़े कई ब्लॉगर साथियों ने इस तरह की सजावट की फरमाइश की थी। अब आइए जानते हैं इसे लागू करने का आसान सा तरीका-

1. डैशबोर्ड पर जाकर संबंधित ब्लॉग के लेआउट पर क्लिक करें।

2. Edit HTML पर क्लिक करें। (एचटीएमएल कोड में परिवर्तन करने से पहले अपनी टेम्पलेट का बैकअप जरूर रखें। इससे आप अपनी मूल टेम्पलेट फिर से पा सकते हैं। टेम्पलेट को डाउनलोड करने का तरीका यहां दिया गया है।)

3. दिए गए कोड में यह ढूंढ़े-

]]></b:skin>

(सबसे अच्छा तरीका है कि Cont+F कुंजियों को दबाकर फाइंड बॉक्स खोलें और उसमें ऊपर दिया गया हिस्सा कॉपी-पेस्ट कर इसे ढूंढ़ें। )

4. इस हिस्से के ठीक ऊपर यह कोड पेस्ट कर दें।

.dropcaps {
float:left;
color: $headerBgColor;
font-size:100px;
line-height:80px;
padding-top:1px;
padding-right:5px;
}


तरीका इस इमेज में दिखाया गया है-



5. इसके बाद परिवर्तन को सेव कर दें।

6. अब जिस भी पोस्ट में आप ड्रॉपलैटर का इस्तेमाल करना चाहते हैं, उस पोस्ट की शुरूआत इस कोड के साथ करें-

<span style="color: #ff0000"><span class="dropcaps">पोस्ट का पहला अक्षर यहां लिखें</span></span>

याद रखें कि इसमें पोस्ट का पहला अक्षर लिख दें। और शेष हिस्सा इस कोड के तुरंत बाद लिखें। जैसे अगर आपकी पोस्ट का पहला शब्द "हिन्दी" है तो "हि" को इस कोड के भीतर लिखें और "न्दी" को कोड के तुरंत बाद। इसके बाद जैसे ही आप पोस्ट को प्रकाशित करेंगे तो यह आपको ड्रॉपलैटर के रूप में दिखने लगेगा। आप चाहें तो इस कोड के रंग में परिवर्तन कर सकते हैं। रंग कोड के लिए एचटीएमएल कलर चार्ट यहां दिया गया है।

हिन्दी ब्लॉग टिप्स चर्चा में (In media)


छह अप्रेल, 2008 को हिन्दी ब्लॉग टिप्स की शुरुआत के बाद से ही इसे पाठकों और मीडिया की भरपूर सराहना मिल रही है। जानते हैं कि हिन्दी ब्लॉग टिप्स के बारे में कहां क्या लिखा गया है-


हिन्दी मीडिया


हिन्दी मीडिया डॉट इन पर प्रकाशित होने वाली ब्लॉग समीक्षा में हिन्दी ब्लॉग टिप्स को जगह मिल चुकी है। समीक्षक रंजना भाटिया जी ने हिन्दी ब्लॉग टिप्स के बारे में कुछ यूं कहा है-




पूरी समीक्षा आप यहां पढ़ सकते हैं- ब्लॉग की समस्याओं को सुलझाने वाला ब्लॉग

रफ्तार

रफ्तार डॉट इन भी हिन्दी ब्लॉग टिप्स की समीक्षा कर चुका है। रफ्तार द्वारा प्रसारित न्यूजलैटर में हिन्दी ब्लॉग टिप्स की सराहना कुछ इस तरह की गई है-





रफ्तार रिव्यू

पूजा प्रसाद जी ने रफ्तार रिव्यू ब्लॉग पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स को चिट्ठाकारों का मददकार बताते हुए कुछ ऐसा कहा है-




पूरी पोस्ट के लिए पढ़ें- चिट्ठाकारों का मददगार

सारथी

शास्त्री जे सी फिलिप जी ने अपने ब्लॉग सारथी पर हिन्दी ब्लॉग टिप्स को तकनीकी जानकारी देने वाले ब्लॉग्स की सूची में शुमार किया है।

तस्लीम

ज़ाकिर अली 'रजनीश' जी ने अपनी पोस्ट तकनीक और ब्लॉग की दुनिया (ब्लॉग चर्चा) में हिन्दी ब्लॉग टिप्स के लिए कुछ ऐसा कहा है-




कुछ हम कहें

अनिता कुमार जी ने अपनी पोस्ट स्ट्रीट शॉट्स फ्रॉम जर्मनी ने हिन्दी ब्लॉग टिप्स की मदद को इन शब्दों में बयान किया है-



आप सभी का दिल से आभार। अगर आपके पास हिन्दी ब्लॉग टिप्स की मीडिया में चर्चा की कोई सूचना हो तो कृपया सूचित करें, जिससे उसे यहां जोड़ा जा सके।

Wednesday, October 1

आपके ब्लॉग की धाक (Blog Popularity)


क्या आप जानना चाहते हैं कि आपके ब्लॉग की इंटरनेट पर धाक कितनी है। मतलब यह कितना पॉपुलर है? ब्लॉग लिखते हैं तो उसकी वृद्धि और विकास को जानने का हक तो आपको है ही। आइए जानते हैं कुछ ऐसे तरीकों के बारे में, जो आपके ब्लॉग की रैंक को दिखाते हैं। आप इनके जरिए अपने ब्लॉग की रैंक का पता लगाएं, अपने प्रतिद्वन्द्वियों से उसकी तुलना करें और फिर तय करें कि आप मैदान में कहां खड़े हैं। आप चाहें तो अपने ब्लॉग की तुलना महज छह महीने के शिशु हिन्दी ब्लॉग टिप्स से भी करने को स्वतंत्र हैं।


गूगल पेज रैंक


यहां अपने ब्लॉग का नाम लिखिए और ब्लॉग की गूगल पेज रैंक पता कीजिए। यहां दस में से अंक दिए जाते हैं। अभी तक आप अंक नहीं जुटा पाए तो मायूस मत होइए। जल्द ही हिन्दी ब्लॉग टिप्स पर आपको पॉपुलेरिटी बढ़ाने की ट्रिक्स भी सिखाई जाएंगी। आप चाहें तो यहां से प्रमाण-पत्र हासिल कर इसे अपने ब्लॉग पर लगा सकते हैं।






एलेक्सा साइट ट्रेफिक रैंकिंग


इस लिंक पर जाइए। यह हिन्दी ब्लॉग टिप्स की एलेक्सा साइट ट्रेफिक रैंक है। इस साइट पर दिए गए स्थान पर अपने ब्लॉग का नाम लिखिए और जांचिए कि आपकी रैंक कितनी है। अगर आप हिन्दी ब्लॉग टिप्स की रैंक से आगे हैं तो बधाई!

आपके ब्लॉग की कीमत


बिजनेस अपॉर्चुनिटीज वेबलॉग आपके ब्लॉग की कीमत बता सकता है (डॉलर में)। इस लिंक पर जाइए और अपने ब्लॉग का पता भरकर ब्लॉग की कीमत जान लीजिए। अंतिम बार जब हिन्दी ब्लॉग टिप्स की कीमत जानी गई तो यह थी करीब आठ हजार डॉलर (पौने चार लाख रुपए)। बुरे नहीं है भाई!

टेक्नोरेटी पेज रैंक


इस लिंक पर क्लिक कीजिए। यह आपको हिन्दी ब्लॉग टिप्स की टेक्नोरेटी डिटेल्स तक लेकर जाता है। यहां आप इस ब्लॉग की रैंक भी देख सकते हैं। अगर आप अपने ब्लॉग की रैंक देखना चाहते हैं तो बस सबसे ऊपर एड्रेस बार में जहां tips-hindi लिखा है, उसकी जगह अपने ब्लॉग का नाम लिख दीजिए और एंटर कर दीजिए। अगर आपका ब्लॉग टेक्नोरेटी पर अभी तक शामिल नहीं है तो इसे आज ही शामिल कीजिए।

ब्लॉग ज्यूस केलकुलेटर


इस लिंक पर जाइए। अपने ब्लॉग का पता लिखिए, सही श्रेणी चुनिए और जानिए कि आपके ब्लॉग का न्यूट्रिशन फेक्ट कितना है। यह आपको 5 में से अंक देता है।

तो अब आपने अपने ब्लॉग की धाक तो जान ही ली होगी। आने वाली पोस्ट में आपको धाक बढ़ाने यानी पॉपुलेरिटी बढ़ाने के नुस्खे बताए जाएंगे। साथ ही ऐसी विजेट जिससे सीधे ही साइडबार में आपकी विजेट दिखती रहे। बस थोड़ा सा इंतजार!

Blog Horoscope । जानिए अपना ब्लॉग भविष्यफल


आपका दिन कैसा होगा? जानने के लिए आप भविष्यफल तो देखते ही होंगे। हिन्दी ब्लॉग टिप्स ने अब ब्लॉग भविष्यफल बताना शुरू किया है। साइडबार में देखिए। आपको आपका आज का ब्लॉग भविष्यफल दिखाई दे रहा होगा। आप इसे अपने ब्लॉग पर भी अपने पाठकों की सेवा में लगा सकते हैं।

इसे लगाना काफी आसान है। बस नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कीजिए। अपने ब्लॉगर अकाउंट में साइन-इन कीजिए और निर्देशों का अनुसरण कीजिए। उसके बाद यह ब्लॉग भविष्यफल विजेट आपके ब्लॉग की साइडबार में होगा। (नोट- यह भविष्यफल न तो ग्रह-गोचरों की दशा पर आधारित है और न ही इसे किसी अंक ज्योतिष ने तैयार किया है। यह पूर्ण रूप से मनोरंजन के उद्देश्य को लेकर तैयार किया गया है।)